Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतिगैर-गाँधी नेताओं ने भी किया है पार्टी का नेतृत्व, राहुल जाना चाहते हैं तो...

गैर-गाँधी नेताओं ने भी किया है पार्टी का नेतृत्व, राहुल जाना चाहते हैं तो जाने दो: कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता

कई बार गैर-गाँधी नेताओं ने पार्टी का नेतृत्व किया है। ऐसी स्थिति में हमें सिर्फ गाँधी परिवार के समर्थन की आवश्यकता होगी: सोनिया गाँधी के करीबी और कॉन्ग्रेस वर्किंग कमिटी के सदस्य तरुण गोगोई

कॉन्ग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद पर राहुल गाँधी बने रहेंगे या नहीं, यह एक ऐसा मुद्दा बनता जा रहा है जिसका शायद ही कोई अंत हो। अब असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने बुधवार (जून 26, 2019) को बयान दिया है कि यदि राहुल गाँधी कॉन्ग्रेस अध्यक्ष बने नहीं रहना चाहते हैं, तो उनका विकल्प बिना कोई देर किए ढूँढना चाहिए। कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर अड़े राहुल गाँधी ने बुधवार को अपने 51 सांसदों की माँग भी ठुकरा दी थी। राहुल ने कहा था कि वह अब पार्टी अध्यक्ष नहीं रहेंगे।

‘कई बार गैर-गाँधी नेताओं ने भी पार्टी का नेतृत्व किया’

तरुण गोगोई ने कहा, “इस समस्या का हल हम सभी को जल्द कर लेना चाहिए। हम चाहते हैं कि राहुल अध्यक्ष पद पर बने रहें। गाँधी परिवार आजादी के बाद से कॉन्ग्रेस का नेतृत्व कर रहा है। हालाँकि, कई बार गैर-गाँधी नेताओं ने भी पार्टी का नेतृत्व किया है, लेकिन ऐसी स्थिति में हमें गाँधी परिवार के समर्थन की आवश्यकता होगी।”

यूथ कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ताओं ने भी बुधवार को राहुल गाँधी के आवास के बाहर प्रदर्शन किया। उनकी माँग थी कि राहुल कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पद न छोड़ें। उन्होंने राहुल से अपना इस्तीफा वापस लेने की माँग की। हालाँकि, दूसरी ओर राहुल अपने फैसले पर अडिग नजर आ रहे हैं। पार्टी के 51 सांसदों ने भी उनसे इस्तीफा वापस लेने का आग्रह किया था।

इससे पहले कॉन्ग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने भी कहा था कि गैर-गाँधी भी कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष बन सकता है, लेकिन गाँधी परिवार को पार्टी में सक्रिय रहना होगा। अगर राहुल गाँधी कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष बने रहते हैं तो अच्छा रहेगा, लेकिन उनकी इच्छाओं का भी सम्मान किया जाना चाहिए। वे संकट के वक्त पार्टी को संभालने में मदद कर सकते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -