Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिगजब प्रतिभा या अजब संयोग: राजस्थान के शिक्षा मंत्री की बहू और उनके भाई-बहन,...

गजब प्रतिभा या अजब संयोग: राजस्थान के शिक्षा मंत्री की बहू और उनके भाई-बहन, सबको RAS इंटरव्यू में नंबर 80

डोटासरा ने कहा है कि RAS 2016 के समय प्रतिभा की नौवीं रैंक आई थी और तब प्रतिभा उनकी पुत्रवधू भी नहीं थीं। साथ ही कहा है कि उनके भाई-बहन भी अपने क्षेत्र के टॉपर हैं, ऐसे में उनका 80 अंक प्राप्त करना संभव है।

कई परीक्षार्थियों को एक जैसे नंबर आना नई बात नहीं है। लेकिन राजस्थान प्रशासनिक परीक्षा (RAS) के इंटरव्यू में तीन अभ्यर्थियों को एक समान नंबर ने सबको चौंका दिया है। अब यह संयोग है या समान प्रतिभा या कुछ और, कहना मुश्किल है। ये तीनों अभ्यर्थी राजस्थान प्रदेश कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष और गहलोत सरकार में शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के रिश्तेदार हैं।

इन तीन में से एक को RAS 2016 तो दो को 2018 के इंटरव्यू में समान नंबर मिले हैं। RAS 2016 के इंटरव्यू में डोटासरा की पुत्रवधू प्रतिभा पूनिया को 80 अंक मिले। वहीं RAS 2018 के इंटरव्यू में प्रतिभा के भाई-बहन का चयन हुआ। प्रतिभा के भाई गौरव और बहन प्रभा को भी इंटरव्यू में 80-80 अंक मिले है। इसके बाद सोशल मीडिया में कई लोग आश्चर्य व्यक्त कर रहे हैं।

मीडिया खबरों के मुताबिक RAS के परिणाम सामने आने के बाद शिक्षा मंत्री डोटासरा पर पद के दुरुपयोग का आरोप भारतीय जनता पार्टी लगा रही है। भाजपा का कहना है कि शिक्षा मंत्री ने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए रिश्तेदारों को अफसर बनवाने का काम किया है।

इस मामले में सफाई देते हुए डोटासरा ने कहा है कि RAS 2016 के समय प्रतिभा की नौवीं रैंक आई थी और तब प्रतिभा उनकी पुत्रवधू भी नहीं थीं। प्रतिभा के साथ उनके बेटे का रिश्ता RAS ट्रेनिंग के दौरान हुआ। डोटासरा ने प्रतिभा के भाई-बहन के बारे में कहा कि दोनों ही अपने क्षेत्र के टॉपर हैं, ऐसे में उनका 80 अंक प्राप्त करना संभव है। डोटासरा ने कहा कि प्रतिभा की बहन प्रभा अपने दौर की टॉपर है और बीडीएस करने के बाद कई सालों से RAS की तैयारी में जुटी हुई है। इसके अलावा डोटासरा ने प्रतिभा के भाई गौरव के बारे में कहा कि वह भी दिल्ली यूनिवर्सिटी का टॉपर है।

हालाँकि इस मामले में ध्यान देने योग्य बात यह है कि जो भी इस मामले में प्रश्न उठा रहा है वह तीनों अभ्यर्थियों के परीक्षा में सफल होने के सामर्थ्य पर प्रश्न नहीं उठा रहा है, बल्कि राज्य के शिक्षा मंत्री और पीसीसी चीफ के रिश्तेदार होने के नाते तीनों अभ्यर्थियों के इंटरव्यू में एक समान अंक प्राप्त करने के संयोग पर प्रश्न उठाया जा रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,341FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe