Wednesday, May 22, 2024
Homeराजनीति'CDS बिपिन रावत का जाना हर राष्ट्रभक्त के लिए बहुत बड़ी क्षति, वो देश...

‘CDS बिपिन रावत का जाना हर राष्ट्रभक्त के लिए बहुत बड़ी क्षति, वो देश को आगे बढ़ते हुए देखेंगे’: PM मोदी ने कहा- भारत रुकेगा नहीं

पीएम ने कहा, "जनरल बिपिन रावत जी का जाना हर भारतप्रेमी के लिए, हर राष्ट्रभक्त के लिए बहुत बड़ी क्षति है। जनरल बिपिन रावत जी जितने जांबाज थे, देश की सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जितनी मेहनत कर रहे थे, पूरा देश उसका साक्षी रहा है। जनरल बिपिन रावत आने वाले दिनों में अपने भारत को नए संकल्पों के साथ आगे बढ़ते हुए देखेंगे।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शनिवार (11 दिसंबर 2021 ) को उत्तर प्रदेश (Uttar pradesh) के बलरामपुर में सरयू नदी नहर परियोजना (saryu river canal project) का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने हेलीकॉप्टर क्रैश में वीरगति को प्राप्त हुए भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत को याद किया।

पीएम ने कहा, “जनरल बिपिन रावत जी का जाना हर भारतप्रेमी के लिए, हर राष्ट्रभक्त के लिए बहुत बड़ी क्षति है। जनरल बिपिन रावत जी जितने जांबाज थे, देश की सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जितनी मेहनत कर रहे थे, पूरा देश उसका साक्षी रहा है। जनरल बिपिन रावत आने वाले दिनों में अपने भारत को नए संकल्पों के साथ आगे बढ़ते हुए देखेंगे।”

पीएम मोदी ने आगे कहा, “देश की सीमाओं की सुरक्षा बढ़ाने का काम, बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने का काम, देश की सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने का अभियान और तीनों सेनाओं में तालमेल सुदृढ़ करने का अभियान तेजी से आगे बढ़ता रहेगा। भारत दुख में है, लेकिन दर्द सहते हुए भी हम ना अपनी गति रोकते हैं और ना प्रगति। भारत रुकेगा नहीं, भारत थमेगा नहीं।”

बलरामपुर को धरती को नमन करते हुए पीएम मोदी ने इस धरती को क्रांतिकारियों की धरती बताया। उन्होंने कहा कि जब भी भगवान श्रीराम के मंदिर की बात होगी तो यहाँ के राजा पाटेश्वरी प्रसाद (Pateshwari prasad) का जिक्र अवश्य होगा।

पीएम ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि जब 50 साल पहले इस नहर परियोजना का शिलान्यास किया गया था उस दौरान इसकी लागत 100 करोड़ रुपए से भी कम थी, लेकिन आज इसे करीब 10,000 करोड़ रुपए की लागत से बनाया जा सका। आपकी मेहनत और रुपए को बर्बाद करने वालों को इसकी सजा जरूर मिलनी चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर इस नहर का पानी 20-30 साल पहले ही इस देश को मिल जाता तो देश का खजाना भरा होता।

सरयू परियोजना को लेकर पीएम ने कहा कि देश की नदियों के जल का सदुपयोग हो और किसानों के खेत तक पर्याप्त पानी पहुँचे, सरकार की यही प्राथमिकता है। प्रधानमंत्री ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘सरकारी पैसा है तो मुझे क्या’ यही सोच देश के संतुलित और संपूर्ण विकास में सबसे बड़ी बाधा थी। इस परियोजना को इसी सोच ने लटकाने और भटकाने का काम किया है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “सरयू नहर परियोजना में जितना काम 5 दशक में हो पाया था, उससे ज्यादा काम हमने 5 साल में पहले करके दिखाया है। यही डबल इंजन की सरकार है। यही डबल इंजन की सरकार के काम की रफ्तार है।”

योगी सरकार को सराहा

उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था (law & order) और राज्य सरकार के काम करने के तरीके की पीएम मोदी ने खूब सराहना की। उन्होंने कहा कि पहले जो सरकार में थे वो यहाँ जमीनों पर अवैध कब्जे करवाते थे और बाहुबलियों को बढ़ावा देते थे। आज ऐसे माफियाओं पर जुर्माना लग रहा है, बुलडोजर चल रहा है। उन्होंने कहा कि आज योगी सरकार (Yogi Government) माफियाओं की सफाई में जुटी है और गरीब, दलित, पिछड़े, आदिवासियों को मजबूत बना रही है।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर कटाक्ष करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कुछ लोगों का काम सिर्फ फीता काटना होता है। हो सकता है कि उन्होंने इसका फीता भी बचपन में ही काट दिया हो। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार का काम फीता काटना नहीं, प्रोजेक्ट को सही समय पर पूरा करना है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के बलरामपुर दौरे पर पहुँचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लोकार्पित सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना से यूपी के 9 जिलों के करीब 30 लाख किसानों को फायदा होगा। लगभग 318 किलोमीटर लंबी यह नहर परियोजना बहराइच, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, कुशीनगर, श्रावस्ती, महाराजगंज, गोंडा और बलरामपुर से गोरखपुर तक पहुँचती है। इससे पूर्वांचल में बाढ़ और सूखे की समस्या से निपटने में मदद मिलेगी।

साल 1978 में इस परियोजना को शुरू किया गया था, लेकिन बजट आवंटन और निगरानी के अभाव में हुई देरी के कारण इसे करीब 4 दशक बाद पूरा किया जा सका है। साल 2016 में इस परियोजना को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में शामिल किया गया था। परियोजना में घाघरा, सरयू, राप्ती, बाणगंगा और रोहिणी नदियों को आपस में जोड़ा गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -