Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिआपकी भाषा ठीक नहीं, कल बहुमत साबित करें वरना सरकार अल्पमत में मानी जाएगी:...

आपकी भाषा ठीक नहीं, कल बहुमत साबित करें वरना सरकार अल्पमत में मानी जाएगी: कमलनाथ को गवर्नर से झटका

मुख्यमंत्री कमलनाथ को राज्यपाल लालजी टंडन ने तगड़ा झटका दिया है। राज्यपाल ने कहा है कि वो मंगलवार (मार्च 17, 2020) को सदन में बहुमत साबित करें। अगर ऐसा नहीं होता है तो माना जाएगा कि राज्य में कॉन्ग्रेस की सरकार के पास बहुमत नहीं है और वो अल्पमत में है।

मध्य प्रदेश में बहुमत साबित करने से लगातार बच रहे मुख्यमंत्री कमलनाथ को राज्यपाल लालजी टंडन ने तगड़ा झटका दिया है। राज्यपाल ने कहा है कि वो मंगलवार (मार्च 17, 2020) को सदन में बहुमत साबित करें। अगर ऐसा नहीं होता है तो माना जाएगा कि राज्य में कॉन्ग्रेस की सरकार के पास बहुमत नहीं है और वो अल्पमत में है। कमलनाथ को पहले 16 मार्च को बहुमत साबित करने को कहा गया था लेकिन सत्र शुरू होने के बाद इसे 26 मार्च तक स्पीकर ने स्थगित कर दिया। इससे ये समझा जा रहा था कि कॉन्ग्रेस के पास अब अतिरिक्त 10 दिन हैं। लालजी टंडन ने पहले ही नियमानुसार कार्यवाही करने की बात कही थी।

राज्यपाल ने कमलनाथ को लिखा पत्र

कमलनाथ ने भी राज्यपाल टंडन को पत्र लिखा था, जिस पर राज्यपाल ने आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री द्वारा उन्हें लिखे गए पत्र की भाषा अशोभनीय है और संसदीय मर्यादा के अनुरूप नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि कमलनाथ ने सर्वोच्च न्यायालय के जिस निर्णय का जिक्र अपने पत्र में किया है, वो वर्तमान परिस्थितियों में लागू नहीं होता। उन्होंने कहा कि इसका निर्णय अंतिम रूप से फ्लोर टेस्ट के बाद ही हो सकता है, ऐसा सर्वोच्च न्यायालय ने अपने अनेक निर्णयों में कहा है।

इधर विधानसभा सत्र स्थगित होने के बाद भाजपा भी सुप्रीम कोर्ट पहुँच गई है। पार्टी की माँग है कि जल्द से जल्द फ्लोर टेस्ट कराया जाए। जबकि कमलनाथ सरकार 16 विधायकों के इस्तीफे के बाद अल्पमत में लग रही है। 6 अन्य विधायकों ने भी इस्तीफा दिया है, जिसे स्वीकार नहीं किया गया है। कॉन्ग्रेस के कुल 22 विधायक भाजपा के खेमे में जा मिले हैं।

107 Vs 99: आठ वोटों से गिर जाती कमल-सरकार, आज ही खिल जाता मध्य प्रदेश में ‘कमल’

कमल का ‘नाथ’ बना कोरोना: 26 तक विधानसभा स्थगित, उसी दिन राज्यसभा के लिए मतदान

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘लखनऊ को दिल्ली बनाया जाएगा, चारों तरफ से रास्ते सील किए जाएँगे’: चुनाव से पहले यूपी में बवाल की टिकैत ने दी धमकी

राकेश टिकैत ने कहा कि दिल्ली की तरह लखनऊ का भी घेराव किया जाएगा। जिस तरह दिल्ली में चारों तरफ के रास्ते सील हैं, ऐसे ही लखनऊ के भी सील होंगे।

‘हम आपको नहीं सुनेंगे…’: बॉम्बे हाईकोर्ट से जावेद अख्तर को झटका, कंगना रनौत से जुड़े मामले में आवेदन पर हस्तक्षेप से इनकार

जस्टिस शिंदे ने कहा, "अगर हम इस तरह के आवेदनों को अनुमति देते हैं तो अदालतों में ऐसे मामलों की बाढ़ आ जाएगी।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,324FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe