Friday, July 19, 2024
Homeराजनीति65 घंटे में 24 बड़ी बैठकें: फ्लाइट से लेकर होटल तक बैठकें करते रहे...

65 घंटे में 24 बड़ी बैठकें: फ्लाइट से लेकर होटल तक बैठकें करते रहे 71 साल के PM मोदी, लौटे दिल्ली, यहाँ भी व्यस्त शेड्यूल

जैसे ही वो वाशिंगटन डीसी में उतरे, वहाँ होटल में भी एक बैठक हुई। इसके अगले दिन 5 बहुराष्ट्रीय कंपनियों के CEOs के साथ उनकी बैठकें हुईं। अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के नेताओं से भी वो उसी दिन मिले।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने अमेरिका दौरे में 65 घंटों के भीतर 24 बड़ी बैठकों में हिस्सा लिया है। इनमें से 4 लंबी बैठकें तो फ्लाइट में ही हुईं। ‘न्यूज़ 18’ ने अपनी खबर में ये जानकारी दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक ये अमेरिका दौरा 4 दिनों का था, ऐसे में उनके पास जो भी समय उपलब्ध थे उन्होंने उसका भरपूर उपयोग किया है। अमेरिका दौरे में फ्लाइट में ही उन्होंने कई आधिकारिक फाइलों को भी निपटाया।

इतना ही नहीं, अब जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार (26 सितंबर, 2021) को भारत लौट आए हैं और उनका भव्य स्वागत हुआ है तो यहाँ आने पर भी उनके व्यस्त कार्यक्रम जारी रहेंगे। सरकारी सूत्रों के अनुसार, प्रधानमंत्री का उद्देश्य ही है कि उनके हर दौरे को ज्यादा से ज्यादा व्यस्त और उत्पादक रखा जाए। 22 सितंबर, 2021 को फ्लाइट में ही एक बैठक हुई, जिसमें अधिकारियों ने उन्हें अमेरिका दौरे से सम्बंधित पहलुओं के बारे में बताया।

जैसे ही वो वाशिंगटन डीसी में उतरे, वहाँ होटल में भी एक बैठक हुई। इसके अगले दिन 5 बहुराष्ट्रीय कंपनियों के CEOs के साथ उनकी बैठकें हुईं, ताकि भारत में बेहतर निवेश के वातावरण को लेकर सकारात्मकता फैलाई जा सके और महत्वपूर्ण सलाह लिए जा सकें। अमेरिकी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस, ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन और जापान के प्रीमियर योशिहिदे सुगा के साथ भी उसी दिन बैठकें हुईं।

इसके अलावा उन्होंने अपनी टीम के साथ तीन आतंरिक बैठकें भी की। 24 सितंबर, 2021 को शेड्यूल और भी ज्यादा व्यस्त था, जब QUAD देशों के राष्ट्राध्यक्षों के साथ उनकी बैठक हुई। उससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेन से भी वो मिले। इन दोनों बैठकों की तैयारियों के लिए नरेंद्र मोदी ने अपनी टीम के साथ 4 बार बैठक की। 25 सितंबर को अमेरिका से नई दिल्ली लौटते समय भी फ्लाइट में दो बैठकें हुईं।

इन दोनों बैठकों में अमेरिका दौरे के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा हुई और भारत को इससे क्या मिला और इस परिप्रेक्ष्य में आगे क्या-क्या किया जाना है, इस पर गहन विचार-विमर्श हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर भी कहा है कि उनका अमेरिका दौरा काफी अच्छा रहा और दोनों देशों के लोगों के बीच संपर्क इस रिश्ते के लिए बड़ी संपदा है। उन्होंने बताया कि कई राष्ट्राध्यक्षों व CEOs के साथ उनकी बैठकें सकारात्मक रहीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -