Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीतिपूर्व PM चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर BJP में शामिल, अगले साल पहुँच सकते...

पूर्व PM चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर BJP में शामिल, अगले साल पहुँच सकते हैं राज्यसभा

बताया जाता है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में अपनी परंपरागत सीट बलिया से टिकट नहीं मिलने के कारण नीरज समाजवादी पार्टी से नाराज चल रहे थे। उन्होंने कार्यकाल पूरा होने से पहले ही राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया है।

पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर आज (जुलाई 16, 2019) आधिकारिक रूप से भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। एक दिन पहले ही उन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा दिया था। राज्यसभा में वे
समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधित्व कर रहे थे।

उन्होंने भाजपा महासचिव भूपेंद्र यादव की उपस्थिति में पार्टी की सदस्यता ली। इसके बाद उन्होंने भाजपा के कार्यवाहक अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाकात की।

गौरतलब है 50 वर्षीय नीरज शेखर 2 बार लोकसभा के सदस्य रह चुके हैं। उन्होंने अपने पिता और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के निधन के बाद 2007 में बलिया सीट से पहली बार जीत हासिल की थी और बाद में वो 2009 में फिर से सांसद निर्वाचित हुए थे। 2014 में हार का मुँह देखने के बाद समाजवादी पार्टी ने उन्हें राज्यसभा के लिए नामित किया। उनका कार्यकाल 2020 में समाप्त होने वाला था, लेकिन उन्होंने पहले ही इस्तीफ़ा दे दिया। बताया जा रहा है भाजपा 2020 में उन्हें उत्तर प्रदेश से राज्यसभा भेज सकती है।

खबरों के मुताबिक वह 2019 के लोकसभा चुनाव में अपनी परंपरागत सीट बलिया से टिकट माँग रहे थे। कहा जा रहा है कि टिकट न मिलने से वह नाराज़ चल रहे थे। हालाँकि उन्होंने इस इस्तीफ़े के पीछे ऐसे कोई वजह खुलकर नहीं बताई है, अपने इस कदम के पीछे उन्होंने व्यक्तिगत कारणों का हवाला दिया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -