Tuesday, October 19, 2021
HomeराजनीतिINX मीडिया: चिदंबरम की जमानत याचिका फिर हुई खारिज, नाराज होकर कहा- 'लगता है...

INX मीडिया: चिदंबरम की जमानत याचिका फिर हुई खारिज, नाराज होकर कहा- ‘लगता है मैं रंगा बिल्ला हूँ’

"कोर्ट ने जब इस अपराध की गंभीरता को स्वीकार कर लिया है तो मुझे कभी जमानत नहीं मिलेगी? यह ऐसा है जैसे कि मैं कोई रंगा- बिल्ला हूँ। अगर मुझे जमानत नहीं दी जाती है तो देश को गलत संदेश जाएगा।"

INX मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कॉन्ग्रेस नेता पी चिदंबरम को एक बार फिर से कोर्ट से बड़ा झटका लगा। ताजा जानकारी के अनुसार विशेष अदालत ने चिंदंबरम की याचिका पर बुधवार (नवंबर 27, 2019) को सुनवाई करते हुए एक बार फिर उसे खारिज कर दिया। इस दौरान कोर्ट ने चिदंबरम के तिहाड़ जेल में रहने की अवधि को भी 11 दिसंबर तक बढ़ा दिया।

उल्लेखनीय है, इससे पहले हुई सुनवाई में भी चिदंबरम की जमानत याचिका को खारिज किया गया था। साथ ही जाँच अधिकारियों को अनुमति दी गई थी कि वे 22-23 नवम्बर तक तिहाड़ जेल में उनसे पूछताछ कर सकते हैं। उस दौरान भी ED ने हाईकोर्ट के सामने तर्क देते हुए कहा था कि अगर पूर्व वित्तमंत्री को जमानत मिल जाती है तो वह सबूतों को नष्ट कर सकते हैं। इसके साथ ही वह गवाहों को भी प्रभावित कर सकते हैं। 

बता दें, लगभग 98 दिन हिरासत में बिताने के बाद अब पूर्व वित्त मंत्री परेशान हो चुके हैं। जिसके कारण उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में जजों के सामने अपनी याचिका फिर खारिज होने पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट की 3 जजों की पीठ से कहा, “हाई कोर्ट ने सबूतों से छेड़छाड़ और मेरे भाग निकलने के डर से मेरी जमानत याचिक खारिज कर दी है।”

जबकि, कॉन्ग्रेस नेता के वकील कपिल सिब्बल का कहना है कि हाईकोर्ट ने चिदंबरम के ख़िलाफ़ गंभीर आरोप होने के कारण उनकी बेल याचिका खारिज की है। ऐसे में अगर अदालत की गंभीर आरोप वाली दलील स्वीकार हो जाती है तो उन्हें कभी जमानत नहीं मिलेगी। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस दौरान चिदंबरम के लिए बहस करते हुए कपिल सिब्बल ने रंगा बिल्ला तक का उदाहरण दे डाला। उन्होंने कहा, “कोर्ट ने जब इस अपराध की गंभीरता को स्वीकार कर लिया है तो मुझे कभी जमानत नहीं मिलेगी? यह ऐसा है जैसे कि मैं कोई रंगा- बिल्ला हूँ। अगर मुझे जमानत नहीं दी जाती है तो देश को गलत संदेश जाएगा।”

यहाँ बता दें कि रंगा और बिल्ला बॉम्बे के 2 खतरनाक अपराधी थे।, जो ऑर्थर रोड से रिहा होने के बाद तुरंत दिल्ली आ गए थे और उन्होंने अगस्त 1978 में 2 किशोरों का अपहरण कर उनकी हत्या कर दी थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe