Tuesday, May 28, 2024
Homeराजनीतिशशि थरूर ने विदेश मामलों की स्टैंडिंग कमिटी से किया किनारा, व्यस्तता है कारण...

शशि थरूर ने विदेश मामलों की स्टैंडिंग कमिटी से किया किनारा, व्यस्तता है कारण या ‘demotion’?

सवाल उठना लाज़मी है कि यदि जिस समिति की उन्होंने अध्यक्षता की, उसका सदस्य बनना थरूर की गरिमा के परे था तो कॉन्ग्रेस ने उन्हें शामिल कराने के लिए इतनी जद्दोजहद क्यों की?

पूर्व विदेश राज्य मंत्री और संयुक्त राष्ट्र राजनयिक रह चुके कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर ने विदेश मामलों की संसदीय प्रवर समिति (स्टैंडिंग कमिटी) से अपना नाम वापस ले लिया है। इसका कारण उन्होंने संसद की ही दूसरी, सूचना प्रौद्योगिकी समिति के कार्यों में व्यस्तता को कारण बताया है। पिछली लोकसभा में वे इस समिति के अध्यक्ष थे।

संसदीय परम्परा का हवाला

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक थरूर ने अपनी नियुक्ति के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को धन्यवाद देने के साथ ही कार्यभार संभालने से इंकार कर दिया है। बकौल न्यूज़ 18, शशि थरूर ने कहा कि वे उस पैनल के महज़ एक सदस्य नहीं बनना चाहते, जिसकी वे अध्यक्षता कर चुके हैं। इसके अलावा उन्होंने यह दावा भी किया कि सरकार ने समिति का अध्यक्ष विपक्ष से नियुक्त किए जाने की संसदीय परम्परा का अंत कर दिया है।

उन्होंने इसके अलावा संसदीय सूचना प्रौद्योगिकी समिति के मामलों में अपनी व्यस्तता का भी हवाला दिया। केरल के तिरुवनन्तपुरम से लगातार तीसरी बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले थरूर इसके अध्यक्ष गत 14 सितम्बर को नियुक्त हुए हैं।

कॉन्ग्रेस की गुज़ारिश पर ही हुई थी नियुक्ति

यहाँ अजीब बात यह है कि शशि थरूर का समिति से इस्तीफ़ा उनकी नियुक्ति के दो हफ़्ते से ज़्यादा के बाद आ रहा है, जबकि समिति में उनकी नियुक्ति के समय ही यह बात साफ़ हो गई थी कि उन्हें इस बार अध्यक्ष पद नहीं मिलेगा। लोकसभा चुनावों के बाद समितियों के पुनर्गठन में थरूर को शुरू में इस समिति में शामिल ही नहीं किया गया था। हिंदुस्तान टाइम्स में 27 सितंबर को प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार लोकसभा में कॉन्ग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने बिड़ला से पहले अनौपचारिक मुलाकात कर उन्हें मनाया, उसके बाद कॉन्ग्रेस की ओर से थरूर का नाम शामिल किए जाने का औपचारिक प्रस्ताव भेजा गया। उस समय कॉन्ग्रेस की ओर से तर्क दिया गया कि चूँकि पार्टी अध्यक्षा सोनिया गाँधी ने किसी समिति की सदस्यता नहीं ली है, इसलिए पार्टी के कोटे में एक पद अभी खाली है, जिस पर थरूर की नियुक्ति हो सकती है।

इसके लिए लोकसभा अध्यक्ष के कार्यालय से जारी बुलेटिन में बकायदा उल्लिखित था, “स्पीकर ने दीपक बैज का नामांकन बदल कर विदेश मामलों की समिति से रसायन और उर्वरक समिति में कर दिया है, और डॉ. शशि थरूर को विदेश मामलों की समिति में नियुक्त किया है।” ऐसे में यह सवाल उठना लाज़मी है कि यदि जिस समिति की उन्होंने अध्यक्षता की, उसका सदस्य बनना थरूर की गरिमा के परे था तो कॉन्ग्रेस ने उन्हें शामिल कराने के लिए इतनी जद्दोजहद क्यों की। और अगर यह मनोभाव अगर बाद में भी उत्पन्न हुआ तो इसमें ढाई सप्ताह कैसे लग गए?

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2014 – प्रतापगढ़, 2019 – केदारनाथ, 2024 – कन्याकुमारी… जिस शिला पर विवेकानंद ने की थी साधना वहीं ध्यान धरेंगे PM नरेंद्र मोदी, मतगणना...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सातवें चरण के लिए प्रचार-प्रसार का शोर थमने के साथ थी 30 मई को ही कन्याकुमारी पहुँच जाएँगे, 4 जून को होनी है मतगणना।

पंजाब में Zee मीडिया के सभी चैनल ‘बैन’! मीडिया संस्थान ने बताया प्रेस की आज़ादी पर हमला, नेताओं ने याद किया आपातकाल

जदयू के प्रवक्ता KC त्यागी ने इसकी निंदा करते हुए कहा कि AAP का जन्म मीडिया की फेवरिट संस्था के रूप में हुआ था, रामलीला मैदान में संघर्ष के दौरान मीडिया उन्हें खूब कवर करता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -