Sunday, September 19, 2021
Homeराजनीति'ओवैसी को अयोध्या में नहीं घुसने देंगे': संतों का ऐलान, AIMIM के पोस्टर पर...

‘ओवैसी को अयोध्या में नहीं घुसने देंगे’: संतों का ऐलान, AIMIM के पोस्टर पर श्रीराम की नगरी को लिखा ‘फैजाबाद’

''संसद देश का मंदिर है और उसके सदस्य ओवैसी की भाषा ऐसी है। अयोध्या से क्या चिढ़ है? क्यों अयोध्या को फैजाबाद कह रहे हैं? सरकारी अभिलेख में भी अयोध्या नाम दर्ज हो गया है तो पोस्टर पर फैजाबाद नाम दुर्भाग्यपूर्ण है।"

उत्तर प्रदेश​ विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है। इसी बीच खबर है कि असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली AIMIM पार्टी के सम्मेलन को लेकर अयोध्या के संत विरोध में उतर आए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबि​क, 7 सितंबर को अयोध्या मुख्यालय से 40 किमी दूर रुदौली क्षेत्र में AIMIM की ‘शोषित वंचित समाज सम्मेलन’ नाम से सियासी सभा आयोजित की गई है।

इसमें पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी पहुँच रहे हैं। ओवैसी के यूपी दौरे को लेकर उनकी पार्टी एआईएमआईएम ने एक पोस्‍टर जारी क‍िया है, जिसमें उन्होंने अयोध्या को फैजाबाद लिखा है। इसको लेकर संतों ने नाराजगी व्यक्त की है। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर पोस्टर में फैजाबाद की जगह अयोध्या नहीं लिखा गया तो ओवैसी की रैली अयोध्या में नहीं होने दी जाएगी।

हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास का ​कहना है, ”संसद देश का मंदिर है और उसके सदस्य ओवैसी की भाषा ऐसी है। अयोध्या से क्या चिढ़ है? क्यों अयोध्या को फैजाबाद कह रहे हैं? सरकारी अभिलेख में भी अयोध्या नाम दर्ज हो गया है तो पोस्टर पर फैजाबाद नाम दुर्भाग्यपूर्ण है। ओवैसी की विचारधारा की पुरजोर निंदा कर हम पोस्टर को हटाने की माँग करते हैं।”

वहीं, तपस्वी पीठ के महंत जगत गुरु परमहंस आचार्य ने कहा, ”यह मुख्यमंत्री और अयोध्यावासियों का अपमान है। यदि फैजाबाद नाम लिखे पोस्टर नहीं हटाए जाते हैं, तो अयोध्या में ओवैसी का प्रवेश वर्जित किया जाए। हम अयोध्या में एआईएमआईएम के सम्मेलन को किसी भी सूरत में नहीं होने देंगे।

बता दें कि पार्टी के जिला अध्यक्ष शाहनवाज सिद्दीकी ने सफाई देते हुए कहा है कि पहले अयोध्या का नाम फैजाबाद था और बदले हुए नाम को अमल में लाने में वक्त लगेगा। पोस्टर में कहीं अयोध्या भी लिखा है, कहीं फैजाबाद भी। वहीं, ओवैसी ने गुरुवार (2 सितंबर) को कहा था क‍ि वह 7 सितंबर को ‘फैजाबाद’, 8 सितंबर को सुल्तानपुर और 9 सितंबर को बाराबंकी का दौरा करेंगे। उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा क‍ि यह सिर्फ शुरुआत है। हम यूपी में कई जगहों पर जाएँगे। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe