Sunday, July 14, 2024
HomeराजनीतिCM बदलने के बाद लोकसभा में मुकाबला टाई, विधानसभा चुनाव सर पर: जानिए कौन...

CM बदलने के बाद लोकसभा में मुकाबला टाई, विधानसभा चुनाव सर पर: जानिए कौन हैं मोहन लाल बडौली, जिन्हें हरियाणा में BJP ने चुना प्रदेश अध्यक्ष

मोहन लाल बडौली अपने राजनीतिक और सामाजिक जीवन की शुरुआत से ही साल 1989 से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए हैं। संघ के करीबी नेता के तौर पर उनकी पहचान रही है। इस बार उनके नेतृत्व में पार्टी विधानसभा चुनाव लड़ने वाली है।

भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने हरियाणा में मोहन लाल बडौली को हरियाणा बीजेपी का नया अध्यक्ष बनाया है। इस समय वो राई विधानसभा सीट से बीजेपी के विधायक हैं। उन्होंने 2019 में पहली बार राई विधानसभा सीट पर बीजेपी का झंडा लहराया था। राई विधानसभा सीट सोनीपत जिले में है।

बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से मोहन लाल के नाम की घोषणा की गई।

कौन हैं मोहन लाल बडौली?

मोहन लाल बडौली को पूर्व सीएम मनोहर लाल खट्टर और मौजूदा सीएम नायब सिंह सैनी का करीबी माना जाता है। वे मौजूदा समय में पार्टी के प्रदेश महामंत्री के पद पर थे। हालाँकि वो हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में हार गए थे। मोहन लाल बडौली अपने राजनीतिक और सामाजिक जीवन की शुरुआत से ही साल 1989 से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए हैं। संघ के करीबी नेता के तौर पर उनकी पहचान रही है। इस बार उनके नेतृत्व में पार्टी विधानसभा चुनाव लड़ने वाली है।

मोहन लाल बडौली का जन्म 1963 में हरियाणा के सोनीपत जिले की राई तहसील के बडौली गाँव में हुआ था। मोहन लाल ने हाई स्कूल की पढ़ाई जीएसएसएस, खेवड़ा, सोनीपत से पूरी की। इसके बाद उन्होंने सोनीपत के बहालगढ़ चौक के पास कपड़ा मार्केट में एक दुकान भी चलाई। साल 2021 में उन्हें प्रदेश महामंत्री के पद के साथ हरियाणा भाजपा की कोर टीम में शामिल किया गया था। बडौली ने 2019 में राई विधानसभा से चुनाव लड़ा था और 2,663 वोटों के अंतर से जीत हासिल की थी। वह इस विधानसभा सीट पर चुनाव जीतने वाले बीजेपी के पहले नेता हैं।

मुख्यमंत्री ने दी बधाई

हरियाणा के मौजूदा सीएम नायब सिंह सैनी ने हरियाणा बीजेपी का नया अध्यक्ष बनाए जाने पर मोहन लाल बडौली को बधाई दी है। सीएम सैनी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा, “भारतीय जनता पार्टी हरियाणा का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किए जाने पर राई विधायक मोहन लाल बडौली जी को ढेर सारी बधाई एवँ शुभकामनाएँ। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आपके नेतृत्व में हरियाणा में संगठनात्मक कार्यों को एक नई दिशा मिलेगी और फिर से तीसरी बार भाजपा की सरकार बनेगी।”

नायाब सिंह सैनी से की मुलाकात

हरियाणा के बीजेपी अध्यक्ष बनने के बाद बडौली ने अभी तक अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाल रहे मुख्यमंत्री नायाब सिंह सैनी से मुलाकात की। नायाब सिंह सैनी ने इस मुलाकात के बारे में एक्स पर भी पोस्ट किया और लिखा, “भारतीय जनता पार्टी हरियाणा के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष राई विधायक मोहन लाल बडौली जी को मुख्यमंत्री आवास संत कबीर कुटीर पहुंचने पर शुभकामनाएं एवं सफल कार्यकाल के लिए अग्रिम बधाई दी।”

बता दें कि हरियाणा में जाट समाज की राजनीति हमेशा से मुखर रही है। अधिकतर दलों की कमान जाट समाज के लोगों के ही हाथों में है। चूँकि लोकसभा चुनाव में बीजेपी को जाट वोटर का लाभ नहीं मिला, ऐसे में बीजेपी ने भी अपने मजबूत काडर वोट की तरफ नजर बढ़ाया है। इस समय हरियाणा में नॉन-जाट सीएम के तौर पर नायाब सिंह सैनी ने मुख्यमंत्री हैं, जो अभी तक प्रदेश अध्यक्ष पद की कमान भी संभाल रहे थे और अब प्रदेश अध्यक्ष पद की कमान ब्राह्मण चेहरे को देकर ये संदेश देने की कोशिश दी गई है कि बीजेपी में जाट लीडरशिप के अलावा अन्य समाज से भी लीडरशिप है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -