Saturday, July 24, 2021
Homeराजनीति'बेटियों के सामने पैंट उतार जय श्रीराम के नारे लगाने वाले, हस्तमैथुन करने वाले':...

‘बेटियों के सामने पैंट उतार जय श्रीराम के नारे लगाने वाले, हस्तमैथुन करने वाले’: योगी सरकार पर कॉन्ग्रेसी नेता के बोल

"कॉन्ग्रेस सिर्फ़ मजदूरों को अपने खर्च पर उनके घरों तक पहुँचाना चाहती थी। बिष्ट सरकार ने राजनीति शुरू की। भगवा लपेटकर नीच काम संघी ही कर सकते हैं। ये कब्र से निकालकर लाशों का बलात्कार करने वाले लोग हैं। बेटियों के सामने पैंट उतारकर जय श्रीराम के नारे लगाने वाले हस्तमैथुन करने वाले लोग हैं।"

कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया ने कल (मई 19, 2020) नैतिकता की हर सीमा पार करते हुए अपने एक ट्वीट में हिंदुओं की भावनाओं को खुलेआम ठेस पहुँचाई। अपने ट्वीट में पुनिया ने ‘संघियों’ को बलात्कारी बताया, श्रीराम के नाम का गलत इस्तेमाल किया और योगी सरकार की आलोचना करते हुए उनके लिए आपत्तिजनक शब्द लिखे।

पुनिया ने यूपी सरकार की आलोचना करते हुए लिखा, “कॉन्ग्रेस सिर्फ़ मजदूरों को अपने खर्च पर उनके घरों तक पहुँचाना चाहती थी। बिष्ट सरकार ने राजनीति शुरू की। भगवा लपेटकर नीच काम संघी ही कर सकते हैं। ये कब्र से निकालकर लाशों का बलात्कार करने वाले लोग हैं। बेटियों के सामने पैंट उतारकर जय श्रीराम के नारे लगाने वाले हस्तमैथुन करने वाले लोग हैं।”

इस ट्वीट के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर कॉन्ग्रेस नेता पंकज पुनिया की गिरफ्तारी को लेकर लगातार माँग की जाने लगी। हालाँकि, 19 मई की शाम किए गए इस ट्वीट को कॉन्ग्रेस नेता ने अपने सोशल मीडिया अकॉउंट से डिलीट कर दिया है। मगर, ट्वीट का स्क्रीनशॉट ट्विटर पर धड़ल्ले से शेयर किया जा रहा है।

यूजर्स न केवल पुनिया के ट्वीट को बकवास बता रहे हैं बल्कि ये भी पूछ रहे हैं कि आखिर इन्हें हिंदुओं की धार्मिक भावना को ठेस पहुँचाने की आजादी किसने दी?

बता दें कि यूपी के वकील प्रशांत पटेल उमराव ने तो पंकज पुनिया के ट्वीट के बाद सूचना भी दे दी है कि वे सीएम योगी व संघ को गाली देने व हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने के लिए पंकज पुनिया के ख़िलाफ़ यूपी पुलिस में शिकायत दर्ज करवा रहे हैं।

हिंदुत्व के मुद्दों पर अक्सर अपनी बेबाक राय रखने वाले पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ के ट्विटर अकॉउंट से भी पंकज पुनिया की भाषा पर बात रखी गई। उन्होंने लिखा, “इतनी गन्दी भाषा का प्रयोग वो भी सोशल मीडिया पर कैसे कोई कर सकता है! आखिर क्यों सत्ता के लिए ये लोग इस हद तक गिर रहे हैं कि भाषा की मर्यादा को भी भूल गए। इस हद तक नफरत सनातन के खिलाफ क्यों कर रहे हैं ये कॉन्ग्रेसी…?

एक यूजर पुनिया की गिरफ्तारी की माँग करते हुए लिखते हैं, “आप मोदी से नाखुश हो सकते हैं, आप योगी की नीतियों का विरोध कर सकते है, लेकिन इसका ये मतलब नहीं की भाजपा विरोध में आकर तुम्हारे जैसे दो कौड़ी के नेता हिन्दुओं की आस्था पर चोट पहुचाएँ, जेल के सलाखों के पीछे तुम जरूर आओगे लिख कर रख लो।”

वहीं दीपक कुमार नाम का यूजर सोशल मीडिया पर पुनिया के लिए लिखते हैं, “ये इंसान पंकज पुनिया राजनीति में अंधा होकर हिन्दुओं के प्रभु श्रीराम को लेकर भद्दी-भद्दी बातें कर रहा है, जिससे की हिन्दुओं की भावनाओं को ठेस पहुँची है। जल्द से जल्द कार्रवाई करके इसे जेल में डालें।”

ऐसे ही प्रभात अवस्थी लिखते हैं, ”बेटी का अपमान, बलात्कार से पीड़ित महिलाओं का अपमान और मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी का अपमान, यहाँ तक की भारत देश की संस्कृति का अपमान। किस हद तक गिर चुका है ये इंसान पंकज पुनिया… इससे भी ज्यादा शर्मनाक तो यह है कि कॉन्ग्रेस फिर भी इसके समर्थन में खड़ी है!”

गौरतलब है कि पंकज पुनिया का ये ट्वीट प्रियंका गाँधी और यूपी सरकार के बीच 1000 बसों को लेकर उठे विवाद के बाद आया। जहाँ पहले प्रियंका गाँधी ने यूपी सरकार से अनुमति माँगी कि वे 1000 बसें चलवाकर प्रवासी मजदूरों को घर भेजना चाहती हैं। लेकिन जब योगी सरकार ने उनके अनुरोध को स्वीकार कर लिया और सुरक्षा लिहाज से गाड़ियों का विवरण माँगा, तो प्रियंका गाँधी लेटरबाजी पर उतर आईं और बाद में ये भी पता चला कि जिन गाड़ियों का विवरण उन्होंने यूपी सरकार को भेजा, उनमें से कुछ ऑटोरिक्शा हैं और कुछ ब्लैकलिस्ट वाहन हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योगी सरकार के एक्शन के डर से 3 कुख्यात गैंगस्टर मोमीन, इन्तजार और मंगता हाथ उठाकर पहुँचे थाने, किया आत्मसमर्पण

मामला यूपी के शामली जिले का है। सभी गैंगस्टर्स ने कहा कि वो अपराध से तौबा कर भविष्य में अपराध न करने की कसम खाते हैं।

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,018FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe