Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाज'CM अमरिंदर सिंह ने किसानों को संभाला, दिल्ली भेजा': जाखड़ के बयान से उठे...

‘CM अमरिंदर सिंह ने किसानों को संभाला, दिल्ली भेजा’: जाखड़ के बयान से उठे सवाल, सिद्धू से पहले थे पंजाब कॉन्ग्रेस के कैप्टन

"अगर उस वक्त कोई और मुख्यमंत्री होता तो भाजपा के खिलाफ जो नारे लग रहे थे, वे हमारे खिलाफ लग रहे होते। उन्होंने (अमरिंदर सिंह ने) उन्हें बेहतरीन ढंग से संभाला और उन्हें वहाँ (दिल्ली बॉर्डर) भेज दिया।"

पंजाब कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने शुक्रवार (23 जुलाई 2021) को एक चौंकाने वाला खुलासा किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने किसानों के विरोध को बखूबी सँभाला। यदि कोई और मुख्यमंत्री होता तो किसानों के गुस्से का खामियाजा केंद्र सरकार की जगह पंजाब सरकार को भुगतना पड़ता। वे नवजोत सिंह सिद्धू को पार्टी का नया प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर आयोजित समारोह में बोल रहे थे।

जाखड़ ने कहा, “किसान प्रदर्शनकारी बीजेपी के घर में घुस आए, लेकिन बीजेपी उन्हें बाहर नहीं कर पा रही है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पूरा पंजाब प्रदर्शनकारियों के साथ खड़ा है। अगर उस वक्त कोई और मुख्यमंत्री होता तो भाजपा के खिलाफ जो नारे लग रहे थे, वे हमारे खिलाफ लग रहे होते। उन्होंने (अमरिंदर सिंह ने) उन्हें बेहतरीन ढंग से संभाला और उन्हें वहाँ (दिल्ली बॉर्डर) भेज दिया।”

सुनील जाखड़ ने कहा कि अगर स्थिति को ठीक ढंग से नहीं संभाला गया होता तो पंजाब सरकार को कृषि कानून विरोधी प्रदर्शनकारियों का गुस्सा झेलना पड़ता। जाखड़ की इस इस टिप्पणी का लोग यही आशय निकाल रहे हैं कि कॉन्ग्रेस ने मान लिया है कि उसी ने किसानों को विरोध के लिए दिल्ली सीमा पर भेजा है। ध्यान देने वाली बात है कि किसानों का विरोधस्थल अपराध स्थल में तब्दील हो गया है। वहाँ से हमला करने से लेकर यौन उत्पीड़न और हत्या तक की खबरें आई हैं।

जाखड़ की जगह लाये गए सिद्धू का मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के साथ मतभेद जगजाहिर है। इन मतभेदों के बीच ही उन्हें पंजाब में पार्टी की कमान दी गई है। सिद्धू और सिंह के बीच तकरार के बीच पार्टी में अंदरूनी कलह की खबरें लगातार आ रही हैं। हालाँकि आज समारोह में दोनों ने यह संदेश देने की कोशिश की कि अब वे साथ-साथ हैं। पर जानकारों का मानना है कि यह तूफान से पहले की खामोशी जैसा है और अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले पंजाब कॉन्ग्रेस में कलह और तेज होगी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,829FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe