Monday, April 15, 2024
Homeराजनीतिलाल किला के उपद्रवियों को कानूनी सहायता, पैसे भी: पंजाब की कॉन्ग्रेस सरकार ने...

लाल किला के उपद्रवियों को कानूनी सहायता, पैसे भी: पंजाब की कॉन्ग्रेस सरकार ने बनाई कमिटी, चुनावी फायदे पर नजर?

कॉन्ग्रेस विधायक कुलदीप वैद की अगुवाई में बनाई गई कमिटी ऐसे लगभग 100 किसानों के बयान दर्ज कर रही है, जो लाल किला उपद्रव में शामिल थे। अब तक 60 ऐसे किसानों के बयान दर्ज भी किए जा चुके हैं।

पंजाब की कॉन्ग्रेस सरकार ने लाल किला के उपद्रवियों को कानूनी सहायता के साथ-साथ वित्तीय मदद भी देने की योजना बनाई है। याद हो कि गणतंत्र दिवस (26 जनवरी, 2021) के दिन किसानों ने दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च के नाम पर लाल किला पर खालिस्तानी झंडा फहराया था, महिलाओं के साथ बदसलूकी की थी और सैकड़ों पुलिसकर्मियों को घायल कर दिया था। पंजाब सरकार शुरू से इन उपद्रवियों के समर्थन में है।

पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। कॉन्ग्रेस अंतर्कलह से पीड़ित रही है और नवजीत सिंह सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बना कर मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह के पर कुतर दिए गए हैं। ऐसे में लाल किला के उपद्रवियों का समर्थन कर कॉन्ग्रेस फिर से ‘किसान आंदोलन’ की मलाई का स्वाद लेने की कोशिश में है। दिल्ली पुलिस ने जिन भी उपद्रवियों पर केस दर्ज किए हैं, उन सबको समर्थन देकर कॉन्ग्रेस अगला चुनाव जीतना चाहती है।

‘दैनिक जागरण’ की खबर के अनुसार, पंजाब विधानसभा की ओर से कॉन्ग्रेस विधायक कुलदीप वैद की अगुवाई में बनाई गई कमिटी ऐसे लगभग 100 किसानों के बयान दर्ज कर रही है, जो लाल किला उपद्रव में शामिल थे। अब तक 60 ऐसे किसानों के बयान दर्ज भी किए जा चुके हैं और शुक्रवार (30 जुलाई, 2021) को भी 10 किसानों के बयान लिए गए। दीप सिद्धू के नेतृत्व में किसानों ने लाल किला परिसर में हिंसा की थी।

पुलिस ने विरोध प्रदर्शन के लिए रूट तय कर दिया था, लेकिन इसके बावजूद उपद्रवियों ने पुलिस व आम लोगों के साथ हिंसा की थी। लाल किला पर खालिस्तानी झंडा फहरा कर कई घंटों तक हुड़दंग मचाया जा रहा था। दिल्ली पुलिस ने इन उपद्रवियों के खिलाफ केस दर्ज किया था। दीप सिद्धू वहाँ से भाग खड़ा हुआ था, लेकिन बाद में उसे धर-दबोचा गया। विधानसभा कमेटी के चेयरमैन कुलदीप वैद तो यहाँ तक दावा कर बैठे कि किसानों के साथ दिल्ली पुलिस ने ज्यादती की है।

उन्होंने दावा किया कि दिल्ली में किसानों की पिटाई की गई, जबकि वो तो लाल किला की तरफ गए भी नहीं थे। उन्होंने दिल्ली पुलिस पर किसानों को हिरासत में लेकर यातनाएँ देने का आरोप लगाया। उन्होंने दावा किया कि जिन 60 किसानों के बयान लिए गए हैं और 40 किसानों के लिए जाने हैं, उनमें से अधिकतर गरीब परिवार के हैं। कमिटी उन्हें कानूनी सहायता देने के साथ-साथ मुआवज़ा देने की भी सिफारिश करेगी।

इस बारे में कमिटी मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह से इस सम्बन्ध में विचार-विमर्श भी करेगी। इस रिपोर्ट को तैयार करने में समय लग सकता है। हाल ही में पंजाब कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कहा था कि कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने किसानों के विरोध को बखूबी सँभाला। यदि कोई और मुख्यमंत्री होता तो किसानों के गुस्से का खामियाजा केंद्र सरकार की जगह पंजाब सरकार को भुगतना पड़ता। वे नवजोत सिंह सिद्धू को पार्टी का नया प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर आयोजित समारोह में बोल रहे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इलेक्टोरल बॉन्ड्स सफलता की कहानी, पता चलता है पैसे का हिसाब’: PM मोदी ने ANI को इंटरव्यू में कहा – हार का बहाना ढूँढने...

'एक राष्ट्र एक चुनाव' के प्रतिबद्धता जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उन्होंने संसद में भी बोला है, हमने कमिटी भी बनाई हुई है, उसकी रिपोर्ट भी आई है।

‘कॉन्ग्रेस देती है सनातन के खिलाफ ज़हर उगलने वालों का साथ, DMK का जन्म ही इसीलिए’: ANI से इंटरव्यू में बोले PM मोदी –...

पीएम मोदी ने कहा कि 2019 में भी वो काम करके चुनाव मैदान में गए थे और जब वो वापस आए तो अनुच्छेद 370, ट्रिपल तलाक से बहनों को मुक्ति, बैंकों का मर्जर - ये सब काम उन्होंने 100 दिन के अंदर कर दिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe