Wednesday, November 30, 2022
Homeराजनीतिसैनिकों के साथ PM मोदी ने मनाई दिवाली: कहा- आप माँ भारती के कवच,...

सैनिकों के साथ PM मोदी ने मनाई दिवाली: कहा- आप माँ भारती के कवच, बताया देश में ही अब बन रहे अत्याधुनिक हथियार

नौशेरा में सैनिकों से मुलाकात के दौरान पीएम ने उन्हें मिठाई खिलाते हुए दिवाली की शुभकामनाएँ भी दीं और साथ ही साथ जोर जोर से भारत माता की जय के नारे भी लगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बार फिर अपनी दिवाली सीमा पर तैनात जवानों के साथ मनाई। वह ग्लासगो से भारत लौटने के बाद आज राजौरी के नौशेरा पहुँचे। वहाँ उन्होंने जवानों का मनोबल बढ़ाया और सेना को ही अपना परिवार बताया। सेना का आभार जताते हुए उन्होंने कहा कि जवान सीमा पर तैनात हैं इसलिए देश चैन की नींद सोता है। उन्हीं के कारण शांति है और सुरक्षा है। सेना के जवान माँ भारती का सुरक्षा कवच हैं। आज एक दिया जवानों की वीरता और शौर्य के लिए जलाया जाएगा।

प्रधानमंत्री ने जवानों के सामने उनके ही गौरवशाली इतिहास को याद किया और याद दिलाया कि जब दुश्मनों ने नौशेरा की जमीन पर कदम रखा तो कैसे उन्हें मुँहतोड़ जवाब देकर खदेड़ा गया। पीएम मोदी ने सैनिकों को बताया कि अब देश आत्मनिर्भरता की ओर आगे बढ़ते हुए यहीं अत्याधुनिक हथियार तैयार कर रहा है। उन्होंने सेना में महिलाओं की भागीदारी पर भी खुशी जताई।

उन्होंने गर्व से कहा कि भारत हजार साल पहले भी अमर था और हजार साल बाद तक अमर ही रहने वाला है। उन्होंने नौशेरा में जवानों से कहा कि इस ब्रिगेड ने सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान जो किरदार निभाया, उसने पूरे देश को गौरवान्वित किया।

पीएम ने बताया कि रक्षा बजट का करीब 65% खर्च देश के अंदर ही खरीद पर खर्च हो रहा है। आज देश के अंदर अर्जुन टैंक बन रहे हैं, तेजस जैसे एयरक्राफ्ट भी देश के अंदर बन रहे हैं। विजयदशमी के दिन 7 ‘डिफेंस कंपनियों’ को राष्ट्र को समर्पित किया गया है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने शांति भंग करने की काफी कोशिशें की गई लेकिन जवानों ने तब भी मुँहतोड़ जवाब दिया। नौशेरा में सैनिकों से मुलाकात के दौरान पीएम ने उन्हें मिठाई खिलाते हुए दिवाली की शुभकामनाएँ भी दीं और साथ ही साथ जोर जोर से भारत माता की जय के नारे भी लगे।

राजौरी क्यों है खास

बता दें कि पिछली कई बार की तरह इस बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीमा पर जवानों के साथ दिवाली मनाने का फैसला किया। लेकिन इस बार जगह राजौरी जिले का नौशेरा सेक्टर है जहाँ 1947 में पाकिस्तान की आड़ पाकर कबायलियों ने दिवाली के दिन ही सैंकड़ों (लगभग 30,000) लोगों (अधिकांश हिंदुओं और सिखों) को अपना निशाना बनाया था। मगर, तब वहाँ के स्थानीय लोगों और सेना ने इस हमले का बड़े साहस के साथ सामना किया और अंतत: 12 अप्रैल 1948 को ये क्षेत्र कबायलियों के कब्जे से वापस ले लिया गया। अब हर साल दिवाली पर उन सभी बलिदानियों को श्रद्धांजलि दी जाती है जिन्होंने उस लड़ाई में डटकर साहस का परिचय दिया। पीएम खुद 3 साल में दूसरी बार दिवाली पर राजौरी आए और सैनिकों के साथ दिवाली बनाई।

साल 2014 में पीएम मोदी ने लद्दाख में विश्व के सबसे ऊँचे युद्ध क्षेत्र सियाचिन में दिवाली मनाई थी। इसके बाद उन्होंने 2017 में बांदीपोरा में दिवाली मनाई थी। 2019 में वह राजौरी गए और 2020 में वो राजस्थान के जैसलमेर गए। अब इस बार उनका राजौरी जाना वो भी ऐसे समय में जब पाकिस्तानी लगातार हमले कर रहे हैं और सुरक्षाबल उन्हें करारा जवाब देकर आतंकियों को ढेर कर रहे हैं, तो माना जा रहा है कि इस दौरे से पाकिस्तान को कड़ा संदेश मिलेगा कि भारत किसी भी हमले के लिए पूरी तरह तैयार है और सरकार का उन्हें पूरा समर्थन है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe