Sunday, September 26, 2021
Homeराजनीतिमेरा 'हिंदुत्व' भाजपा के 'हिंदुत्व' से अलग, मुझे ये सब नहीं सिखाया गया: उद्धव...

मेरा ‘हिंदुत्व’ भाजपा के ‘हिंदुत्व’ से अलग, मुझे ये सब नहीं सिखाया गया: उद्धव ठाकरे

"यह हिन्दुत्व मेरे पिता द्वारा सिखाया गया नहीं है। हिन्दुत्व के संदर्भ में गलतफहमी फैलाकर अथवा दुरुपयोग करके सत्ता हासिल करना मेरा हिन्दुत्व नहीं है।"

महाराष्ट्र की सत्ता पर आसित होने के लिए अपनी कट्टर हिंदुत्व की छवि से समझौता कर कॉन्ग्रेस, एनसीपी के साथ गठबंधन करने वाले शिवसेना प्रमुख और वर्तमान में राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भाजपा पर निशाना साधने के लिए अपने हिंदुत्व को भाजपा के हिंदुत्व से अलग बताया है। उन्होंने बुधवार को कहा कि धर्म का इस्तेमाल करके सत्ता कब्जाना उनके हिंदुत्व का हिस्सा नहीं है।

सीएम उद्धव ठाकरे ने अपनी पार्टी की तुलना भाजपा से करते हुए कहा, “हमारे सोचने का तरीका एक सा नहीं है। मैं एक अशांत हिंदू राष्ट्र नहीं चाहता। धर्म को इस्तेमाल करके सत्ता हासिल करना मेरे हिंदुत्व का हिस्सा नहीं है। मैं ऐसे हिंदू राष्ट्र की परिकल्पना नहीं करता।”

इसके बाद वे मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहते हैं कि ऐसा हिन्दू राष्ट्र वे स्वीकार नहीं करेंगे। क्योंकि उनके लिए हिन्दू राष्ट्र की व्याख्या अलग है। उनका कहना है, “यह हिन्दुत्व मेरे पिता द्वारा सिखाया गया नहीं है। हिन्दुत्व के संदर्भ में गलतफहमी फैलाकर अथवा दुरुपयोग करके सत्ता हासिल करना मेरा हिन्दुत्व नहीं है।”

भाजपा के साथ एक लंबे वक्त तक गठबंधन में रहने वाले शिवसेना दल के प्रमुख ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि वे हर समय कहते हैं कि हिंदू राष्ट्र होना चाहिए, लेकिन आज लोग एक दूसरे को मार रहे हैं और देश में अशांति का माहौल है। ये उनका हिंदुत्व नहीं है। यह वह नहीं है, जो सिखाया गया है। उनके मुताबिक जिन लोगों ने सत्ता हथियाने के लिए हिंदुत्व की गलत व्याख्या की, वे हिंदुत्व के हिमायती नहीं हैं।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले एनआरसी का पुरजोर विरोध कर उद्धव ठाकरे ने इस मामले पर अपना पक्ष साफ किया था। मगर, अब एक बार फिर उन्होंने ‘सामना’ को दिए साक्षात्कार में इस मुद्दे पर अपना बयान दिया है। उनका कहना है कि कि वो प्रदेश में किसी कीमत पर एनआरसी लागू नहीं होने देंगे। क्योंकि इसमें मुस्लिमों के साथ हिंदू भी पीसे जाएँगे।

इसके बाद उन्होंने इस साक्षात्कार में सीएए को लेकर अपना पक्ष साफ किया है। यहाँ सीएए का बचाव करते हुए कहा कि सीएए लोगों से उनके नागरिक अधिकारों को नहीं छीनता हैं। उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून में नागरिका छीनने की बात नहीं है, बल्कि दूसरे मुल्कों से सताए गए अल्पसंख्यकों नागरिकता देने का प्रावधान है।

ठाकरे सरकार लाएगी मुस्लिमों के लिए आरक्षण, MVA के न्यूनतम कार्यक्रम का हिस्सा: कॉन्ग्रेस नेता असलम शेख

JNU हमला 26/11 की तरह, गुंडों को आतंकवादी बोला जाए: ठाकरे पिता-पुत्र ने चली कॉन्ग्रेस की चाल

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PFI के 6 लोग… ₹28 लाख की वसूली… खाली कराना था 60 परिवार, कहाँ से आए 10000? – असम के दरांग में सिपाझार हिंसा...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने सिपाझार हिंसा के पीछे PFI के होने की बात कही। 6 लोगों ने अतिक्रमणकारियों से 28 लाख रुपए वसूले थे।

केरल: CPI(M) यूथ विंग कार्यकर्ता ने किया दलित बच्ची का यौन शोषण, वामपंथी नेताओं ने परिवार को गाँव से बहिष्कृत किया

केरल में DYFI कार्यकर्ता पर एक दलित बच्ची के यौन शोषण का आरोप लगा है। बच्ची की उम्र मात्र 9 वर्ष है। DYFI केरल की सत्ताधारी पार्टी CPI(M) का यूथ विंग है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,375FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe