Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतिसिद्धू मूसेवाला के परिजनों से मिले नवजोत सिंह सिद्धू, गाड़ियों का दिखा लंबा काफिला:...

सिद्धू मूसेवाला के परिजनों से मिले नवजोत सिंह सिद्धू, गाड़ियों का दिखा लंबा काफिला: जेल से निकलते ही एक्टिव, कर्नाटक भेज सकती है पार्टी

जेल से निकलते ही नवजोत सिंह सिद्धू ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा है कि लोकतंत्र जंजीरों में कैद है और देश की संस्थाएँ गुलाम बन चुकी हैं।

नवजोत सिंह सिद्धू के जेल से निकलने के बाद पंजाब की सियासत गर्म हो गई है, खासकर कॉन्ग्रेस पार्टी के भीतर हलचल तेज है। सोमवार (3 अप्रैल, 2023) को पंजाब कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने गायक सिद्धू मूसेवाला के परिजनों से मुलाकात की। सिद्धू मूसेवाला की हत्या को लगभग एक साल हो चुके हैं। नवजोत मनसा जिले में उनके माता-पिता से मिले। उनके साथ गाड़ियों का एक लंबा काफिला साथ था।

नवजोत सिंह सिद्धू पटियाला स्थित अपने आवास से वहाँ पहुँचे थे। जब वो दोपहर के सवा 2 बजे मूसा गाँव में पहुँचे, तब उनके साथ कॉन्ग्रेस के कई नेता भी थे। 1988 में एक हत्या के मामले में वो दो दिन पहले ही 1 साल जेल की सज़ा काट कर निकले हैं। सिद्धू मूसेवाला ने जब कॉन्ग्रेस जॉइन की थी, तब नवजोत सिंह सिद्धू ही प्रदेश अध्यक्ष थे। जेल से निकलते ही नवजोत सिंह सिद्धू ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा है कि लोकतंत्र जंजीरों में कैद है और देश की संस्थाएँ गुलाम बन चुकी हैं।

साथ ही उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि पंजाब में राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए एक साजिश चल रही है। हालाँकि, पंजाब कॉन्ग्रेस सिद्धू को लेकर काफी सतर्क है। पार्टी आलाकमान की योजना है कि कर्नाटक के विधानसभा चुनाव में रैलियों के लिए उनका इस्तेमाल किया जाए। नवजोत सिंह सिद्धू क्रिकेटर, क्रिकेट कमेंटेटर और कॉमेडी शो का हिस्सा भी रहे हैं। पंजाब में कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजा वड़िंग ने कहा है कि सिद्धू का सार्वजनिक जीवन में फिर से स्वागत है।

उन्होंने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू को पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति का हिस्सा बनाया जाएगा। अब जब सूरत की अदालत ने राहुल गाँधी को जमानत दे दी है, पार्टी में सिद्धू का क्या रोल है इस पर जल्द ही मंथन होना है। बता दें कि नवजोत सिंह सिद्धू की अनुपस्थिति में उनकी पत्नी नवजोत कौर राहुल गाँधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का हिस्सा बनी थीं। जालंधर में उपचुनाव होने हैं, उससे पहले पार्टी सिद्धू और अन्य पंजाब कॉन्ग्रेस के नेताओं को एक मंच पर लाना चाहती है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -