Thursday, April 18, 2024
Homeराजनीतिशशि थरूर पर एक से ज्यादा FIR है जिस मामले में, उसी पर फिर...

शशि थरूर पर एक से ज्यादा FIR है जिस मामले में, उसी पर फिर फैलाया फेक न्यूज… ट्विटर लगा रहा सब पर रोक

जिन लिबरल मीडिया संस्थानों की रिपोर्ट के आधार पर थरूर फेक न्यूज वाली लिंक शेयर कर रहे, उसी मीडिया संस्थान के संपादकों पर न सिर्फ FIR हो रही है बल्कि उनके सोशल मीडिया अकाउंट भी रोके जा रहे हैं।

उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और दिल्ली की पुलिस ने वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर पर फेक न्यूज़ फैलाने के लिए मामला दर्ज कर लिया है। लेकिन तमाम एफ़आईआर के बाद भी कॉन्ग्रेस नेता को दंगाई नवरीत सिंह की ऑटोप्सी (autopsy) को लेकर दावे करने से नहीं रोक पाई

31 जनवरी को शशि थरूर ने अपने ट्वीट में लिखा कि नवरीत की ऑटोप्सी रिपोर्ट के मुताबिक़ उसकी ठुड्डी और कान की हड्डियों में छेद था। इसके बाद थरूर ने सवाल उठाया कि क्या डॉक्टर्स को चुप कराया गया है। 

नवरीत की गोली से मौत को लेकर शशि थरूर का ट्वीट

कॉन्ग्रेस नेता ने अपने ट्वीट में वामपंथी प्रचार पुरोधा ‘द वायर’ की रिपोर्ट का हवाला दिया। यह और बात है कि इसी वजह से द वायर के एडिटर सिद्धार्थ वरदराजन पर एफ़आईआर हुई है। अपने दूसरे ट्वीट में थरूर ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट का हवाला दिया, जिसमें गोली (bullet) के घाव का आरोप लगाया गया था। 

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट में सीएमओ (चीफ मेडिकल ऑफिसर) मनोज शुक्ला का बयान मौजूद है। इसमें उन्होंने कहा था कि ज़मीन पर तेज गति से टकराने की वजह से घाव बने होंगे, और दंगाई नवरीत की मौत तब हुई थी, जब वह पुलिस बैरीकेडिंग तोड़ने के लिए ट्रैक्टर चला रहा था और वह पलट गया।

TOI की रिपोर्ट में आगे नवरीत के परिजनों की बात दोहराई गई है, जिनका कहना था कि ऑटोप्सी करने वाले ‘डॉक्टर्स में से एक’ को गोली का घाव नज़र आया था। फ़िलहाल डॉक्टर्स ने मीडिया या किसी भी अन्य व्यक्ति से बात करने के लिए साफ़ मना कर दिया है। 

हास्यास्पद यह है कि जिन लिबरल मीडिया संस्थानों की रिपोर्ट के आधार पर ये लोग फेक न्यूज वाली लिंक शेयर कर रहे हैं, उसी मीडिया संस्थान के संपादकों पर न सिर्फ FIR हो रही है बल्कि उनके सोशल मीडिया अकाउंट भी रोके जा रहे हैं।

शशि थरूर पर एफ़आईआर 

जैसे ही थरूर, सरदेसाई समेत कई वामपंथी और लिबरल्स ने दावा किया कि गणतंत्र दिवस पर दंगाई नवरीत की मौत गोली लगने की वजह से हुई है, वैसे ही उत्तर प्रदेश पुलिस ने इन सभी पर सीआरपीसी (कोड ऑफ़ क्रिमिनल प्रोसीजर) की धारा 154 के तहत एफ़आईआर दर्ज कर ली।

इस एफ़आईआर में शशि थरूर, इंडिया टुडे के राजदीप सरदेसाई, नेशनल हेराल्ड के सीनियर कंसल्टिंग एडिटर मृणाल पांडेय, कौमी आवाज़ के एडिटर ज़फर आगा, कारवाँ मैगज़ीन के एडिटर और संस्थापक परेश नाथ, कारवाँ के एडिटर अनंत नाथ और इसके एग्जीक्यूटिव एडिटर विनोद के जोस और एक अज्ञात शामिल हैं। 

दिल्ली पुलिस ने शशि थरूर और राजदीप सरदेसाई पर आईपी इस्टेट पुलिस थाने में आईपीसी (इंडियन पेनल कोड) की धारा 120बी (आपराधिक षड्यंत्र), 153 (दंगे भड़काना), 504 (शांति भंग करने के लिए जानबूझ कर अपमानित करना) और 505-1 बी (जनता में भय पैदा करने का उद्देश्य) के तहत एफ़आईआर दर्ज की है। इस एफ़आईआर में परेश नाथ, अनंत नाथ, विनोद के जोस, मृणाल पांडेय और ज़फ़र आगा का नाम शामिल है। 

मध्य प्रदेश पुलिस ने भी शशि थरूर और 6 अन्य लोगों पर दंगाई की मौत के मामले में फेक न्यूज़ फैलाने के लिए एफ़आईआर दर्ज की है।        

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘केवल अल्लाह हू अकबर बोलो’: हिंदू युवकों की ‘जय श्री राम’ बोलने पर पिटाई, भगवा लगे कार में सवार लोगों का सर फोड़ा-नाक तोड़ी

बेंगलुरु में तीन हिन्दू युवकों को जय श्री राम के नारे लगाने से रोक कर पिटाई की गई। मुस्लिम युवकों ने उनसे अल्लाह हू अकबर के नारे लगवाए।

छतों से पत्थरबाजी, फेंके बम, खून से लथपथ हिंदू श्रद्धालु: बंगाल के मुर्शिदाबाद में रामनवमी शोभायात्रा को बनाया निशाना, देखिए Videos

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में रामनवमी की शोभा यात्रा पर पत्थरबाजी की घटना सामने आई। इस दौरान कई श्रद्धालु गंभीर रूप से घायल भी हुए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe