Monday, January 17, 2022
Homeराजनीतिप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी में, जनता को 'रुद्राक्ष' समेत 1582.93 करोड़ का दिया सौगात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी में, जनता को ‘रुद्राक्ष’ समेत 1582.93 करोड़ का दिया सौगात

हर किसी निगाहें रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर पर टिकी है। वो सेंटर, जिसे भारत और जापान की दोस्ती की मिसाल के दौर पर देखा जा रहा है। वो जिसके सम्मेलन केंद्र में 108 रुद्राक्ष लगाए गए हैं। वो जिसकी छत शिवलिंग के आकार में बनाई गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (जुलाई 15, 2021) वाराणसी पहुँचे। उन्होंने यहाँ पर कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। पीएम मोदी ने आज 744.02 करोड़ रुपए के 78 परियोजनाओं का लोकार्पण किया।

<

साथ ही उन्होंने 838.91 करोड़ रुपए के 206 योजनाओं की सौगात काशी की जनता को दिया। कुल परियोजनाओं की लागत 1582.93 करोड़ रुपए है। इस खास मौके पर हर किसी निगाहें रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर पर टिकी है। वो सेंटर, जिसे भारत और जापान की दोस्ती की मिसाल के दौर पर देखा जा रहा है। आईए एक नजर डालते हैं कि इस सेंटर में क्या खास है।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

सेंटर में 108 रुद्राक्ष: इस सम्मेलन केंद्र में 108 रुद्राक्ष लगाए गए हैं। इसकी छत शिवलिंग के आकार में बनाई गई है। ये पूरी इमारत रात में एलईडी लाइट से जगमगाएगी।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

कहाँ हैं सेंटर: ये दो मंजिला केंद्र बनारस के सिगरा क्षेत्र में है। इसे करीब 7 एकड़ जमीन पर बनाया गया है। इसमें 1,200 लोगों के बैठने की क्षमता है।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

सेंटर बनाने का मकसद: इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य वाराणसी में अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र में लोगों को सामाजिक और सांस्कृतिक संवाद के अवसर देना है।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

ये अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों, प्रदर्शनियों, संगीत समारोहों और अन्य कार्यक्रमों के आयोजन के लिए उचित जगह है और इसके गलियारे को चित्रों से सजाया गया है।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

इस सेंटर में जापानी और भारतीय वास्तु शैलियाँ दिखेंगी। रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की डिजाइन जापान की कंपनी ओरिएंटल कंसल्टेंट ग्लोबल ने बनाया है।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

इसका कंस्ट्रकशन जापान की ही फुजिता कॉरपोरेशन कंपनी ने किया है। रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर जापान और भारत के आपसी सहयोग को दिखाता है।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

साल 2015 में जब जापान के पीएम शिंजो आबे पीएम मोदी के साथ वाराणसी आए थे, उसी वक्त इस कन्वेंशन सेंटर की नींव डाली गई थी।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

जापान की झलक: हॉल के परिसर में जापानी शैली में एक पार्क भी बनाया गया है। उद्घाटन समारोह के दौरान पीएम मोदी रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर परिसर में एक रुद्राक्ष का पौधा भी लगाएँगे।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

सेंटर में एक साथ 1200 लोगों के बैठने की व्यवस्था है। हॉल को लोगों की संख्या के अनुरूप दो हिस्सों में बाँटने की व्यवस्था है। पूर्णत: वातूनुकुलित सेंटर में बड़े हॉल के अलावा 150 लोगों की क्षमता का एक मीटिंग हॉल है।

तस्वीर साभार:आँचल अग्रवाल

इसके अतिरिक्त यहाँ एक वीआइपी कक्ष, चार ग्रीन रूम भी हैं। दिव्यांगजनों की सुविधा की दृष्टि से पूरे परिसर को सुविधाजनक बनाया गया है। 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

समाजवादी पार्टी की मान्यता खत्म करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में PIL, कैराना के मास्टरमाइंड नाहिद हसन की उम्मीदवारी पर घिरे अखिलेश यादव

सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय की ओर से समाजवादी पार्टी की मान्यता खत्म करने की माँग करते हुए PIL दाखिल की गई है।

‘ये हिन्दू संस्कृति में ही संभव’: जिस बाघिन के कारण ‘टाइगर स्टेट’ बन गया मध्य प्रदेश, उसका सनातन रीति-रिवाज से हुआ अंतिम संस्कार

मध्य प्रदेश के पेंच नेशनल पार्क की ‘कॉलरवाली बाघिन’ के नाम से मशहूर बाघिन का हिंदू रीति-रिवाज से अंतिम संस्कार किया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,731FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe