Monday, June 24, 2024
Homeराजनीतिलालू, राबड़ी, तेजस्वी... सब बने यहाँ से MLA, पर एक पुल न बना: 1975...

लालू, राबड़ी, तेजस्वी… सब बने यहाँ से MLA, पर एक पुल न बना: 1975 में नाव से गए थे नीतीश कुमार, 2022 में भी नाव ने ही लगाया पार

वैशाली में स्थित राघोपुर लालू यादव के परिवार का गढ़ रहा है। उनके बिहार पर 15 साल लगातार राज करने के बावजूद यहाँ एक अदद पुल तक नहीं बना।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव मंगलवार (30 अगस्त, 2022) को पूर्व मंत्री भोला राय को श्रद्धांजलि देने के लिए दियारा क्षेत्र में स्थित राघोपुर पहुँचे। लेकिन, इस यात्रा में कथित ‘सुशासन बाबू’ के सरकार की पोल भी खुल गई। राघोपुर किस कदर राज्य से कटा हुआ है, इसका खुलासा हो गया। असल में नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव स्टीमर पर सवार होकर वहाँ पहुँचे, वहीं उनकी गाड़ियाँ दूसरे नाव से। कारण, वहाँ जाने के लिए एक अदद पुल तक नहीं है।

‘Zee Hindustan’ के मैनेजिंग एडिटर शमशेर सिंह ने बताया कि 1975 में भी नीतीश कुमार हाजीपुर के राघोपुर जाने लिए नाव का ही इस्तेमाल करते थे, क्योंकि तब भी यहाँ पक्का पुल नहीं था। उन्होंने याद दिलाया कि अब 17 वर्ष सत्ता में रहने के बाद भी नीतीश कुमार उसी तरह से राघोपुर जा रहे हैं। आपको बता दें कि वैशाली में स्थित राघोपुर लालू यादव के परिवार का गढ़ रहा है। उनके बिहार पर 15 साल लगातार राज करने के बावजूद यहाँ एक अदद पुल तक नहीं बना।

1995 में राजद सुप्रीमो लालू यादव यहाँ से विधायक चुने गए थे, जो तब मुख्यमंत्री भी थे। 2000 में हुए उपचुनाव में उनकी पत्नी और तत्कालीन मुख्यमंत्री राबड़ी देवी यहाँ से चुन कर MLA बनीं। उसी साल हुए चुनाव में लालू फिर यहीं से जीत कर विधानसभा पहुँचे। 2000 में राबड़ी फिर जीतीं। 2005 में हुए 2 चुनावों में भी उन्होंने इस सीट पर कब्ज़ा बरकरार रखा। 2015 और 2020 में तेजस्वी यादव यहाँ से विधायक हैं।

इस सीट से एक ही परिवार के दो मुख्यमंत्री और एक उप-मुख्यमंत्री विधायक रहे, लेकिन एक पुल का सपना भी साकार न हो सका। वहीं मोदी सरकार ने गंगा पर पुल बनवाने का निर्णय लिया। ये एक रेल सह सड़क पुल होगा। यह पुल महात्मा गाँधी सेतु से लगभग 10 किलोमीटर पूरब गंगा नदी पर कच्ची दरगाह और बिदुपुर के बीच बन रहा है। इससे दियारा अंचल और राघोपुर को फायदा मिलेगा। राघोपुर की स्थिति ये है कि क्लास जाने वाले बच्चे भी पूरे सप्ताह स्कूल नहीं कर पाते।

रसोई गैस जैसी वस्तुओं की सप्लाई के लिए भी नदी पार करना पड़ता है। पटना से राघोपुर पहुँचने के लिए गाँधी सेतु और जेपी सेतु तो है, लेकिन इसके बावजूद अधिकतर रास्ता नाव से तय करना पड़ता है और पूरे साल भर दोनों पुलों से संपर्क नहीं रहता। लोजपा (राम विलास) सुप्रीमो चिराग पासवान भी भोला राय को श्रद्धांजलि देने नाव से ही पहुँचे थे। आपातकाल के दौरान जयप्रकाश नारायण की सभा भी राघोपुर में हुई थी। उसी दौर में नीतीश कुमार और उदय नारायण उर्फ़ भोला राय का परिचय हुआ था। राय ने 1980, 85 और 90 में बतौर विधायक यहाँ से हैट्रिक भी लगाई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार में EOU ने राख से खोजे NEET के सवाल, परीक्षा से पहले ही मोबाइल पर आ गया था उत्तर: पटना के एक स्कूल...

पटना के रामकृष्ण नगर थाना क्षेत्र स्थित नंदलाल छपरा स्थित लर्न बॉयज हॉस्टल एन्ड प्ले स्कूल में आंशिक रूप से जले हुए कागज़ात भी मिले हैं।

14 साल की लड़की से 9 घुसपैठियों ने रेप किया, लेकिन सजा 20 साल की उस लड़की को मिली जिसने बलात्कारियों को ‘सुअर’ बताया:...

जर्मनी में 14 साल की लड़की का रेप करने वाले बलात्कारी सजा से बच गए जबकि उनकी आलोचना करने वाले एक लड़की को जेल भेज दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -