Tuesday, March 9, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया ट्रैक्टर पलटने से हुई थी 'किसान' की मौत, 'The Wire' ने परिजनों के नाम...

ट्रैक्टर पलटने से हुई थी ‘किसान’ की मौत, ‘The Wire’ ने परिजनों के नाम पर डॉक्टरों पर मढ़ा दोष: प्रशासन ने फटकारा

'The Wire' ने नवरीत सिंह के परिजनों और एक तथाकथित प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से दावा किया कि दिल्ली पुलिस झूठ बोल रही है। ऑटोप्सी रिपोर्ट में सामने आया है कि सर में लगी चोट के कारण हुए शॉक और हेमरेज से उसकी मौत हुई। मृतक के दादा के हवाले से प्रोपेगंडा पोर्टल ने छापा है कि...

दिल्ली में गणतंत्र दिवस के दिन मंगलवार (जनवरी 26, 2021) को ‘किसान आंदोलन’ के तहत आयोजित ट्रैक्टर रैली में जम कर हिंसा हुई। जहाँ लगभग 400 पुलिसकर्मी घायल हुए, नवरीत सिंह नामक एक प्रदर्शनकारी की भी मौत हो गई। वीडियो में देखा जा सकता था कि ट्रैक्टर पलटने के हादसे के कारण वो घायल हुआ, जिससे उसकी मौत हुई। लेकिन, ‘The Wire’ और सिद्धार्थ वरदराजन लगातार अफवाह फैलाने में लगे हुए हैं।

अब उत्तर प्रदेश में ‘The Wire’ के मालिक सिद्धार्थ वरदराजन के खिलाफ फेक न्यूज़ फैलाने के लिए संज्ञान लिया गया है। उसने मृतक के परिजनों के हवाले से जिस डॉक्टर पर ऑटोप्सी रिपोर्ट में गड़बड़ी का आरोप लगाया है, उसका बयान तक नहीं लिया। साथ ही बड़ी चालाकी से पूरी खबर में सारे आरोप परिजनों के कंधे पर बन्दूक रख कर ही चलाए गए हैं। वरदराजन ने इसे अपने ट्विटर हैंडल से भी शेयर किया। इन मामलों में वरदराजन सहित कइयों के खिलाफ पहले ही एक FIR दर्ज हो चुकी है।

उक्त प्रदर्शनकारी अपने ट्रैक्टर से पुलिस बैरिकेडिंग को तोड़ने का प्रयास कर रहा था। ऐसे ही स्टंट के दौरान ट्रैक्टर पलट गया। ये पूरी वारदात कैमरे में भी कैद हो गई। लेकिन, राजदीप सरदेसाई की अगुआई में मीडिया के एक वर्ग ये अफवाह फैलाने में जुट गया कि उक्त प्रदर्शनकारी को पुलिस ने गोली मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई। जबकि वीडियो के अलावा पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भी इस दावे की पुष्टि नहीं करते।

‘The Wire’ ने ‘किसान आंदोलन’ को लेकर फैलाई फेक न्यूज़

‘The Wire’ ने नवरीत सिंह के परिजनों और एक तथाकथित प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से दावा किया कि दिल्ली पुलिस झूठ बोल रही है। ऑटोप्सी रिपोर्ट में सामने आया है कि सर में लगी चोट के कारण हुए शॉक और हेमरेज से उसकी मौत हुई। मृतक के दादा के हवाले से प्रोपेगंडा पोर्टल ने छापा है कि ऑटोप्सी करने वाले डॉक्टर ने भी सिर में गोली देखी थी, लेकिन उसने कहा कि उसके हाथ बँधे हुए थे और वो कुछ नहीं कर सकता था।

इस मामले में यूपी पुलिस का भी बयान प्रकाशित किया गया है, जिसने कहा है कि उन्होंने बस डॉक्टरों की टीम बनाई थी, जब ये मामले दिल्ली पुलिस का है तो भला वो क्यों इससे छेड़छाड़ करवाएँगे? वहीं ‘विशेषज्ञों’ के हवाले से परिवार को अप्रत्यक्ष रूप से राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग जाने की सलाह दी गई है, ताकि डॉक्टर से पूछताछ हो सके। नवरीत के शरीर पर कई जगह घाव थे, जो एक हो गोली से कैसे हो सकते हैं?

Relevant sections from The Wire article

इसके अलावा, रिपोर्ट में परिवार द्वारा किए गए दावों को दबाने के लिए मृतक का एक वीडियो भी जोड़ा गया। वीडियो का हवाला देते हुए, परिवार ने कहा कि नवरीत के कानों के ऊपर गोली का एक घाव था। लेकिन, रामपुर के जिला अस्पताल में डिप्टी सीएमओ और डॉक्टर मनोज शुक्ला, जिन्होंने पोस्टमार्टम रिपोर्ट तैयार की थी, ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं था। शुक्ला ने कहा कि हो सकता है कि उसके कान पर किसी तरह का कोई लगा हो या फिर वामपंथी पोर्टल को कोई गलत डॉक्यूमेंट्स मिल गया हो।

Relevant section from The Wire article

यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि उत्तर प्रदेश पुलिस और अस्पताल के डिप्टी सीएमओ के मना करने के बावजूद द वायर ने अपने शीर्षक में बदलाव न करके भ्रामक शीर्षक को आगे बढ़ाया। हालाँकि, जिला मजिस्ट्रेट रामपुर ने उन तीन डॉक्टरों की एक हस्ताक्षरित डेक्लरेशन को साझा किया जिन्होंने शव परीक्षण किया था और बताया था कि उपरोक्त आरोप झूठे थे।

हस्ताक्षरित डेक्लरेशन में कहा गया है कि शव परीक्षण में शामिल तीन डॉक्टरों में से किसी ने भी किसी मध्यस्थ या किसी अन्य व्यक्ति से बात नहीं की थी। शव परीक्षण वीडियो-रिकॉर्ड किया गया था और निष्कर्ष अधिकारियों को सीलबंद लिफाफे में दिए गए थे। इसके बाद, द वायर ने उपरोक्त जानकारी को शामिल करने के लिए लेख को अपडेट किया है।

घटनास्थल पर ‘Times Now’ के पत्रकार प्रियांक त्रिपाठी भी मौजूद थे। उन्होंने बताया कि दिल्ली पुलिस तो उक्त प्रदर्शनकारी ‘किसान’ के ट्रैक्टर पलटने के बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल लेकर जाना चाहती थी लेकिन प्रदर्शनकारियों ने ही ऐसे किसी भी प्रयास को नाकाम कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। न वो अस्पताल लेकर गए, न पुलिस को ले जाने दिया। जहाँ एक्सीडेंट के बाद किसान बेहोश पड़ा था, वहाँ अन्य प्रदर्शनकारी लाठी और तलवार लेकर खड़े होकर पुलिस को धमका रहे थे। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सोनिया जी रोई या नहीं? आवास में तो मातम पसरा होगा’: बाटला हाउस केस में फैसले के बाद ट्रोल हुए सलमान खुर्शीद

"सोनिया गाँधी, दिग्वियजय सिंह, सलमान खुर्शीद, अरविंद केजरीवाल और अन्य लोगों जिन्होंने बाटला हाउस एनकाउंटर को फेक बताया था, इस फैसले के बाद पुलिसवालों के परिवार व पूरे देश से माफी माँगेंगे।"

मिथुन दा के बाद क्या बीजेपी में शामिल होंगे सौरभ गांगुली? इंटरव्यू में खुद किया बड़ा खुलासा: देखें वीडियो

लंबे वक्त से अटकलें लगाई जा रही हैं कि बंगाल टाइगर के नाम से प्रख्यात क्रिकेटर सौरव गांगुली बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। गांगुली ने जो कहा, उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि दादा का विचार राजनीति में आने का है।

सलमान खुर्शीद ने दिखाई जुनैद की तस्वीर, फूट-फूट कर रोईं सोनिया गाँधी; पालतू मीडिया गिरते-पड़ते पहुँची!

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के एक तस्वीर लेकर 10 जनपथ पहुँचने की वजह से सारा बखेड़ा खड़ा हुआ है।

‘भारत की समृद्ध परंपरा के प्रसार में सेक्युलरिज्म सबसे बड़ा खतरा’: CM योगी की बात से लिबरल गिरोह को सूँघा साँप

सीएम ने कहा कि भगवान श्रीराम की परम्परा के माध्यम से भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को वैश्विक मंच पर स्थापित किया जाना चाहिए।

‘बलात्कार पीड़िता से शादी करोगे’: बोले CJI- टिप्पणी की हुई गलत रिपोर्टिंग, महिलाओं का कोर्ट करता है सर्वाधिक सम्मान

बलात्कार पीड़िता से शादी को लेकर आरोपित से पूछे गए सवाल की गलत तरीके से रिपोर्टिंग किए जाने की बात चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने कही है।

असमी गमछा, नागा शाल, गोंड पेपर पेंटिंग, खादी: PM मोदी ने विमेंस डे पर महिला निर्मित कई प्रॉडक्ट को किया प्रमोट

"आपने मुझे बहुत बार गमछा डाले हुए देखा है। यह बेहद आरामदायक है। आज, मैंने काकातीपापुंग विकास खंड के विभिन्न स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाया गया एक गमछा खरीदा है।"

प्रचलित ख़बरें

‘हराम की बोटी’ को काट कर फेंक दो, खतने के बाद लड़कियाँ शादी तक पवित्र रहेंगी: FGM का भयावह सच

खतने के जरिए महिलाएँ पवित्र होती हैं। इससे समुदाय में उनका मान बढ़ता है और ज्यादा कामेच्छा नहीं जगती। - यही वो सोच है, जिसके कारण छोटी बच्चियों के जननांगों के साथ इतनी क्रूर प्रक्रिया अपनाई जाती है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

तेलंगाना के भैंसा में फिर भड़की सांप्रदायिक हिंसा, घर और वाहन फूँके; धारा 144 लागू

तेलंगाना के निर्मल जिले के भैंसा नगर में सांप्रदायिक झड़प के बाद धारा 144 लागू कर दी गई है। अतिरिक्त फोर्स तैनात।

सलमान खुर्शीद ने दिखाई जुनैद की तस्वीर, फूट-फूट कर रोईं सोनिया गाँधी; पालतू मीडिया गिरते-पड़ते पहुँची!

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के एक तस्वीर लेकर 10 जनपथ पहुँचने की वजह से सारा बखेड़ा खड़ा हुआ है।

‘सोनिया जी रोई या नहीं? आवास में तो मातम पसरा होगा’: बाटला हाउस केस में फैसले के बाद ट्रोल हुए सलमान खुर्शीद

"सोनिया गाँधी, दिग्वियजय सिंह, सलमान खुर्शीद, अरविंद केजरीवाल और अन्य लोगों जिन्होंने बाटला हाउस एनकाउंटर को फेक बताया था, इस फैसले के बाद पुलिसवालों के परिवार व पूरे देश से माफी माँगेंगे।"

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,354FansLike
81,960FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe