Monday, June 17, 2024
Homeराजनीतिसिद्धारमैया के घर के बाहर से हटाया गया भगवान श्रीराम और बजरंग बली वाला...

सिद्धारमैया के घर के बाहर से हटाया गया भगवान श्रीराम और बजरंग बली वाला पोस्टर, चुनाव के दौरान लगाया था: लोगों ने बताया ‘चुनावी हिन्दू’

इसके बाद लोगों ने कॉन्ग्रेस नेताओं को चुनावी हिन्दू बताना शुरू कर दिया। एक ने तंज कसते हुए लिखा कि कहीं मुस्लिम अपनी वोटिंग वापस लेने की धमकी दे रहे होंगे, इसीलिए ऐसा किया गया है।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जीत के साथ ही कॉन्ग्रेस नेता सिद्धारमैया के घर के बाहर लगी भगवान श्रीराम और हनुमान जी की तस्वीर को हटा दिया गया है। चुनाव के दौरान कॉन्ग्रेस पार्टी ने अपने घोषणापत्र में लिखा था कि सरकार बनाने के बाद ‘बजरंग दल’ को बैन किया जाएगा। साथ ही इसने हिन्दू संगठन की तुलना प्रतिबंधित आतंकी संगठन PFI से भी की थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कॉन्ग्रेस पर बजरंग बली के अपमान का आरोप लगाया था।

इसके बाद कॉन्ग्रेस नेताओं ने भी खुद को हनुमान जी का भक्त दिखाना शुरू कर दिया था। इसी क्रम में पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के आवास के बाहर दोनों ही देवताओं की तस्वीरें लगाई गई थीं। लेकिन, अब इन पोस्टरों को हटा दिया गया है। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु स्थित उनके घर के बाहर लगे इस पोस्टर में उनकी फोटो भी थी। कर्नाटक में 135 सीटों के साथ कॉन्ग्रेस को बहुमत मिला है, जबकि भाजपा 66 सीटें ही प्राप्त कर पाई।

इसके बाद लोगों ने कॉन्ग्रेस नेताओं को चुनावी हिन्दू बताना शुरू कर दिया। एक ने तंज कसते हुए लिखा कि कहीं मुस्लिम अपनी वोटिंग वापस लेने की धमकी दे रहे होंगे, इसीलिए ऐसा किया गया है। लोगों ने कहा कि चुनाव के साथ-साथ ही इनकी भक्ति भी खत्म हो जाती है। एक ने ‘भाई, ये तो शुरू होते ही ख़त्म हो गया’ वाला मीम भी शेयर किया। कॉन्ग्रेस पर हिन्दुओं को बेवकूफ बनाने के आरोप भी लगाए जा रहे हैं। एक ने याद दिलाया कि इस पार्टी ने कभी भगवान राम का अस्तित्व नकार दिया था।

कर्नाटक में कॉन्ग्रेस के विधायक दल के नेता का फ़िलहाल चयन नहीं हुआ है। डीके शिवकुमार और सिद्धारमैया में से किसी एक को मुख्यमंत्री बनाया जाना है। वहीं देश भर के विपक्षी नेता अब 2024 लोकसभा चुनाव के लिए इसे शुरुआत बताते हुए ये कह रहे हैं कि पीएम मोदी अजेय नहीं हैं। डीके शिवकुमार ने कहा कि उन्होंने पार्टी के लिए कई बार त्याग किया है। कॉन्ग्रेस अध्यक्ष मालिएकर्जुन खड़गे ने सीएम चुनने के लिए तीन सदस्यीय कमिटी भी बना दी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -