Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीति'मोदी देश के लिए काला है': PM को लेकर राकेश टिकैत के बिगड़े बोल,...

‘मोदी देश के लिए काला है’: PM को लेकर राकेश टिकैत के बिगड़े बोल, BJP कार्यकर्ताओं की हत्या को भी ठहरा चुके हैं जायज

सिरसा में तो राकेश टिकैत ने ये तक दावा कर दिया था कि यूपी विधानसभा चुनाव से पहले किसी बड़े हिन्दू नेता की हत्या होगी।

तीन कृषि कानूनों के विरुद्ध शुरू हुआ ‘किसान आंदोलन’ अब भी जारी है और लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के बाद ये और तेज़ हो गया है। इन सबके बीच ‘भारतीय किसान यूनियन (BKU)’ के प्रवक्ता राकेश टिकैत, जो इस आंदोलन का मुख्य चेहरा हैं – लगातार उलूल-जुलूल बयान दिए जा रहे हैं। हाल ही में उन्होंने लखीमपुर हिंसा मामले में भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या को राकेश टिकैत ने क्रिया की प्रतिक्रिया करार दिया था।

अब उन्होंने कहा है कि तीनों कृषि कानून किसानों के लिए काले हैं तो नरेंद्र मोदी पूरे देश के लिए ‘काला’ है। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी पहुँचे राकेश टिकैत ने बुधवार (13 अक्टूबर, 2021) को ये बयान दिया। उन्होंने कहा, “कृषि कानून आज नहीं तो एक साल बाद हटेंगे। ये लोग बिजली के प्राइवेटाइजेशन में लगे हैं। लोगों को 15 रुपए प्रति यूनिट बिजली दिए जाने की तैयारी है। 26 अक्‍टूबर को लखनऊ की बैठक में हम आगे की रणनीति तय करेंगे।”

राकेश टिकैत ने लखीमपुर हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्‍यमंत्री अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ की गिरफ्तारी तक आंदोलन चलाने का ऐलान किया। टिकैत ने ये भी कहा कि अजय मिश्रा के नाम के आगे मिश्रा मत लगाओ, वह टेनी है। हाल ही में उन्होंने ये भी कहा था कि कि लाठी उठाना पड़ेगा। भुगतान को लेकर उन्होंने कहा था, “लाठी उठाने से पैसे मिलेंगे। यह सरकार बहुत बेशर्म है।” सिरसा में तो उन्होंने दावा कर दिया था कि यूपी विधानसभा चुनाव से पहले किसी बड़े हिन्दू नेता की हत्या होगी।

याद दिला दें कि भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने शनिवार (अक्टूबर 9, 2021) को कहा था कि लखीमपुर खीरी हिंसा के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं की लिंचिंग को वह गलत नहीं मानते। उन्होंने कहा था , “जो हुआ वो गलत नहीं था। मैं उनको दोषी नहीं मानता।” उनका कहना था कि पीट-पीट कर मारना उनकी नजर में हत्या नहीं है। ये बातें ‘किसान नेता’ ने दिल्ली प्रेस क्लब में मीटिंग के दौरान कही थीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में NDA की बड़ी जीत, सभी 9 उम्मीदवार जीते: INDI गठबंधन कर रहा 2 से संतोष, 1 सीट पर करारी...

INDI गठबंधन की तरफ से कॉन्ग्रेस, शिवसेना UBT और PWP पार्टी ने अपना एक-एक उमीदवार उतारा था। इनमें से PWP उम्मीदवार जयंत पाटील को हार झेलनी पड़ी।

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -