Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिऑडिटर रमेश को याद कर तमिलनाडु में भावुक हुए PM मोदी, आतंकियों ने घर...

ऑडिटर रमेश को याद कर तमिलनाडु में भावुक हुए PM मोदी, आतंकियों ने घर में घुस कर BJP नेता को मार डाला था: 1 दशक तक न्याय के लिए लड़ती रहीं माँ

याद दिला दें कि सेलम में ही जुलाई 2013 में ऑडिटर रमेश की हत्या कर दी गई थी। वो राज्य में तब पार्टी के स्टेट जनरल सेक्रेटरी थे। 54 वर्षीय V रमेश की हत्या मरावानेरी स्थित उनके घर में घुस कर की गई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (19 मार्च, 2024) को तमिलनाडु के सेलम को एक जनसभा को संबोधित करते हुए भाजपा नेता ऑडिटर रमेश की हत्या का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि सेलम में उनकी आत्मीयता KN लक्ष्मणन से भी थी, जो राज्य में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रहे। पीएम मोदी ने याद किया कि कैसे उन्होंने तमिलनाडु में भाजपा के विस्तार में बड़ी भूमिका निभाई, आपातकाल के दौरान संघर्ष किया, कई विद्यालय शुरू करवाए। इसके बाद पीएम मोदी अचानक से भावुक हो उठे।

उन्होंने कहा कि अब जब वो सेलम आए हैं तो ऑडिटर रमेश की याद आनी भी स्वाभाविक है। इसके बाद वो कुछ देर तक भावुक हो गए और कुछ बोल नहीं सके। प्रधानमंत्री ने कहा, “दुर्भाग्य से सेलम का मेरा वो रमेश हमारे बीच नहीं है। पार्टी के लिए रमेश दिन-रात काम करने वाले हमारे साथी थे, एक अच्छे प्रवक्ता थे। लेकिन, उनकी हत्या कर दी गई। मैं उन्हें आज उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।” इसके बाद सभी नेताओं एवं वहाँ आई जनता ने खड़े होकर ऑडिटर रमेश को श्रद्धांजलि अर्पित की।

याद दिला दें कि सेलम में ही जुलाई 2013 में ऑडिटर रमेश की हत्या कर दी गई थी। वो राज्य में तब पार्टी के स्टेट जनरल सेक्रेटरी थे। 54 वर्षीय V रमेश की हत्या मरावानेरी स्थित उनके घर में घुस कर की गई थी। वो दिन भर आम लोगों और पार्टी कार्यकर्ताओं से मिल कर रात 10 बजे घर पहुँचे थे, जहाँ हत्यारे पहले से छिपे हुए थे। उनके गर्दन पर वार किया गया था। मौके पर ही उनकी मौत हो गई थी। उससे पहले ‘हिन्दू मुन्नानी’ संगठन के वेल्लईअप्पन की हत्या हुई थी।

तब हिन्दू कार्यकर्ताओं को सुरक्षा देने की माँग भी की गई थी। 1994 में ‘हिन्दू मुन्नानी’ के प्रदेश अध्यक्ष राजगोपालन की हत्या हुई थी। CB-CID ने इस मामले में बिलाल मलिक और पुलिस फखरुद्दीन को गिरफ्तार किया था। ये दोनों 2011 में तिरुमंगलम (मदुरै) में हुए पाइप बम ब्लास्ट में भी शामिल थे। इन दोनों के अलावा अबू बकर सिद्दीकी और पन्ना इस्माइल भी इस बम धमाके में शामिल थे। इन आतंकियों का नाम वेल्लईअप्पन की हत्या और अप्रैल 2013 में बेंगलुरु स्थित भाजपा दफ्तर में हुए बम ब्लास्ट में भी आया था।

ऑडिटर रमेश 1978 से ही RSS से जुड़े हुए थे। उनकी माँ ने उनकी हत्या के बाद न्याय की लड़ाई लड़ी। उनकी माँ ने बताया था कि बम धमाकों के बाद कई हिन्दू कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया गया, जिनमें उनका बेटा भी था। 2014 में चार्जशीट दायर होने के बावजूद ये केस खिंचता रहा, जिस पर 2023 में उन्होंने नाराज़गी भी जताई थी। मद्रास हायकोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के रवैया पर नाराज़गी जताई थी और केस को जल्द खत्म करने के लिए कहा था।

पीएम मोदी ने सेलम की रैली में राहुल गाँधी द्वारा शक्ति से लड़ने वाला बयान दिए जाने पर फिर से निशाना साधा। उन्होंने कहा कि हमारे शास्त्र साक्षी हैं कि विनाश उनका होता है, जो शक्ति को खत्म करने का विचार रखते हैं। पीएम मोदी ने ऐलान किया कि ऐसे खतरनाक विचारों को हराने की शुरुआत 19 अप्रैल को सबसे पहले तमिलनाडु करेगा। उन्होंने कहा कि INDI एलायंस वाले लोग बार-बार, जानबूझकर हिंदू धर्म का अपमान करते हैं, हिंदू धर्म के खिलाफ इनका हर बयान बहुत सोचा समझा हुआ होता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसी और धर्म के खिलाफ इनकी जुबान से एक शब्द नहीं निकलता, लेकिन हिंदू धर्म को गाली देने में ये एक सेकंड नहीं लगाते। उन्होंने कहा, “मोदी, देश की नारीशक्ति की हर परेशानी के आगे ढाल बनकर खड़ा है। महिलाओं को धुआँ मुक्त जीवन देने के लिए हमने उज्ज्वला LPG गैस कनेक्शन दिए, हमने फ्री मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए आयुष्मान योजना शुरू की। इन सभी योजनाओं के केंद्र में नारीशक्ति ही है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -