Wednesday, September 28, 2022
Homeराजनीति'जो 2014 में आए, वो 2024 तक रह पाएँगे' : शपथ लेने के बाद...

‘जो 2014 में आए, वो 2024 तक रह पाएँगे’ : शपथ लेने के बाद PM मोदी को घेरने चले नीतीश कुमार, लोग बोल- ‘पलटूराम, प्रधानमंत्री बनने की सोचना भी मत’

नीतीश ने सीएम पद की शपथ लेने के बाद विपक्ष को 2024 के लिए एकजुट होने को कहा है। उन्होंने ये भी कहा, "वह किसी पद के दावेदार नहीं हैं। लेकिन इतना है कि 2014 में जो आए वो 2024 के आगे रह पाएँगे या नहीं रह पाएँगे।"

बिहार में आठवीं दफा मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद नीतीश कुमार मीडिया से मुखातिब हुए। इस दौरान उन्होंने बताने की कोशिश की कि आखिर क्यों उन्होंने राजद का हाथ थामा। अपनी सफाई के साथ-साथ वह पीएम मोदी को निशाना बनाते भी दिखे। उन्होंने मीडिया को कहा कि 2014 में जो आए, क्या वो 2024 के आगे तक रह पाएँगे या नहीं।

उन्होंने बताया कि वो जब तक भाजपा के साथ थे तो उनकी पार्टी के लोगों को सहीं नहीं लग रहा था। उन्होंने कहा, “हम लोगों के लोगों ने उन्हें समर्थन दिया और उन लोगों ने जदयू को ही हराने की बात कर दी। उनसे पूछिए। हम तो मुख्यमंत्री भी नहीं बनना चाहते थे। पर कहा गया तो रुके। पर, पार्टी के सब लोगों के मन में यही बात थी। इसलिए हम लोग दोबारा वहीं पुरानी जगह चले गए, अब सब ठीक है।”

उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी और नरेंद्र मोदी के बीच फर्क बताते हुए कहा कि उन्हें अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में प्रेम मिला। उन लोगों को तब माना जाता था, प्रेम मिलता था, वह उसे नहीं भूल सकते। लेकिन इसके बाद जो कुछ भी हुआ वो दल के लोगों को नहीं अच्छा लगा।

पत्रकारों ने जब उनसे 2024 में उनके मिशन को लेकर सवाल किया तो उन्होंने कहा, “वह किसी पद के दावेदार नहीं हैं। लेकिन इतना तो कह दीजिए कि 2014 में जो आए वो 2024 के आगे रह पाएँगे या नहीं रह पाएँगे।”

उन्होंने सीएम पद की शपथ लेने के बाद विपक्ष को 2024 के लिए एकजुट होने को कहा है। वह ये नहीं मान रहे हैं कि वह विपक्ष की ओर से पीएम पद के दावेदार होना चाहते हैं। लेकिन उनकी बातों से साफ है कि वह 2024 की तैयारियों में लग गए हैं।

‘पलटूराम’ नीतीश कुमार!

बता दें कि नीतीश कुमार का मीडिया में सामने आया हाव-भाव देखने के बाद कहा जा रहा है कि उन्होंने ये बातें दिल से नहीं कहीं है, वो खुद भी जानते हैं कि उन्होंने गलत किया है और इसीलिए उनकी आवाज ऐसी है और वो खुद को हँसता दिखाकर चीजों को टालना चाहते हैं। नीतीश कुमार के फैसले के बाद लोग उन्हें पलटूराम कह रहे हैं। कहा जा रहा है कि नीतीश में कोई नैतिकता शेष नहीं है। कभी राजद ने उन्हें साँप, धोखेबाज जैसे शब्द कहे थे और आज वह उन्हीं के साथ हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल का एक दुर्गा पूजा पंडाल ऐसा भी: याद उनकी जो चुनाव बाद मार डाले गए, सुनाई देगी माँ की रुदन

दुर्गा पूजा में अलग-अलग थीम के पंडाल के तैयार किए जाते हैं। पश्चिम बंगाल में इस बार एक पूजा पंडाल उन लोगों की याद में तैयार किया गया है जो विधानसभा चुनाव के बाद राजनीतिक हिंसा में मार डाले गए थे।

मूर्तिपूजकों को जहाँ देखो, वहीं लड़ो-काटो… ऐसे बनाओ IED बम: PFI पर 5 साल का बैन क्यों लगा, पढ़िए इसके कुकर्मों की पूरी लिस्ट

भारत सरकार ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (PFI) और उससे जुड़ी 8 संस्थाओं पर बैन लगा दिया है। PFI की देश विरोधी गतिविधियों के कारण...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,749FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe