सिद्धू ने वायु सेना से पूछा, ‘पेड़ उखाड़ने गए थे क्या?’

सिद्धू पंजाब की कॉन्ग्रेस सरकार में मंत्री हैं। पुलवामा हमले के बाद उनके बयान को लेकर सोशल मीडिया से लेकर पंजाब विधानसभा तक- हर जगह विरोध प्रदर्शन हुए थे।

नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर से विवादित बयान देकर भारत द्वारा पाकिस्तान स्थित आतंकी कैम्पों पर की गई एयर स्ट्राइक का राजनीतिकरण करने की कोशिश की है। इस से पहले पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान का बचाव कर वो लोगों के निशाने पर आ चुके हैं। अबकी नवजोत सिंह सिद्धू ने एक तरह से भारतीय वायु सेना की क्षमता का भी अपमान किया है। आज सोमवार (मार्च 3, 2019) को किए गए एक ट्वीट में सिद्धू ने कहा:

“300 आतंकी मारे गए। हाँ या नहीं? तो इसका क्या उद्देश्य था? आप आतंकियों को मार गिराने गए थे या पेड़ों को? क्या यह चुनावी हथकंडा है? विदेशी शत्रु से लड़ने के नाम पर हमारे लोगों से छल हुआ है। सेना का राजनीतिकरण बंद कीजिए। ऊँची दुकान-फीका पकवान।”

नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब की कॉन्ग्रेस सरकार में मंत्री हैं। पुलवामा हमले के बाद उनके बयान को लेकर सोशल मीडिया से लेकर पंजाब विधानसभा तक- हर जगह विरोध प्रदर्शन हुए थे। जनता के आक्रोश को देखते हुए सोनी चैनल ने उन्हें कॉमेडी कार्यक्रम ‘दी कपिल शर्मा शो’ से हटा दिया था। वहीं अब ख़बरें आ रही हैं कि लोगों का गुस्सा कम होते ही सिद्धू की शो में वापसी कराई जाएगी। इस शो के प्रोड्यूसर सलमान ख़ान हैं। कहा जा रहा है कि सिद्धू के साथ चैनल ने कभी करार आधिकारिक तौर पर ख़त्म ही नहीं किया था, बल्कि सिर्फ़ उन्हें शो से बहार रखा गया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

नवजोत सिंह सिद्धू एयर स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले अकेले नेता नहीं है। कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भी एयर स्ट्राइक के सबूत दिखाने की माँग की है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि जिस तरह अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद सबूत जारी किए गए थे, कुछ ऐसा ही भारत सरकार को भी करना चाहिए। ज्ञात हो कि पुलवामा हमले के बाद भारत द्वारा आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर किए गए एयर स्ट्राइक के बाद 300 आतंकियों के मारे जाने की बात सामने आई।

अमित शाह ने एक बयान में 250 आतंकियों के मारे जाने की बात कही थी। इसके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने उन पर निशाना साधते हुए पूछा कि क्या शाह के मुताबिक़ सेना झूठ बोल रही है? कवि कुमार विश्वास ने एयर स्ट्राइक का सबूत माँगने वालों को अपने अंदाज में जवाब देते हुए लिखा- “सैनिक के लिए शत्रु पर आक्रमण उसके पराक्रम-प्रदर्शन की सौभाग्य-रात्रि होती है! ऐसी आत्म-दीपित “सुहागरातों” के सबूत न तो माँगे जाते है और न ही दिए जाते हैं! कुछ महीनों में ये जगभर को स्वयं ही ज्ञापित हो जाते हैं

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी
कमलेश तिवारी की हत्या के बाद एक आम हिन्दू की तरह, आपकी तरह- मैं भी गुस्से में हूँ और व्यथित हूँ। समाधान तलाश रहा हूँ। मेरे 2 सुझाव हैं। अगर आप चाहते हैं कि इस गुस्से का हिन्दुओं के लिए कोई सकारात्मक नतीजा निकले, मेरे इन सुझावों को समझें।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

105,514फैंसलाइक करें
19,261फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: