Monday, June 17, 2024
Homeराजनीति'TMC नेता ने संदेशखाली में बहन-बेटियों के साथ दुस्साहस की हदें पार की': PM...

‘TMC नेता ने संदेशखाली में बहन-बेटियों के साथ दुस्साहस की हदें पार की’: PM मोदी ने ‘CM दीदी’ को घेरा, बंगाल को दी ₹7000+ करोड़ की परियोजना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झारखंड के बाद अब पश्चिम बंगाल पहुँच गए हैं। बंगाल में पीएम मोदी ने सत्ताधारी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने संदेशखाली का मुद्दा भी उठाया। टीएमसी से निलंबित किए गए नेता शाहजहाँ शेख पर संदेशखाली की महिलाओं ने यौन शोषण और जमीनों पर कब्जे का आरोप लगाया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झारखंड के बाद अब पश्चिम बंगाल पहुँच गए हैं। बंगाल में पीएम मोदी ने सत्ताधारी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने संदेशखाली का मुद्दा भी उठाया। टीएमसी से निलंबित किए गए नेता शाहजहाँ शेख पर संदेशखाली की महिलाओं ने यौन शोषण और जमीनों पर कब्जे का आरोप लगाया है।

पश्चिम बंगाल के आरामबाग में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “बंगाल की स्थिति आज पूरा देश देख रहा है। माँ, माटी, मानुष… इसकी ढोल पीटने वाली टीएमसी ने संदेशखाली की बहनों के साथ जो किया है, उसे देखकर पूरा देश दुखी है… आक्रोशित है। राजा राममोहन राय की आत्मा आज जहाँ कहीं भी होगी, इन लोगों के कारनामे देखकर अत्यंत दुखी हुई होगी।”

उन्होंने आगे कहा, “इन्होंने संदेशखाली में जो किया, उसे देखकर राजा राममोहन राय की आत्मा आज रोती होगी। टीएमसी के नेता ने संदेशखाली में बहनों-बेटियों के साथ दुस्साहस की सारी हदें पार कर दीं। जब संदेशखाली की बहनों ने अपनी आवाज बुलंद की, ममता दीदी से मदद माँगी तो उन्हें बदले में क्या मिला? मुख्यमंत्री दीदी ने… बंगाल सरकार ने टीएमसी के नेता को बचाने के लिए पूरी शक्ति लगा दी।”

प्रधानमंत्री यहीं नहीं रूके। उन्होंने कहा, “बीजेपी ने नेताओं ने रात-दिन लड़ाई लड़ी। माताओं-बहनों के सम्मान के लिए लड़ाई लड़ी। लाठियाँ खाईं, मुसीबतें झेलीं। बीजेपी के दबाव में आखिरकार कल (29 फरवरी 2024) बंगाल पुलिस ने आपकी (जनता की) ताकत के सामने झुक करके उस आरोपित को गिरफ्तार करना पड़ा।”

ममता बनर्जी की सरकार पर हमला बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “भ्रष्टाचारियों को बचाने के लिए धरने पर बैठ जाती हैं। टीएमसी चाहती है कि केेंद्र की योजनाओं में भी उनको खुली लूट करने का मौका मिले। अब मोदी इनकी मनमानी चलने नहीं दे रहा है। इसलिए मोदी को टीएमसी अपना दुश्मन नंबर वन मानती है। (आम लोगों से पूछते हुए) आप ही मुझे बताइए, क्या मैं टीएमसी की ये लूट चलने दूँ क्या?”

उन्होंने जनता से मुखातिब होते हुए पूछा, “ये टीएमसी जो करती है, उसे मैं करने दूँ क्या? ये पैसा आपका है या नहीं है? ये बंगाल के लोगों का पैसा है या नहीं है? आपकी मेहनत का पैसा है कि नहीं है? क्या मैं उसे औरों को लूटने दूँ? इन लूटेरों से मैं लड़ता हूँ तो अच्छा करता हूँ या नहीं करता हूँ?” इस दौरान जनता ने पीएम मोदी के पक्ष में जमकर नारे लगाए।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “आज मैं बंगाल की जनता से वादा हूँ। ये मेरी गारंटी है कि इन लूटने वालों को लौटाना पड़ेगा। ये मोदी छोड़ने वाला नहीं है। मोदी इनकी गालियों से डरता नहीं है। इनके हमले से डरने वाला… रूकने वाला मोदी नहीं है। मैंने पश्चिम बंगाल के बहनों, गरीबों और युवाओं को गारंटी दी है। मोदी की गारंटी ये है कि जिसने गरीब को लूटा है, उसको लौटाना ही पड़ेगा।”

पीएम मोदी ने कहा कि TMC ने बंगाल में अपराध और भ्रष्टाचार का एक नया मॉडल पैदा कर दिया है। राज्य सरकार भ्रष्टाचार एवं अपराध को बढ़ावा देती है और अपराधियों को संरक्षण के बदले TMC नेताओं को भर-भर कर पैसे मिलते हैं। उन्होंने कहा कि टीएमसी सरकार गरीब, किसान, नौजवान और महिला के सशक्तिकरण में बहुत बड़ी रुकावट है। इन वर्गों के बिना बंगाल विकसित नहीं हो सकता।

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने पश्चिम बंगाल में 7,000 करोड़ रुपए से अधिक की विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इन परियोजनाओं में रेलवे, बंदरगाह, पेट्रोल और जल शक्ति जैसे बुनियादी ढाँचा शामिल हैं। सरकार ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी बंदरगाह और अन्य संबद्ध परियोजनाओं से संबंधित बुनियादी ढाँचे को मजबूत करने के लिए 1,000 करोड़ रुपए की घोषणा की।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -