Sunday, May 29, 2022
Homeराजनीतिउत्तराखंड के इतिहास की पहली महिला विधानसभा अध्यक्ष: फौजी परिवार की ऋतु खंडूरी को...

उत्तराखंड के इतिहास की पहली महिला विधानसभा अध्यक्ष: फौजी परिवार की ऋतु खंडूरी को BJP ने दी बड़ी जिम्मेदारी

ऋतु खंडूरी उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के राधाबल्लभपुरम की रहने वाली हैं। ऋतु खंडूरी का जन्म 29 जनवरी, 1965 को एक फौजी परिवार में हुआ था।

उत्तराखंड में पुष्कर सिंह धामी दोबारा से राज्य के मुख्यमंत्री बन गए हैं। इसी के साथ राज्य विधानसभा के इतिहास में एक नया अध्याय भी राज्य के इतिहास में जुड़ गया है। वो ये कि राज्य को उसकी पहली महिला विधानसभा अध्यक्ष मिल गई हैं। राज्य विधानसभा अध्यक्ष के लिए पूर्व मुख्यमंत्री बीसी खंडूरी की बेटी ऋतु खंडूरी का चयन किया गया है।

उत्तराखंड के गठन के बाद ऐसा पहली बार हो रहा है कि राज्य में एक महिला को विधानसभा अध्यक्ष बनाया जा रहा है। उत्तराखंड बीजेपी के अध्यक्ष मदन कौशिक ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि पार्टी ने ऋतु खंडूरी के नाम पर मुहर लगा दी है। उल्लेखनीय है ऋतु खंडूरी राज्य की पाँचवीं विधानसभा अध्यक्ष बनेंगी।

कौन हैं ऋतु खंडूरी

गौरतलब है कि ऋतु खंडूरी उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के राधाबल्लभपुरम की रहने वाली हैं। ऋतु खंडूरी का जन्म 29 जनवरी, 1965 को एक फौजी परिवार में हुआ था। उनके पिता भुवन चंद्र खंडूरी आर्मी में थे। इस कारण से पिता की पोस्टिंग के हिसाब से ही उनकी शिक्षा भी हुई। मेरठ के रघुनाथ गर्ल्स कॉलेज से स्नातक करने के बाद राजस्थान विश्वविद्यालय से उन्होंने पीजी किया। जर्नलिज्म में डिप्लोमा धारक होने के साथ ही वो 2006 से 2017 तक एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा में फैकल्टी मेंबर थीं।

वहीं उनके पति राजेश भूषण बेंजवाल बिहार कैडर के आईएएस अधिकारी हैं। मौजूदा वक्त में वो मोदी सरकार में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव हैं। वहीं खुद ऋतु खंडूरी लंबे वक्त से समाजसेवा के कार्यों में शामिल रही हैं। वो करोड़पति हैं और उनके पास चल-अचल 7.26 करोड़ रुपए की संपत्ति है।

2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उन्हें कोटद्वार सीट से चुनावी मैदान में उतारा था। उन्होंने कॉन्ग्रेस सुरेंद्र नेगी को हराया है। पहले यह चर्चा थी कि शायद उन्हें मंत्री पद दिया जाएगा। हालाँकि अब उन्हें विधानसभा अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी दी जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नूपुर शर्मा का सिर कलम करने वाले को ₹20 लाख इनाम का ऐलान, बताया ‘गुस्ताख़-ए-रसूल’: मुस्लिमों को उकसा रहा AltNews वाला जुबैर

तहरीक-ए-लब्बैक (TLP) वही समूह है जिसने कुछ दिनों सियालकोट में पहले श्रीलंकाई नागरिक की हत्या कर दी थी। अब नूपुर शर्मा का सिर कलम करने पर रखा इनाम।

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe