Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिविदेश में पढ़ाई के दौरान मोहब्बत, पहले मजहब फिर सारा के CM पिता फारूक...

विदेश में पढ़ाई के दौरान मोहब्बत, पहले मजहब फिर सारा के CM पिता फारूक अब्दुल्ला बने रोड़ा: सचिन पायलट की लव स्टोरी

सारा के पिता फारूक अब्दुल्ला, भाई उमर अब्दुल्ला और बाकी लोगों ने 2004 में अंतर-धार्मिक राजनीति के कारण उनकी दिल्ली में हो रही शादी समारोह का बहिष्कार किया। संयोगवश उमर अब्दुल्ला ने खुद एक सिख लड़की से शादी की है, लेकिन अपनी बहन के हिंदू लड़के से शादी करने पर आपत्ति जताई थी।

राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बने हुए हैं। उन्होंने अपनी ही सरकार के खिलाफ बगावत कर दी है और कहा है कि राज्य की अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है। साथ ही उन्हें 25 विधायकों का समर्थन भी हासिल है। इस बयान के बाद ‘रेगिस्तान’ की सियासी धरती गरमा गई है और इसकी आँच दिल्ली तक महसूस की जा रही है।

सचिन पायलट को मंगलवार (जुलाई 14, 2020) को कॉन्ग्रेस पार्टी द्वारा उप मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष के पद से बर्खास्त कर दिया गया। इन सबके बीच सचिन पायलट की पत्नी सारा पायलट भी लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करने में कामयाब रही। खबर आई कि सारा पायलट ने भी राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत पर हमला बोला।

हालाँकि, बाद में पता चला कि न्यूज एजेंसी ने गलती से सारा पायलट के फर्जी अकाउंट को सही समझ लिया था। लेकिन इस खबर ने निश्चित रूप से सवालों की झड़ी लगा दी, जिससे सोशल मीडिया के प्रकोप से बच पाना उनके लिए मुश्किल हो गया।

42 वर्षीय सचिन पायलट की राजनीतिक यात्रा की ही तरह उनकी निजी जिंदगी भी काफी दिलचस्प रही है।

जम्मू और कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला की बेटी सारा पायलट ने 2004 में सचिन पायलट से शादी की थी। जैसा कि इतिहास रहा है, भारत में मुस्लिम लड़कियों के लिए एक समुदाय के बाहर शादी करना कभी आसान नहीं रहा। सारा पायलट के लिए भी ऐसा ही था। सचिन एक राजस्थानी गुर्जर परिवार से हैं, जबकि सारा एक कश्मीरी मुस्लिम हैं। सचिन पायलट और सारा अब्दुल्ला ने जब पहली बार शादी करने का फैसला किया तो उनका अनुभव बहुत शांतिपूर्ण नहीं रहा।

सारा के पिता फारूक अब्दुल्ला, भाई उमर अब्दुल्ला और बाकी लोगों ने 2004 में अंतर-धार्मिक राजनीति के कारण उनकी दिल्ली में हो रही शादी समारोह का बहिष्कार किया। संयोगवश उमर अब्दुल्ला ने खुद एक सिख लड़की से शादी की है, लेकिन अपनी बहन के हिंदू लड़के से शादी करने पर आपत्ति जताई थी।

सारा और सचिन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के दौरान एक दूसरे से मिले थे। एक दूसरे को डेट करने के बाद, दोनों ने सारा के परिवार की तरफ से लगातार आपत्तियों के बावजूद 2004 में एक बंधन में बँधने का फैसला किया।

अब्दुल्ला के लिए, जो राज्य विधानसभा चुनावों में अपने राष्ट्रीय सम्मेलन के हारने के बाद एक कठिन दौर से गुजर रहे हैं, यह संभावना थी कि शादी जम्मू-कश्मीर में उपद्रव मचा देगा।

एक मुस्लिम लड़की के हिंदू लड़के से शादी करने के मुद्दे पर मुस्लिम समुदाय के क्रोध का सामना करने की संभावना से चिंतित, सारा के परिवार ने उनकी शादी का विरोध किया। अब्दुल्ला की पार्टी के सदस्यों ने एक बयान जारी किया जिसमें कहा गया था, “केवल मुस्लिम पुरुष अपने धर्म से बाहर शादी कर सकते हैं लेकिन एक मुस्लिम लड़की केवल एक मुस्लिम से शादी कर सकती है।”

यह बताया गया कि कैसे सारा ने कश्मीर घाटी में एक ‘काफिर’ से शादी करने का अभियान शुरू किया। तब कयास लगाए जा रहे थे कि हिंदू लड़के से शादी करवाकर परिवार ने अपनी बेटी को जहन्नुम में भेजने की तैयारी कर ली है। तब मीडियाकर्मियों से बात करने के लिए भी दोनों में से कोई भी परिवार आगे नहीं आया था।

सारा पायलट ने सिमी ग्रेवाल के चैट शो में एक बार अपने मुश्किल दौर के बारे में बात की। उन्होंने कबूल किया, “आधे से ज्यादा वक्त मैं टूटी हुई थी और सचिन मुझे सँभाला करते थे।” यह पूछे जाने पर कि आखिरकार अब्दुल्ला कैसे आश्वस्त हुए थे, सचिन पायलट ने बस इतना कहा, “हम एक साथ खुश थे।” सचिन और सारा की शादी के लगभग 16 साल हो गए हैं और उनके दो बच्चे आरन और विहान हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe