Tuesday, October 4, 2022
Homeराजनीतिपहले छेड़छाड़ का आरोप लगाने की धमकी, अब उड़ता ड्रोन: प्रियंका गाँधी को यूपी...

पहले छेड़छाड़ का आरोप लगाने की धमकी, अब उड़ता ड्रोन: प्रियंका गाँधी को यूपी में ‘पीड़ित’ दिखाने को कॉन्ग्रेस लाई एक और कथा

“30 घंटे से अधिक से हिरासत में रखी गई प्रियंका गाँधी जी के कमरे के ऊपर ये ड्रोन किसका है और क्यों है? जवाब कौन देगा?”

सियासी रोटी सेंकने की कोशिश में उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जाने की कोशिश करने वाली कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा गाँधी को करीब 30 घंटे हिरासत में रखने के बाद यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इससे पहले प्रियंका गाँधी ने उत्तर प्रदेश सरकार पर उनके हर कदम की ‘निगरानी’ करने का आरोप लगाया। उन्होंने पुलिस पर छेड़छाड़ का आरोप लगाने की धमकी भी दी थी।

इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रियंका गाँधी की निगरानी किए जाने का दावा उनके सचिव ने किया है। उनका दावा है कि उन्होंने सीतापुर में एक ड्रोन देखा, जहाँ कॉन्ग्रेस महासचिव को यूपी पुलिस ने PAC गेस्ट हाउस में रखा है। प्रियंका गाँधी रविवार की देर रात लखनऊ पहुँची थीं और ‘किसानों’ के साथ ‘एकजुटता’ व्यक्त करने के लिए लखीमपुर खीरी जा रही थीं। लखीमपुर खीरी में ‘किसानों’ की भीड़ ने भाजपा कार्यकर्ताओं के काफिले पर हमला किया था, जिसमें 8 लोगों की मौत हो गई थी।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री और कॉन्ग्रेस के वफादार भूपेश बघेल ने भी एक वीडियो ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “30 घंटे से अधिक से हिरासत में रखी गई प्रियंका गाँधी जी के कमरे के ऊपर ये ड्रोन किसका है और क्यों है? जवाब कौन देगा?”

उल्लेखनीय है कि लखीमपुर खीरी में राजनीतिक रूप से संवेदनशील स्थिति उत्पन्न होने पर वहाँ पर कानून-व्यवस्था को बनाए रखना राज्य प्रशासन की जिम्मेदारी है। ऐसे में जब प्रियंका गाँधी वाड्रा ने पुलिस के अनुरोध को अनसुना कर दिया और उल्टे पुलिस को धमकी दे डाली तो उनके पास उन्हें हिरासत में लेने के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचा था। हालाँकि कॉन्ग्रेस पार्टी के सदस्य अपने नेता की गिरफ्तारी को राजनीतिक हथकंडे के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं।

गौरतलब है कि प्रियंका गाँधी ने इससे पहले लखनऊ की महिला पुलिस अधिकारी डॉ. अर्चना सिंह पर गला दबाने और धक्का देकर गिराने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि वे दारापुरी की फैमिली से मिलने जा रही थी। पुलिस ने उन्हें बार-बार रोका। गाड़ी रोके जाने पर उन्होंने पैदल जाने की कोशिश की तो उन्हें घेर कर रोका और उनके गले पर हाथ लगाया, एक बार तो उन्हें गिरा भी दिया था। बाद में प्रियंका गाँधी गला दबाने की बात से पलट गईं।

प्रिंयका के इन आरोपों परअर्चना सिंह ने कहा था, “इन आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है। मैं उनकी (प्रियंका गाँधी) फ्लीट इंचार्ज थी। उनके साथ किसी ने भी अभद्रता नहीं की। मैंने सिर्फ अपनी ड्यूटी की। इस घटना के दौरान मेरे साथ धक्का-मुक्की की गई थी।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक मिनट में दागेगा 750 गोलियाँ, ऊँचाई वाले स्थानों पर दुश्मन की खैर नहीं: जानें 5800 किलो के स्वदेशी ‘प्रचंड’ के बारे में, जो...

'प्रचंड' चॉपर दुश्मनों के लड़ाकू विमानों को ध्वस्त करने, आतंकवाद विरोधी अभियानों को अंजाम देने, कॉम्बैट सर्च और बचाव कार्यों में सक्षम हैं।

कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष ने भारत आए चीतों को बताया लंपी वायरस का कारण, नामीबिया को बताया ‘नाइजीरिया’: BJP नेता ने कहा – इनको...

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा है कि देश में फैले हुए लंपी वायरस के लिए 'नाइजीरिया' से आए चीते जिम्मेदार हैं। हुई जगहँसाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
226,129FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe