Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीति'आज़ाद कश्मीर' कहाँ है?: मध्य प्रदेश की बोर्ड परीक्षा में पूछा गया भारत-विरोधी सवाल

‘आज़ाद कश्मीर’ कहाँ है?: मध्य प्रदेश की बोर्ड परीक्षा में पूछा गया भारत-विरोधी सवाल

"दिग्विजय सिंह जैसे कॉन्ग्रेस नेता लंबे समय से देश विरोधी और पाकिस्तान के समर्थन वाले बयान देते रहे हैं। अब वे सरकार में हैं तो यह सब होना ही है। हमारा प्रयास है कि जल्द यह सरकार जाए, जिससे कि इस तरह की चीजों पर रोक लगाई जा सके।"

मध्य प्रदेश में दसवीं की बोर्ड परीक्षा में एक ऐसा सवाल पूछा गया, जो पाकिस्तान के नैरेटिव को आगे बढ़ाता है। परीक्षा में ‘आज़ाद कश्मीर’ को लेकर सवाल पूछे गए। ‘आज़ाद कश्मीर’ शब्द का इस्तेमाल पाकिस्तान कश्मीर के उस हिस्से जिस पर उसने कब्जा कर रखा है, यानी ‘पाक अधिकृत कश्मीर’ अथवा ‘Pakistan Occupied Kashmir (PoK)’ के लिए करता है। पाक द्वारा कब्जा किए हुए इलाक़े को ‘आज़ाद’ कह कर मध्य प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार ने भारत विरोधी स्टैंड को आगे बढ़ाया है।

राज्य में विपक्षी पार्टी भाजपा ने भी इस प्रश्न-पत्र को लेकर सवाल उठाए हैं। मध्य प्रदेश शिक्षा मंडल की सामाजिक विज्ञान की परीक्षा में सही जोड़ी मिलाने वाले सवाल (प्रश्न संख्या- 4) में एक विकल्प ‘आज़ाद कश्मीर’ का दिया गया है। इसके बाद प्रश्न नंबर 26 में भी ये दिखाने को कहा गया है कि नक़्शे में ‘आज़ाद कश्मीर’ कहाँ है? इन सवालों के बाद राजनीतिक गलियारों में भी विवाद शुरू हो गया है।

मध्य प्रदेश की परीक्षा में पूछे गए आपत्तिजनक सवाल

भाजपा ने कहा है कि राज्य में कॉन्ग्रेस की सरकार है, ऐसे में इन सवालों का पूछा जाना आश्चर्य वाली बात नहीं है। पार्टी ने कहा कि कॉन्ग्रेस तो वैसे भी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से अलगाववादी आन्दोलनों का समर्थन करती रही है। मध्य प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता हितेश वाजपेयी ने इस सवाल को निंदनीय करार दिया। उन्होंने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा:

“दिग्विजय सिंह जैसे कॉन्ग्रेस नेता लंबे समय से देश विरोधी और पाकिस्तान के समर्थन वाले बयान देते रहे हैं। अब वे सरकार में हैं तो यह सब होना ही है। हमारा प्रयास है कि जल्द यह सरकार जाए, जिससे कि इस तरह की चीजों पर रोक लगाई जा सके।”

इस विषय में अभी तक बोर्ड या मध्य प्रदेश शिक्षा विभाग की तरफ से कोई जवाब या स्पष्टीकरण नहीं आया है। पूरे पेपर में कुल मिला कर दो बार आपत्तिजनक सवाल पूछे गए और दोनों ही बार ‘आज़ाद कश्मीर’ का प्रयोग किया गया।

26 साल बाद परीक्षा, 1 साल विवाद, अब मेरिट जंजाल: कमलनाथ राज में सड़क पर शिक्षा

सत्ता पाकर शिक्षा को कैसे बर्बाद किया जाता है यह कॉन्ग्रेस से सीखना चाहिए

बिना रिसर्च के हैप्पीनेस क्लास: केजरीवाल का प्रपंच, मेलानिया को बेचा जा रहा है प्रोपेगेंडा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,104FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe