Monday, June 17, 2024
Homeराजनीतिकर्नाटक में फाड़े गए राहुल गाँधी के 40 पोस्टर: कॉन्ग्रेस ने BJP पर थोपा...

कर्नाटक में फाड़े गए राहुल गाँधी के 40 पोस्टर: कॉन्ग्रेस ने BJP पर थोपा इल्जाम, कहा- ‘भारत जोड़ो यात्रा की सफलता सहन नहीं हो रही’

कर्नाटक कॉन्ग्रेस ने इस घटना पर लिखा, "भाजपा को ये नहीं पता कि चीजों को जोड़ा और बनाया कैसे जाता है। उनकी संस्कृति में केवल तोड़ना और नष्ट करना शामिल है। भाजपा भारत जोड़ो यात्रा की सफलता को सहन नहीं कर पा रही है।

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान कर्नाटक पहुँचने से पहले ही राहुल गाँधी के पोस्टर फटे पाए गए हैं। फ़टे हुए पोस्टरों की सँख्या लगभग 40 है। ये पोस्टर राहुल गाँधी के स्वागत के लिए सड़क के किनारे लगाए गए थे। इस माह की आने वाली 30 तारीख को राहुल गाँधी अपनी यात्रा के साथ कर्नाटक में प्रवेश करने वाले हैं। कॉन्ग्रेस पार्टी ने इसका इल्जाम भारतीय जनता पार्टी पर लगाया है। घटना 28-29 सितम्बर 2022 के रात की बताई जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार घटना गुंडलपेट हाईवे की है। बताया जा रहा है कि फाड़े गए पोस्टरों में राहुल गाँधी के साथ पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और कॉन्ग्रेस के कुछ अन्य नेताओं की भी तस्वीर लगी थी। इन पोस्टरों को जहाँ लगाया गया था वहीं से राहुल गाँधी की यात्रा केरल से कर्नाटक में प्रवेश करने वाली थी। कॉन्ग्रेस ने पोस्टर फाड़े जाने की घटना का दोष भाजपा को दिया है।

कर्नाटक कॉन्ग्रेस ने इस घटना पर 29 सितम्बर 2022 को ट्वीट करते हुए लिखा, “भाजपा को ये नहीं पता कि चीजों को जोड़ा और बनाया कैसे जाता है। उनकी संस्कृति में केवल तोड़ना और नष्ट करना शामिल है। भाजपा भारत जोड़ो यात्रा की सफलता को सहन नहीं कर पा रही है। अब भाजपा उस अवस्था में है जहाँ वो अपनी खीज बैनरों पर उतार रही है।”

गौरतलब है कि 7 सितम्बर 2022 से शुरू हुई राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा 22वें दिन में पहुँच चुकी है। 30 सितम्बर 2022 को उनकी यात्रा केरल से खत्म हो कर कर्नाटक में प्रवेश करेगी। यह यात्रा कर्नाटक के चमराजनगर से होते हुए आगे बढ़ेगी। फ़िलहाल यात्रा की शुरुआत कन्याकुमारी से करने के दौरान कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया मौजूद नहीं थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -