Wednesday, July 28, 2021
Homeराजनीतिसाईं बाबा जन्मस्थान: शिरडी के दबाव में CM उद्धव ने वापस लिया बयान, कॉन्ग्रेस...

साईं बाबा जन्मस्थान: शिरडी के दबाव में CM उद्धव ने वापस लिया बयान, कॉन्ग्रेस विधायक ने कहा- जाऊँगा कोर्ट

कॉन्ग्रेस विधायक ने ये भी कहा कि अगर उद्धव ठाकरे उनकी बात नहीं सुनते हैं तो वो अदालत जाएँगे क्योंकि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि साईं बाबा का जन्म पाथरी में ही हुआ था। वहीं एनसीपी ने भी कहा है कि मुख्यमंत्री दोनों तरफ़ की बात सुनें।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर दिया गया अपना बयान वापस ले लिया है। ऐसा उन्होंने शिरडी में श्रद्धालुओं के विरोध प्रदर्शन के बाद किया। शिरडी को वर्षों से साईं बाबा का जन्मस्थान माना जाता रहा है लेकिन पाथरी के लोगों का मानना है कि बाबा का जन्म वहाँ हुआ था। मुख्यमंत्री उद्धव ने एक बयान में पाथरी को जन्मस्थान बता दिया। इसके बाद शिरडी में विभिन्न संगठनों ने बंद का आयोजन किया, जिसके बाद मुख्यमंत्री को अपने बयान से पीछे हटना पड़ा।

अब बयान वापस लेने के बाद शिवसेना प्रमुख फिर से घिर गए हैं क्योंकि कॉन्ग्रेस विधायक ने सीएम के निर्णय के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। पाथरी के विधायक सुरेश वारपुडकर ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री शिरडी के दबाव के आगे झुक गए हैं। उनका कहना था कि उद्धव को शिरडी और पाथरी से एक-एक प्रतिनिधिमंडल को बुला कर मामले पर विचार-विमर्श करना चाहिए था, फिर कोई फ़ैसला लेना चाहिए था। उन्होंने कहा कि पाथरी के विकास के लिए लिए 100 करोड़ रुपए की माँग की गई थी, जिसकी घोषणा भी हुई।

हालाँकि, कॉन्ग्रेस विधायक ने ये भी कहा कि अगर उद्धव ठाकरे उनकी बात नहीं सुनते हैं तो वो अदालत जाएँगे क्योंकि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि साईं बाबा का जन्म पाथरी में ही हुआ था। वहीं एनसीपी ने भी कहा है कि मुख्यमंत्री दोनों तरफ़ की बात सुनें। एनसीपी नेता बाबूजानी दुर्रानी ने कहा कि वो इस मामले में सीएम से मिलेंगे। वहीं शिवसेना भी पाथरी में बंद बुला रही है क्योंकि सांसद संजय जाधव ने कहा है कि साईं बाबा का जन्मस्थान पाथरी ही है। शिवसेना सांसद ने कहा कि अगर शिरडी ने सरकार पर दबाव बनाया है तो वो भी दबाव बनाने के लिए तैयार हैं।

शिवसेना की स्थानीय यूनिट पूरे पाथरी में और फिर परभनी में बंद बुलाने की योजना बना रहे हैं। शिरडी और पाथरी के बीच फँसे शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने अपना बयान क्या वापस लिया, पाथरी में उनकी पार्टी सहित अन्य सहयोगी दलों के नेता भी उनके ख़िलाफ़ खड़े हो गए हैं। शिरडी में कई दिनों तक व्यापक विरोध प्रदर्शन चला, जिसके बाद उद्धव को अपना बयान वापस लेना पड़ा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,526FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe