Saturday, October 16, 2021
Homeराजनीतिसीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए...

सीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए जता दिया दुःख… 3 बार में दी श्रद्धांजलि

प्रियंका गाँधी ने पहली बार श्रद्धांजलि देने और दुःख जताने के लिए जो ट्वीट किया, उसमें CPI(M) नेता सीताराम येचुरी की जगह कॉन्ग्रेस के दिवंगत नेता सीताराम केसरी का नाम लिख दिया। फिर दूसरी बार में इससे भी बड़ी गड़बड़। सबका स्क्रीनशॉट है।

‘कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सिस्ट)’ के वरिष्ठ नेता सीताराम येचुरी के बेटे आशीष की कोरोना की वजह से गुरुवार (अप्रैल 22, 2021) की सुबह मृत्यु हो गई। कॉन्ग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने इस घटना पर श्रद्धांजलि जताने के लिए ट्वीट किया। उस ट्वीट को डिलीट कर के फिर ट्वीट किया। उस दूसरे ट्वीट को भी डिलीट किया और तीसरी बार में ठीक से श्रद्धांजलि दी। इसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने उन्हें संवेदनहीन करार दिया।

प्रियंका गाँधी का पहला ट्वीट

दरअसल, प्रियंका गाँधी ने पहली बार श्रद्धांजलि देने और दुःख जताने के लिए जो ट्वीट किया, उसमें CPI(M) नेता सीताराम येचुरी की जगह कॉन्ग्रेस के दिवंगत नेता सीताराम केसरी का नाम लिख दिया। बता दें कि 1996-98 में कॉन्ग्रेस अध्यक्ष रहे सीताराम केसरी का निधन अक्टूबर 2000 में हो चुका है। उन्हें भरी सभा में बेइज्जत कर के अध्यक्ष पद से हटा कर सोनिया गाँधी की ताजपोशी की गई थी।

दूसरी बार में भी प्रियंका गाँधी ने अपनी ट्वीट में गड़बड़ कर दी। इस बार उन्होंने श्रद्धांजलि तो दी लेकिन साथ ही उस ट्वीट से पहले ‘प्लीज ट्वीट’ लिखा हुआ था, जिससे लोगों ने अंदेशा जताया कि उन्हें किसी ने ट्वीट करने के लिए ये टेक्स्ट दिया था और प्रियंका ने ‘प्लीज ट्वीट’ वाला हिस्सा भी साथ में ट्वीट कर दिया, जबकि वो उनके लिए था। हालाँकि, तीसरी बारी में उन्होंने ‘प्लीज ट्वीट’ हटा कर ठीक से श्रद्धांजलि दी।

प्रियंका गाँधी ने लिखा, “श्री सीताराम येचुरी और उनके परिवार के लिए मैं गहरी संवेदनाएँ जताती हूँ। ऐसे कठिन समय में इस्तेमाल करने के लिए कोई शब्द ही नहीं है, बस केवल प्रार्थनाएँ। आपको इससे उबरने के लिए साहस मिले।” जहाँ पहला ट्वीट सुबह के 10:34 बजे आया, दूसरा ट्वीट इसके 2 मिनट बाद किया गया। फिर पहले ट्ववीट के 4 मिनट बाद 10:38 में तीसरा ट्वीट आया। वो ट्वीट अब तक मौजूद है।

कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद से आशीष का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में इलाज चल रहा था। इंफेक्शन होने के बाद उनका इलाज दो सप्ताह पहले तक होली फैमिली अस्पताल में चल रहा था, लेकिन हालत बिगड़ने के बाद उन्हें गुरुग्राम रेफर कर दिया गया था। 34 वर्षीय आशीष दिल्ली के एक समाचार पत्र में बतौर सीनियर कॉपी एडिटर कार्यरत थे। सीताराम येचुरी ने सभी डॉक्टरों, नर्सों और अन्य लोगों को भी धन्यवाद दिया, जिन्होंने उनके बेटे का इलाज किया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दलित युवक लखबीर सिंह की हत्या के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के बचाव में कूदा India Today, ‘सोर्स’ के नाम पर नया ‘भ्रमजाल’

SKM के नेता प्रदर्शन स्थल पर हुए दलित युवक की हत्या से खुद को अलग कर रहे हैं। इस बीच इंडिया टुडे ग्रुप अब उनके बचाव में सामने आया है। .

कुंडली बॉर्डर पर लखबीर की हत्या के मामले में निहंग सरबजीत को हरियाणा पुलिस ने किया गिरफ्तार, लगे ‘जो बोले सो निहाल’ के नारे

निहंग सिख सरबजीत की गिरफ्तारी की वीडियो सामने आई है। इसमें आसपास मौजूद लोग तेज तेज 'जो बोले सो निहाल' के नारे बुलंद कर रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
128,835FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe