Tuesday, June 18, 2024
Homeराजनीति'अल्लाह आपको जन्नत में आला मक़ाम दें... आपकी कमी हमेशा खलेगी' - हत्यारे शहाबुद्दीन...

‘अल्लाह आपको जन्नत में आला मक़ाम दें… आपकी कमी हमेशा खलेगी’ – हत्यारे शहाबुद्दीन की मौत पर RJD में शोक

"सिवान ने आज अपना विकास पुरुष नेता खो दिया। आपकी कमी हमेशा खलेगी। अल्लाह आपको जन्नत में आला मक़ाम दें।"

राष्ट्रीय जनता दल के पूर्व सासंद मोहम्मद शहाबुद्दीन की शनिवार (मई 1, 2021) को दिल्ली के पंडित दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। कई मामलों में सजा काट रहा मोहम्मद शहाबुद्दीन काफी समय से तिहाड़ जेल में बंद था। कोरोना पॉजिटिव होने के बाद उसे दिल्ली के पंडित दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

ब‍िहार में आरजेडी के कई नेताओं ने अपराधी और हत्यारे शहाबुद्दीन की मौत पर दुख व्यक्त करते हुए उसे श्रद्धांजलि दी है। आरजेडी नेता और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर शहाबुद्दीन के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

तेजस्वी ने अपने ट्वीट में लिखा है, “पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोरोना संक्रमण के कारण असमय निधन की दुःखद ख़बर पीड़ादायक है। ईश्वर उनको जन्नत में जगह दे, परिवार और शुभचिंतकों को संबल प्रदान करे। उनका निधन पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है। दुख की इस घड़ी में राजद परिवार शोक संतप्त परिजनों के साथ है।”

तेजस्वी के इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए आरजेडी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से लिखा गया, “समस्त राजद परिवार उनके असामयिक निधन पर गहरी शोक संवेदना प्रकट करता है। ईश्वर शोकाकुल परिवार और शुभचिंतकों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करे। आपकी कमी हमेशा खलेगी। अल्लाह आपको जन्नत में आला मक़ाम दें।”

वहीं आरजेडी सिवान के ट्विटर हैंडल से लिखा गया, “सिवान के राजनीति के स्तंभ, पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन साहब कोरोना से जंग हार गए। समस्त राजद परिवार उनके निधन पर गहरी संवेदना प्रकट करता है। ईश्वर उनके परिवार और सभी शुभचिंतकों को इस दुःख की घड़ी में हिम्मत दें। आपकी कमी हमेशा खलेगी। अल्लाह आपको जन्नत में आला मक़ाम दें।”

राजद के प्रदेश अध्यक्ष कारी सोहैब ने शोक व्यक्त करते हुए लिखा, “इस कोरोना महामारी और सिस्टम ने हमारे दल व बिहार के कद्दावर नेता, कौम के हमदर्द और पूर्व लोकसभा सांसद जनाब मोहम्मद शहाबुद्दीन साहब को हमसे छीन लिया। शहाबुद्दीन साहब के वफ़ात की ख़बर सुनकर दिली सदमा हुआ। अल्लाह उन्हें जन्नतुल फिरदौस में आला मकाम अता करे।”

इससे पहले शुक्रवार (अप्रैल 30, 2021) को उन्होंने ट्विटर पर लिखा था, “सिवान के पूर्व लोकसभा सांसद एवं बिहार के कद्दावर नेता जनाब मोहम्मद शहाबुद्दीन साहब के कोरोना संक्रमित होने के बाद अचानक से उनकी तबीयत ज़्यादा खराब होने के कारण उन्हें वेंटिलेटर पर शिफ्ट किया गया है। आप तमाम लोग उनके सेहतयाबी के लिए ज्यादा से ज्यादा दुआ का एहतेमाम करे।”

आरजेडी नेता रविंद्र राय ने दुख व्यक्त करते हुए लिखा, “सिवान के पूर्व सांसद डॉ मोहम्मद शहाबुद्दीन साहब आज इस दुनिया को छोड़ के चले गए। सिवान ने आज एक अपना विकास पुरुष नेता खो दिया। जिसका भरपाई शायद कभी नहीं किया जा सकता। इस महान शख्सियत को तहे दिल से नमन करता हूँ। भगवान इनके आत्मा को शांति प्रदान करे।”

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने भी राजद के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के निधन पर शोक व्यक्त किया। नीतीश कुमार ने कहा कि वे बहुत लंबे समय तक सिवान से विधायक और सांसद रहे। सीएम ने उसकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करने की बात कही।

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के नेता आमिर उल्लाह खान ने भी शहाबुद्दीन की मौत पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “इन्ना लिल्लाहि वा इन्ना इल्लिही राजिओन। शहाबुद्दीन साहब पूर्व सांसद का निधन, परिवार के सदस्यों के प्रति संवेदना। अल्लाह मरहूम की मकफ़रत फरमाए … अमीन।”

बता दें कि शहाबुद्दीन ने चंदा बाबू के दो बेटों को तेजाब से नहला कर मार डाला। इस मामले में उनका तीसरा बेटा गवाह था लेकिन इससे पहले कि वो अदालत पहुँचता, उसकी भी हत्या कर दी गई। लेकिन, इस मामले में आरोपित शहाबुद्दीन का उस समय कुछ नहीं हो पाया। नाम से ही सीवान और आसपास के इलाक़े थर-थर काँपते थे।

1980 के दशक तक सिवान की सियासत में आपराधिक तत्वों का बोलबाला था। 1980 के दशक में कई अपराधों में नाम आने के बाद शहाबुद्दीन ने सियासत में एंट्री की। एक दौर था, जब तेजाब कांड हो, चंद्रशेखर हत्याकांड हो या सिवान में कोई भी अपराध, शहाबुद्दीन का नाम हमेशा सुर्खियों में रहता था। जिले के अस्पताल हो, स्कूल हों या बैंक या फिर कोई भी दफ्तर… हर जगह ‘छोटे सरकार’ के नाम से मशहूर शहाबुद्दीन का कानून चलता था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस जगन्नाथ मंदिर में फेंका गया था गाय का सिर, वहाँ हजारों की भीड़ ने जुट कर की महा-आरती: पूछा – खुलेआम कैसे घूम...

रतलाम के जिस मंदिर में 4 मुस्लिमों ने गाय का सिर काट कर फेंका था वहाँ हजारों हिन्दुओं ने महाआरती कर के असल साजिशकर्ता को पकड़ने की माँग उठाई।

केरल की वायनाड सीट छोड़ेंगे राहुल गाँधी, पहली बार लोकसभा लड़ेंगी प्रियंका: रायबरेली रख कर यूपी की राजनीति पर कॉन्ग्रेस का सारा जोर

राहुल गाँधी ने फैसला लिया है कि वो वायनाड सीट छोड़ देंगे और रायबरेली अपने पास रखेंगे। वहीं वायनाड की रिक्त सीट पर प्रियंका गाँधी लड़ेंगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -