Thursday, April 18, 2024
Homeराजनीति₹25000 करोड़ के बैंक घोटाले में फॅंसे अजित पवार हुए इमोशनल, राजनीति से संन्यास...

₹25000 करोड़ के बैंक घोटाले में फॅंसे अजित पवार हुए इमोशनल, राजनीति से संन्यास के दावों पर नहीं तोड़ी चुप्पी

पवार परिवार में टकराव की खबरों को अजित ने किया खारिज। विधायकी छोड़ने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं से मॉंगी माफी। कहा- शरद पवार की वजह से डिप्टी CM बना, वे मेरे कारण इस उम्र में बदनामी झेल रहे।

महाराष्ट्र के महत्वपूर्ण सियासी परिवार का राजनीतिक ड्रामा हर बीतते पल के साथ नया मोड़ ले रहा है। अपने इस्तीफे पर रहस्यमयी चुप्पी साधने वाले अजित पवार शनिवार को आखिरकार मीडिया के सामने आए। विधायक पद से इस्तीफा देने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं और जनता से माफ़ी माँगी।

महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने अंतःकरण की आवाज़ सुन कर इस्तीफा दिया है, क्योंकि उनके चाचा शरद पवार का नाम इस घोटाले में घसीटा जा रहा है। बता दें कि 25,000 करोड़ रुपए के घोटाले में ईडी ने शरद और अजित के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है।

अजित पवार ने परिवार में किसी तरह का टकराव होने की बात से इनकार कर दिया। महाराष्ट्र के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन ने आरोप लगाया था कि पवार परिवार में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है और इसीलिए अजित पवार ने इस्तीफा दे दिया है। उनका मानना था कि अजित इसीलिए नाराज़ हैं, क्योंकि उनकी पार्टी शरद पवार को बचाने के लिए तो आगे आई है लेकिन उनके लिए किसी नेता ने आवाज़ नहीं उठाई। हालाँकि, अब अजित ने इन आरोपों से इनकार किया है। हॉलांकि राजनीति से संन्यास लेने के दावों को लेकर उन्होंने स्पष्ट तौर पर कुछ भी नहीं कहा।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अजित पवार इमोशनल हो गए। उन्होंने कहा कि उनके चाचा शरद पवार का महाराष्ट्र कोऑपरेटिव घोटाले से दूर-दूर तक कुछ लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि बैंक या चीनी मिल से सम्बंधित किसी भी लेन-देन से शरद पवार का कोई नाता नहीं है। उन्होंने इस बात पर आपत्ति जताई कि इस मामले में 78 वर्षीय शरद पवार का नाम मीडिया में घूम रहा है। अजित पवार ने कहा:

“शरद पवार के कारण ही मैं उप-मुख्यमंत्री के पद तक पहुँचा। आज मेरे कारण इस उम्र में उनकी बदनामी हो रही है। मैं इस बात से क्षुब्ध हूँ। अगर मेरे क्रियाकलापों से पार्टी कार्यकर्ताओं को ठेस पहुँची है तो मैं इसके लिए उनसे माफ़ी माँगता हूँ। जहाँ तक घोटाले की बात है तो कई पार्टियों के नेता कोऑपरेटिव बैंक के बोर्ड के सदस्य थे और क़र्ज़ देने या फिर इससे सम्बंधित कोई भी निर्णय उन सब की सहमति के बाद ही लिया गया।”

उन्होंने पूछा कि बैंक के पास जब 12,000 करोड़ से ज्यादा का डिपॉजिट ही नहीं था तो 25,000 करोड़ रुपए के घोटाले होने की बात कहाँ से आ गई? इकनोमिक टाइम्स के सूत्रों के अनुसार, अजित पवार ने शरद पवार से मुलाक़ात करने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस की और उस बैठक में शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले भी उपस्थित थीं। इस बैठक में केवल पवार परिवार के सदस्य ही शामिल थे। इससे पहले एनसीपी मुखिया ने कहा था कि उनके ख़िलाफ़ लगे आरोपों से क्षुब्ध होकर अजित ने राजनीति से सन्यास लेने का निर्णय लिया है।

पवार सहित अन्य के ख़िलाफ़ एफआईआर बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के बाद दर्ज किया गया है। शरद पवार महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक के चेयरमैन थे और अजित पवार भी बोर्ड के सदस्य थे। आरोप है कि बैंक द्वारा चीनी मिलों को क़र्ज़ दिया गया और बाद में जब मिलें ठप्प होने लगीं तो उन्हें आने-पौने दाम में बेच डाला गया। कई अधिकारियों व नेताओं द्वारा इस मामले में अपने सगे-सम्बन्धियों व परिचितों को लाभ पहुँचाने का आरोप है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘रोहिणी आचार्य को इतने भारी वोट से हराइए कि…’: जिस मंच पर बैठे थे लालू, उसी मंच से राजद MLC ने उनकी बेटी को...

"आरजेडी नेताओं से मैं इतना ही कहना चाहता हूँ कि रोहिणी आचार्य को इतने भारी वोट से हराइए कि..."

ममता बनर्जी ने भड़काया, इसलिए मुर्शिदाबाद में हिंदुओं पर हुई पत्थरबाजी: रामनवमी हिंसा की BJP ने की NIA जाँच की माँग, गवर्नर को लिखा...

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में रामनवमी पर हुई हिंसा को लेकर भाजपा नेता सुवेंदु अधिकारी ने चुनाव आयोग और राज्यपाल को पत्र लिखा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe