Thursday, May 23, 2024
Homeराजनीति'लालू यादव के बेटे हैं': पंचायत चुनाव से पहले 500-500 का नोट बाँटते तेजस्वी...

‘लालू यादव के बेटे हैं’: पंचायत चुनाव से पहले 500-500 का नोट बाँटते तेजस्वी यादव का वीडियो वायरल, JDU सहित लोगों ने घेरा

"चारा वाला पैसा का सही इस्तेमाल कर रहा है। मुझे विश्वास नहीं हो रहा कि जो जानवरों के मुँह का निवाला छीन लेता हो (चारा घोटाला) वो इंसानों को कैसे पैसा दे रहा है, पता करो दया कुछ तो गड़बड़ है।

बिहार में पंचायत चुनाव के समीप आते ही तरह-तरह के मामले सामने आने लगे हैं। नया मामला RJD प्रमुख लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्‍वी यादव से जुड़ा है। तेजस्‍वी यादव द्वारा गोपालगंज के बैकुंठपुर में महिलाओं को पैसा बाँटने का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में तेजस्वी यादव महिलाओं को 500-500 का नोट बाँटते हुए दिख रहे हैं। पूछे जाने पर बता रहे हैं कि वह लालू यादव के बेटे हैं। 

पंचायत चुनाव की घोषणा होने के बाद तेजस्वी की ओर से की गई इस हरकत पर सियासत शुरू हो गई है। एक तरफ जहाँ समर्थकों को इसमें मानवता और दयालु स्वभाव झलक रहा है, वहीं दूसरी तरफ जनता दल यूनाइटेड ने उनके इस कृत्य को गरीबी का मजाक करार दिया है।

आचार संहिता लागू होने के बाद जनता के बीच नोटों की बारिश करने को लेकर जेडीयू ने नेता प्रतिपक्ष ने तेजस्वी यादव पर हमला बोला है और पैसों का लालच देकर चुनावी प्रक्रिया प्रभावित करने का आरोप लगाया है। 

पूर्व मंत्री और जेडीयू नेता नीरज कुमार ने ट्वीट कर कहा, “कोई जानता नहीं-पहचानता नहीं, कौन है ये राजकुमार जिसने आँचल में रुपया गिराया है। घमंड का खुमार इस कुमार पर इतना छाया, अमीरी-गरीबी का फर्क बताया। कोई पीछे से लालू का लाल है बताता, भूत के वर्तमान का हाल दिखाता, जाओ बबुआ अपनी पहचान बनाओ। आर्थिक लुटेरे होने का दाग मिटाओ।”

वहीं, एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, “पीछे से कोई कहता है कि ये लाल उन्हीं का है जिन्होंने उनकी जमीन लिखवा ली थी। बदले उसके चंद नोट के टुकड़े, आँचल में सबके डाल आया था। लालू के लाल से पूछो गरीबी का मखौल क्यों उड़ाया। वोट को नोट क्यों दिखाया इंसानों की मजबूरी का कुछ तो लिहाज़ कर लो। शर्म कर लो बबुआ।”

जदयू नेता उत्कर्ष सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा, “तेजस्वी यादव ने कल गोपालगंज में महिलाओं को पैसे बाँटे और उसका वीडियो आरजेडी ने सोशल मीडिया पर शेयर किया। अब जेडीयू इस वीडियो के जरिए तेजस्वी यादव पर पंचायत चुनाव की आचार संहिता का उल्लंघन का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की माँग कर रही है।”

एक ट्विटर यूजर ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, “चारा वाला पैसा का सही इस्तेमाल कर रहा है। मुझे विश्वास नहीं हो रहा कि जो जानवरों के मुँह का निवाला छीन लेता हो (चारा घोटाला) वो इंसानों को कैसे पैसा दे रहा है, पता करो दया कुछ तो गड़बड़ है।”

युवा राजद ने अपने आधिकारिक पेज से इस वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा, “आज माननीय नेता प्रतिपक्ष श्री तेजस्वी यादव जी राजद के बैकुंठपुर से माननीय विधायक श्री प्रेमशंकर यादव जी के पैतृक गाँव में ग्रामीण महिलाओं से मिले और आशीर्वाद प्राप्त किया।”

अभिनव राज ने इस पर कमेंट करते हुए लिखा, “पैसा दे कर? इसको आशीर्वाद प्राप्त करना नहीं खरीदना बोलते हैं।”

मामले पर राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने सफाई देते हुए कहा कि बाढ़ पीड़ित महिलाएँ मदद के लिए तेजस्वी यादव के पास आई थीं तो तेजस्वी यादव ने उन लोगों की मदद की। इसमें गलत क्या है? बाढ़ पीड़ितों की मदद करना क्या कोई गुनाह है। चितरंजन गगन ने कहा कि जदयू के पास तो कोई विकल्प है नहीं तो उनके नेता सिर्फ बयानबाजी करेंगे। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -