Tuesday, September 21, 2021
Homeराजनीति2008 में फार्म हाउस में पार्टी, अब कर रहे इग्नोर: 26/11 पर राहुल गाँधी...

2008 में फार्म हाउस में पार्टी, अब कर रहे इग्नोर: 26/11 पर राहुल गाँधी की चुप्पी 12 साल बाद भी बरकरार

26/11 की बरसी पर पूरा देश मृतकों को श्रद्धांजलि दे रहा है, वहीं कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने चुप्पी साधी हुई है। राहुल ने इस हमले की बाबत एक ट्वीट तक शेयर नहीं किया है। जबकि सोशल मीडिया पर अन्य मुद्दों पर वे ​सक्रिय हैं।

26/11 की 12वीं बरसी पर आज कई भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उस मुंबई हमले की चर्चा कर रहे हैं, जिसमें 170 लोगों से ज्यादा की मौत हुई थी और 300 से अधिक घायल हुए थे। 26 नवंबर 2008 को 10 इस्लामी आतंकियों ने भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई में घुस कर 4 दिन तक भारी तबाही मचाई थी। उन्होंने कई इलाकों में गोलीबारी और बमबारी करते हुए खून की नदियाँ बहाई थी। 

इन आतंकियों ने 26 नवंबर से 29 नवंबर 2008 के बीच में पूरे देश को भयभीत कर दिया था। आज उसी दिन को याद करते जहाँ पूरा देश पाकिस्तान की आलोचना कर रहा है, मृतकों को श्रद्धांजलि दे रहा है, वहीं कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने इस पर चुप्पी साधी हुई है। राहुल ने इस हमले को लेकर एक ट्वीट तक शेयर नहीं किया है। वहीं कॉन्ग्रेस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट शेयर हुआ है।

हैरानी की बात यह है कि ऐसा नहीं है कि राहुल गाँधी ने सोशल मीडिया से दूरी बनाने के कारण इस मामले पर कुछ टिप्पणी न की हो। वह सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव हैं। उन्होंने किसानों के प्रोटेस्ट पर पुलिस एक्शन की निंदा की है। लेकिन उन्होंने एक ट्वीट भी 26/11 पर नहीं किया। उनके अन्य ट्वीटों में उन्होंने फुटबॉलर डिएगो माराडोना, कॉन्ग्रेस नेता अहमद पटेल और शिया नेता डॉ. मौलाना कल्बे की मृत्यु पर अपनी संवेदना व्यक्त की है।

गौरतलब है कि राहुल गाँधी का ऐसा असंवेदनशील रवैया पहली दफा उजागर नहीं हुआ है। पिछले साल 2019 भी राहुल ने इस मौके पर कुछ नहीं कहा था और न ही आतंकी हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी थी। इसके अलावा साल 2008 में जब पाकिस्तान के आतंकी मुंबई के लोगों को सड़कों पर मार रहे थे, उसके कुछ दिन बाद ही गाँधी परिवार के युवराज दिल्ली में पार्टी कर रहे थे। 

इंडिया टुडे की खबर का स्क्रीनशॉट

मीडिया खबरों में बताया गया था कि उस समय दिल्ली के बाहरी इलाके में राहुल गाँधी अपने बचपन के दोस्त समीर शर्मा की संगीत रस्म में पहुँचे थे। वह राधे मोहन चौक पर स्थित फार्म हाउस में थे। इंडिया टुडे में, इस संगीत रस्म को लेकर लिखा गया था, “शनिवार की रात का संगीत ‘दिलकश’ था। इसे दुल्हन की बहन लीना मुसाफिर और उसके पति इंद्र द्वारा होस्ट किया गया था। पार्टी में 800 से अधिक मेहमानों ने भाग लिया, जिसमें पेज 3 लोग भी शामिल थे।”

इस आर्टिकल में कॉर्पोरेट वकील अजय बहल को कोट करके लिखा था, “राहुल गाँधी के इस रवैए ने भावी नेताओं पर हमारे यकीन को खो दिया है।” अजय बहल स्वयं 26/11 के दौरान ओबरॉय अस्पताल में फँस गए थे, लेकिन होटल स्टाफ की मदद से बच निकलने में सफल रहे थे।

बता दें कि आज राहुल गाँधी की असंवेदनशीलता इसलिए भी चौंकाने वाली नहीं है, क्योंकि उन्होंने जब 26/11 के दौरान ही कुछ नहीं बोला और पार्टी मनाते रहे, तो जाहिर है उन्हें 12 साल बाद क्यों लगेगा कि मुंबई में आतंकी हमले जैसा कुछ हुआ था। मगर शर्मनाक ये जरूर है कि कॉन्ग्रेस ऐसे लापरवाह नेता को यूथ का चेहरा बताती है और उनमें भावी प्रधानमंत्री के सारे गुण देखती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अमित शाह के मंत्रालय ने कहा- हिंदू धर्म को खतरा काल्पनिक’: कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता को RTI एक्टिविस्ट बता TOI ने किया गुमराह

TOI ने एक खबर चलाई, जिसका शीर्षक था - 'RTI: हिन्दू धर्म को खतरा 'काल्पनिक' है - केंद्रीय गृह मंत्रालय' ने कहा'। जानिए इसकी सच्चाई क्या है।

NDTV से रवीश कुमार का इस्तीफा, जहाँ जा रहे… वहाँ चलेगा फॉर्च्यून कड़ुआ तेल का विज्ञापन

रवीश कुमार NDTV से इस्तीफा दे चुके हैं। सोर्स बता रहे हैं कि देने वाले हैं। मैं मीडिया में हूँ, मुझे सोर्स से भी ज्यादा भीतर तक की खबर है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,490FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe