Monday, July 22, 2024
Homeराजनीतिकहीं दीप जले, कहीं... PM मोदी के 'हर हर महादेव' लिखने पर लिबरलों-वामियों ने...

कहीं दीप जले, कहीं… PM मोदी के ‘हर हर महादेव’ लिखने पर लिबरलों-वामियों ने दिखाया असली रंग

PM मोदी ने वीडियो शेयर करते हुए "हर हर महादेव" क्या लिख दिया... लिबरलों-वामपंथियों ने इसे किसानों की चिंता से लेकर राष्ट्रीय शर्मिन्दगी दिवस तक बता दिया। देव दीपावली पर हिंदुओं को नीचा दिखाने के लिए इन्होंने...

देव दीपावली के खास अवसर पर कल (नवंबर 30, 2020) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुँचे। उन्होंने उत्सव का पहला दीया प्रज्जवलित करके पूरे आयोजन का आनंद लिया। इस बीच उनकी एक वीडियो भी सामने आई। वीडियो में वह शिव स्त्रोत पर चल रहे लेजर लाइट का शो देख कर सिर हिलाते और उंगलियाँ थिरकाते दिखे। इस वीडियो को उनके ट्विटर हैंडल से शेयर करके इस पर ‘हर हर महादेव’ लिखा गया।

सोशल मीडिया पर कई लोग पीएम के इस अंदाज को लेख कर फूले नहीं समाए और उनकी तारीफ की। लोगों ने उन्हें हमारी संस्कृति का संरक्षक तक बताया। लेकिन, तभी वामपंथियों से ये खुशी देखी नहीं गई। उन्होंने वीडियो शेयर करके दोबारा इस पर अपना रोना शुरू कर दिया। प्रशांत भूषण ने तो उनके थिरकने का उपहास उड़ाते हुए उन्हें भारत को जलाने का जिम्मेदार बताया।

जिग्नेश मेवानी ने लिखा, “यह देखिए, किसानों की चिंता माननीय प्रधानमंत्री जी को कहाँ ले आई! अब तो साफ साफ हो गया है कि इनके जन्मदिवस को राष्ट्रीय शर्मिन्दगी दिवस के रूप में ही मनाना पड़ेगा!”

द वायर के पत्रकार रघु करनाड लिखते हैं, “नरेंद्र मोदी का महत्वपूर्ण ट्वीट।”

सनी मसीह लिखती हैं, “शर्म आनी चाहिए। आप नाच रहे हैं और किसान मर रहे हैं।”

एक यूजर वीडियो देख इतना गुस्सा हो जाता है कि वो इस समय की तुलना ब्रिटिश काल से करता है। वह कहता है,”तमिलनाडु जैसे राज्य से पैसा लूट कर यहाँ खर्च हो रहा है। ये तुम्हारे लिए इंडिया है। ये ब्रिटिश काल से भी बदतर है।”

याजिनी नाम की यूजर लिखती हैं, “जिस समय किसान अपने जीवन के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं, हमारे पीएम को ऐसी मनोरंजन वाली वीडियो शेयर करने में शर्म तक नहीं आ रही।”

गौरतलब है पीएम मोदी के ट्वीट पर लिबरल्स का ऐसा रिएक्शन देख कर कई यूजर इनका मजाक उड़ा रहे हैं। लोग इनके स्क्रीनशॉट शेयर कर-कर के लिख रहे हैं, “कहीं दीप जले, कहीं जाहिल।” कोई लिबरलों के ऐसे ट्वीट पर पलटवार कर रहा है और पूछ रहा है कि आखिर यूपीए शासन काल में क्या होता था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

जो बायडेन फिर से बने अमेरिकी राष्ट्रपति उम्मीदवार: ‘भूलने की बीमारी’ के कारण कर दिया था ट्वीट, सदमे में कमला हैरिस, 12 घंटे से...

जो बायडेन टेस्ट ले रहे थे कमला हैरिस का। वो भोकार पार-पार के, सर पटक कर रोने के बजाय खुश हो गईं। पिघलने के बजाय बायडेन को गुस्सा आ गया और...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -