Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीति16 जनवरी अब 'नेशनल स्टार्ट-अप डे': Start Up India के 6 साल पूरा होने...

16 जनवरी अब ‘नेशनल स्टार्ट-अप डे’: Start Up India के 6 साल पूरा होने पर PM मोदी का ऐलान, पिछले साल रजिस्टर हुए 2.5 लाख ट्रेडमार्क्स

वर्ष 2013-14 में जहाँ 4 हजार पेटेंट्स को स्वीकृति मिली थी, वहीं पिछले वर्ष 28 हजार से ज्यादा पेटेंट्स, ग्रांट किए गए हैं। वर्ष 2013-14 में जहाँ करीब 70 हजार ट्रेडमार्क्स रजिस्टर हुए थे, वहीं 2020-21 में ढाई लाख से ज्यादा ट्रेडमार्क्स रजिस्टर किए गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने स्टार्ट-अप इंडिया (Start-Up India) के 6 साल पूरे होने के अवसर पर शनिवार (15 जनवरी, 2022) को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देश भर के युवाओं से बातचीत की।

इनोवेटिव युवाओं को बहुत-बहुत बधाई: पीएम

पीएम मोदी ने कहा, “देश के उन सभी स्टार्ट-अप्स को, सभी इनोवेटिव युवाओं को बहुत-बहुत बधाई देता हूँ, जो स्टार्ट-अप्स की दुनिया में भारत का झंडा बुलंद कर रहे हैं।” उन्होंने कहा कि स्टार्ट-अप्स का ये कल्चर देश के दूर-दराज तक पहुँचे, इसके लिए 16 जनवरी को अब नेशनल स्टार्ट अप डे (National Start-Up Day) के रूप में मनाने का फैसला किया गया है।

” स्टार्ट-अप्स को मजबूत करने के लिए सरकार कर रही बड़े बदलाव”

प्रधानमंत्री ने कहा “इस दशक को भारत का techade कहा जा रहा है। इस दशक में Innovation, entrepreneurship और start-up इकोसिस्टम को मजबूत करने के लिए सरकार जो बड़े पैमाने पर बदलाव कर रही है, उसके तीन अहम पहलू हैं। पहला, Entrepreneurship को, इनोवेशन को सरकारी प्रक्रियाओं के जाल से, bureaucratic silos से मुक्त कराना। दूसरा, इनोवेशन को प्रमोट करने के लिए institutional mechanism का निर्माण करना। और तीसरा, युवा innovators, युवा उद्यम की handholding करना।”

सरकार की प्राथमिकता, ज्यादा से ज्यादा युवाओं को मौका देना: PM

उन्होंने आगे कहा, “हमारा प्रयास, देश में बचपन से ही Students में innovation के प्रति आकर्षण पैदा करने, innovation को institutionalise करने का है। 9 हजार से ज्यादा अटल टिंकरिंग लैब्स, आज बच्चों को स्कूलों में innovate करने, नए Ideas पर काम करने का मौका दे रही हैं। चाहे नए drone rules हों, या फिर नई space policy, सरकार की प्राथमिकता, ज्यादा से ज्यादा युवाओं को innovation का मौका देने की है। हमारी सरकार ने IPR registration से जुड़े जो नियम होते थे, उन्हें भी काफी सरल कर दिया है।” साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि ये innovation यानि ideas, industry and investment का नया दौर है। आपका श्रम भारत के लिए है। आपका उद्यम भारत के लिए है। आपकी wealth creation भारत के लिए है, Job Creation भारत के लिए है।”

“स्टार्टअप ‘न्यू इंडिया’ का मुख्य आधार”


पीएम मोदी ने कहा कि देश के स्टार्टअप इंडस्ट्री में बड़ा बदलाव ला रहे हैं, इसलिए मैं मानता हूँ कि स्टार्टअप ‘न्यू इंडिया’ का मुख्य आधार बनने वाले हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2013-14 में जहाँ सिर्फ 4 हजार copyrights, ग्रांट किए गए थे, पिछले साल इनकी संख्या बढ़कर 16 हजार के भी पार हो गई है। वर्ष 2013-14 में जहाँ 4 हजार पेटेंट्स को स्वीकृति मिली थी, वहीं पिछले वर्ष 28 हजार से ज्यादा पेटेंट्स, ग्रांट किए गए हैं। वर्ष 2013-14 में जहाँ करीब 70 हजार ट्रेडमार्क्स रजिस्टर हुए थे, वहीं 2020-21 में ढाई लाख से ज्यादा ट्रेडमार्क्स रजिस्टर किए गए हैं।

प्रधानमंत्री ने युवाओं को सफलता के मंत्र भी दिए। उन्होंने कहा कि भारत के स्टार्ट-अप्स खुद को आसानी से दुनिया के दूसरे देशों तक पहुँचा सकते हैं। इसलिए आप अपने सपनों को सिर्फ लोकल ना रखें, ग्लोबल बनाएँ। उन्होंने कहा कि इस मंत्र, ‘let’s Innovate for India, innovate from India’ को याद रखिए।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -