Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतिपाकिस्तान जैसा प्यार कहीं नहीं मिला, 370 हटाने से बढ़ेगा आतंकवाद: शरद पवार

पाकिस्तान जैसा प्यार कहीं नहीं मिला, 370 हटाने से बढ़ेगा आतंकवाद: शरद पवार

पवार ने कहा कि जम्मू कश्मीर एक मुस्लिम बहुल राज्य था और 370 वहाँ के नागरिकों को कुछ विशेष अधिकार देता था। इसे हटाकर सरकार ने यह बताया है कि वह अल्पसंख्यक बहुल राज्य के विरोध में है।

भारत के खिलाफ वैश्विक मंचों पर प्रोपगेंडा को हवा देने के लिए पाकिस्तान भारतीय नेताओं के बयान के इस्तेमाल का कोई मौका नहीं छोड़ता। वह सीमा पर लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रहा है। भारत में आतंकी हमलों की साजिश रच रहा है। बावजूद भारत के विपक्षी नेताओं का पाकिस्तान प्रेम थम नहीं रहा।

अब एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने अपने इसी प्रेम का प्रदर्शन किया है। पवार ने शनिवार (सितंबर 14, 2019) को मुंबई के एनसीपी भवन में अल्पसंख्यकों के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में पाकिस्तान की तारीफ करते हुए कहा कि जो प्यार उन्हें पाकिस्तान में मिला है, वैसा कहीं नहीं मिला। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को मुद्दा बनाकर लोगों के दिलों में डर पैदा किया जा रहा है।

पवार ने कहा, “मैं पाकिस्तान गया हूँ। वहाँ के लोगों में मेहमाननवाजी कूट-कूट कर भरी है। मैं ये अनुभव कर चुका हूँ। पाकिस्तान के लोगों के बारे में गलत चित्र पेश किया जा रहा है कि वहाँ लोग खुश नहीं हैं। उनके साथ अन्याय हो रहा है। यहाँ (भारत) सरकार राजनीतिक लाभ लेने के लिए पाकिस्तान की परिस्थिति के बारे में झूठी खबरें फैला रही है।” उनका कहना है कि पाकिस्तानी ये मानते हैं कि बेशक वह अपने रिश्तेदारों से मिलने के लिए भारत नहीं जा सकते, लेकिन वह भारतीयों के साथ अपने रिश्तेदारों जैसा ही व्यवहार करते हैं।

एनसीपी प्रमुख ने मॉब लिंचिंग मुद्दे को फिर से उठाते हुए कहा कि नफरत के नाम पर समाज के एक विशेष वर्ग को निशाना बनाया जा रहा है, लेकिन दोषियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। उन्होंने कहा कि सांप्रदायिक सद्भाव, विकास के लिए जरूरी है लेकिन देश के वर्तमान शासक ऐसा नहीं सोचते हैं।

वहीं, केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने के फैसले पर पवार ने कहा कि जम्मू कश्मीर एक मुस्लिम बहुल राज्य था और ये अनुच्छेद वहाँ के नागरिकों को कुछ विशेष अधिकार देता था। अनुच्छेद 370 को निष्क्रिय करके सरकार यह बताना चाहती है कि वे अल्पसंख्यक बहुल राज्य के विरोध में हैं। पवार का कहना है कि सरकार की इस कार्रवाई से घाटी में और अधिक आतंकवाद फैलेगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,824FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe