वो तो रैली की गर्मी में मुँह से निकल गया: राहुल गाँधी का राफ़ेल के झूठ पर बयान

राहुल गाँधी ने राफेल मामले पर हमेशा की तरह ही समर्थकों में जोश भरने के लिए झूठा बयान देते हुए कहा था कि सुप्रीम कोर्ट ने भी माना है कि चौकीदार चोर है।

राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट में 23 अप्रैल को सुनवाई है। सुनवाई से एक दिन पहले राहुल गाँधी ने स्वीकार करते हुए कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने माना कि चौकीदार चोर है वाली बात उनके मुँह से समर्थकों में जोश भरने के लिए ‘चुनावों की गर्मी’ के कारण निकल गई थी।

राहुल गाँधी ने राफेल मामले पर हमेशा की तरह ही समर्थकों में जोश भरने के लिए झूठा बयान देते हुए कहा था कि सुप्रीम कोर्ट ने भी माना है कि चौकीदार चोर है। राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल गाँधी ने कोर्ट का नाम लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए टिप्पणी की थी, “सुप्रीम कोर्ट ने भी माना है कि चौकीदार चोर है।” इसी बयान को लेकर मीनाक्षी लेखी ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के ख़िलाफ़ आपराधिक अवमानना याचिका दाखिल की थी।

भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी ने राहुल गाँधी पर कई आरोप लगाते हुए कोर्ट में अवमानना याचिका दायर की थी। राहुल के खिलाफ दायर अवमानना याचिका पर सोमवार को राहुल की ओर से सफाई देने की उम्मीद के चलते कॉन्ग्रेस अध्यक्ष की ओर से ये बयान आया है। राहुल गाँधी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की अवमानना संबंधी याचिका पर कोर्ट ने राहुल गांधी को 15 अप्रैल को नोटिस जारी किया था। कोर्ट ने राहुल गाँधी को 22 अप्रैल तक जवाब दाखिल करने का कहा था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल ने 10 अप्रैल को नामांकन के बाद मीडिया के समक्ष राफेल सौदे को लेकर ‘चौकीदार चोर है’ का बयान दिया था। राहुल का यह बयान जब मीडिया में आया तो भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीमकोर्ट में याचिका दाखिल की थी। चुनावी रैलियों में राहुल गाँधी राफेल से जुड़े झूठे बयान देते रहते हैं। हाल ही में कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने एक चुनावी रैली में कहा था, “अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी कह दिया है कि चौकीदार चोर है।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

अलीगढ़
भीड़ ने जब मंदिर और पुलिस पर ज्यादा पथराव किया तो बदले में पुलिस ने पत्थरबाजों पर आँसू गैस के गोले छोड़े। इसके बाद वहाँ मौजूद लोगों में भगदड़ मच गई और धरना दे रहीं महिलाएँ भी भाग गईं। देहलीगेट और ऊपरकोट इलाके में सुबह से जारी जुलूस प्रदर्शनों में भीम आर्मी के कार्यकर्ता भी शामिल रहे।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,435फैंसलाइक करें
42,730फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: