Wednesday, May 25, 2022
Homeराजनीति'रामकथा सबको जोड़ती है, हनुमान जी ने वनवासी प्रजातियों को दिलाया अधिकार': PM मोदी...

‘रामकथा सबको जोड़ती है, हनुमान जी ने वनवासी प्रजातियों को दिलाया अधिकार’: PM मोदी ने पवन पुत्र की 108 फ़ीट ऊँची प्रतिमा का किया लोकार्पण

"हर कोई हनुमान जी से प्रेरणा पाता है। हनुमान वो शक्ति और सम्बल हैं जिन्होंने समस्त वनवासी प्रजातियों और वन बंधुओं को मान और सम्मान का अधिकार दिलाया।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार (16 अप्रैल, 2022) को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से गुजरात के मोरबी में भगवान हनुमान की 108 फ़ीट ऊँची प्रतिमा का लोकार्पण किया। हनुमान जन्मोत्सव के दौरान इस कार्यक्रम का हिस्सा बने पीएम ने कहा कि वो सम्मानित महसूस कर रहे हैं। देश के चार दिशाओं में बन रही भगवान हनुमान की प्रतिमाओं में ये दूसरी है। ये प्रतिमा बापू केशवानंद आश्रम में स्थापित हुई है। शिमला में 2010 को ऐसी पहली प्रतिमा का उद्घाटन हुआ था। तमिलनाडु के रामेश्वरम में कार्य शुरू हो गया है।

इस दौरान प्रधानमंत्री ने लोगों को हनुमान जन्मोत्सव की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि इस पावन अवसर पर इस मूर्ति का लोकार्पण होना देश और दुनिया भर के हनुमान भक्तों के लिए, रामभक्तों के लिए बहुत सुखदायी है। उन्होंने लोगों को इसके लिए बधाई देते हुए कहा कि हनुमान जी अपनी भक्ति और सेवा भाव से सबको जोड़ते हैं। उन्होंने कहा कि हर कोई हनुमान जी से प्रेरणा पाता है। साथ ही कहा कि हनुमान वो शक्ति और सम्बल हैं जिन्होंने समस्त वनवासी प्रजातियों और वन बंधुओं को मान और सम्मान का अधिकार दिलाया।

बकौल पीएम मोदी, यही कारण है कि ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ के भी हनुमान जी एक अहम सूत्र हैं। भगवान हनुमान की चौथी प्रतिमा का लोकार्पण पश्चिम बंगाल में होने वाला है। प्रधानमंत्री ने कहा कि रामकथा का आयोजन भी देश के अलग-अलग हिस्सों में किया जाता है और भाषा-बोली जो भी हो, लेकिन रामकथा की भावना सभी को जोड़ती है, प्रभु भक्ति के साथ एकाकार करती है। उन्होंने कहा कि यही तो भारतीय आस्था की, हमारे आध्यात्म की, हमारी संस्कृति, हमारी परंपरा की ताकत है।

पीएम मोदी ने कहा, “हजारों वर्षों से बदलती स्थितियों के बावजूद भारत के अटल और अडिग रहने में हमारी सभ्यता और संस्कृति की बड़ी भूमिका रही है। हमारी आस्था और संस्कृति की धारा सद्भाव, समावेश, समभाव की है। इसलिए जब बुराई पर अच्छाई को स्थापित करने की बात आई तो प्रभु राम ने सक्षम होते हुए भी, सबका साथ लेने का, सबको जोड़ने का, समाज के हर तबके के लोगों को जोड़ने का और सबको जोड़कर उन्होंने इस काम को संपन्न किया। यही तो है सबका साथ-सबका प्रयास।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि ‘सबका साथ, सबका प्रयास’ का उत्तम प्रमाण प्रभु राम की जीवन लीला भी है, जिसके हनुमान जी बहुत अहम सूत्र रहे हैं। उन्होंने कहा कि ‘सबका प्रयास’ की इसी भावना से आजादी के अमृत काल को हमें उज्ज्वल करना है, राष्ट्रीय संकल्पों की सिद्धि के लिए जुटना है। उत्तर में हिमाचल प्रदेश का शिमला, दक्षिण में तमिलनाडु का रसमेश्वरम, पूर्व में पश्चिम बंगाल और पश्चिम में गुजरात के मोरबी में भगवान हमुमान की प्रतिमाएँ भारत की शोभा में चार चाँद लगाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

आतंकी यासीन मलिक को उम्रकैद: टेरर फंडिग में सजा के बाद बजे ढोल, श्रीनगर में कट्टरपंथियों ने की पत्थरबाजी

कश्मीर में कश्मीरी हिंदुओं के नरसंहार के आरोपित यासीन मलिक को टेरर फंडिंग केस में 25 मई को सजा मुकर्रर हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,790FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe