Sunday, April 18, 2021
Home राजनीति शशि थरूर ने विदेश मामलों की स्टैंडिंग कमिटी से किया किनारा, व्यस्तता है कारण...

शशि थरूर ने विदेश मामलों की स्टैंडिंग कमिटी से किया किनारा, व्यस्तता है कारण या ‘demotion’?

सवाल उठना लाज़मी है कि यदि जिस समिति की उन्होंने अध्यक्षता की, उसका सदस्य बनना थरूर की गरिमा के परे था तो कॉन्ग्रेस ने उन्हें शामिल कराने के लिए इतनी जद्दोजहद क्यों की?

पूर्व विदेश राज्य मंत्री और संयुक्त राष्ट्र राजनयिक रह चुके कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर ने विदेश मामलों की संसदीय प्रवर समिति (स्टैंडिंग कमिटी) से अपना नाम वापस ले लिया है। इसका कारण उन्होंने संसद की ही दूसरी, सूचना प्रौद्योगिकी समिति के कार्यों में व्यस्तता को कारण बताया है। पिछली लोकसभा में वे इस समिति के अध्यक्ष थे।

संसदीय परम्परा का हवाला

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक थरूर ने अपनी नियुक्ति के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को धन्यवाद देने के साथ ही कार्यभार संभालने से इंकार कर दिया है। बकौल न्यूज़ 18, शशि थरूर ने कहा कि वे उस पैनल के महज़ एक सदस्य नहीं बनना चाहते, जिसकी वे अध्यक्षता कर चुके हैं। इसके अलावा उन्होंने यह दावा भी किया कि सरकार ने समिति का अध्यक्ष विपक्ष से नियुक्त किए जाने की संसदीय परम्परा का अंत कर दिया है।

उन्होंने इसके अलावा संसदीय सूचना प्रौद्योगिकी समिति के मामलों में अपनी व्यस्तता का भी हवाला दिया। केरल के तिरुवनन्तपुरम से लगातार तीसरी बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले थरूर इसके अध्यक्ष गत 14 सितम्बर को नियुक्त हुए हैं।

कॉन्ग्रेस की गुज़ारिश पर ही हुई थी नियुक्ति

यहाँ अजीब बात यह है कि शशि थरूर का समिति से इस्तीफ़ा उनकी नियुक्ति के दो हफ़्ते से ज़्यादा के बाद आ रहा है, जबकि समिति में उनकी नियुक्ति के समय ही यह बात साफ़ हो गई थी कि उन्हें इस बार अध्यक्ष पद नहीं मिलेगा। लोकसभा चुनावों के बाद समितियों के पुनर्गठन में थरूर को शुरू में इस समिति में शामिल ही नहीं किया गया था। हिंदुस्तान टाइम्स में 27 सितंबर को प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार लोकसभा में कॉन्ग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने बिड़ला से पहले अनौपचारिक मुलाकात कर उन्हें मनाया, उसके बाद कॉन्ग्रेस की ओर से थरूर का नाम शामिल किए जाने का औपचारिक प्रस्ताव भेजा गया। उस समय कॉन्ग्रेस की ओर से तर्क दिया गया कि चूँकि पार्टी अध्यक्षा सोनिया गाँधी ने किसी समिति की सदस्यता नहीं ली है, इसलिए पार्टी के कोटे में एक पद अभी खाली है, जिस पर थरूर की नियुक्ति हो सकती है।

इसके लिए लोकसभा अध्यक्ष के कार्यालय से जारी बुलेटिन में बकायदा उल्लिखित था, “स्पीकर ने दीपक बैज का नामांकन बदल कर विदेश मामलों की समिति से रसायन और उर्वरक समिति में कर दिया है, और डॉ. शशि थरूर को विदेश मामलों की समिति में नियुक्त किया है।” ऐसे में यह सवाल उठना लाज़मी है कि यदि जिस समिति की उन्होंने अध्यक्षता की, उसका सदस्य बनना थरूर की गरिमा के परे था तो कॉन्ग्रेस ने उन्हें शामिल कराने के लिए इतनी जद्दोजहद क्यों की। और अगर यह मनोभाव अगर बाद में भी उत्पन्न हुआ तो इसमें ढाई सप्ताह कैसे लग गए?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदू धर्म-अध्यात्म की खोज में स्विट्जरलैंड से भारत पैदल: 18 देश, 6000 km… नंगे पाँव, जहाँ थके वहीं सोए

बेन बाबा का कोई ठिकाना नहीं। जहाँ भी थक जाते हैं, वहीं अपना डेरा जमा लेते हैं। जंगल, फुटपाथ और निर्जन स्थानों पर भी रात बिता चुके।

जिसने उड़ाया साधु-संतों का मजाक, उस बॉलीवुड डायरेक्टर को पाकिस्तान का FREE टिकट: मिलने के बाद ट्विटर से ‘भागा’

फिल्म निर्माता हंसल मेहता सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इस बार विवादों में घिरने के बाद उन्होंने...

फिर केंद्र की शरण में केजरीवाल, PM मोदी से माँगी मदद: 7000 बेड और ऑक्सीजन की लगाई गुहार

केजरीवाल ने पीएम मोदी से केंद्र सरकार के अस्पतालों में 10,000 में से कम से कम 7,000 बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करने और तुरंत ऑक्सीजन मुहैया कराने की अपील की है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

राहुल गाँधी अब नहीं करेंगे चुनावी रैली: 4 राज्य में जम कर की जनसभा, बंगाल में हार देख कोरोना का बहाना?

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस, लेफ्ट पार्टियों के साथ गठबंधन में है लेकिन उनके सरकार बनाने की संभावनाएँ न के बराबर हैं। शायद यही कारण है कि...

रामनवमी के अवसर पर अयोध्या न आएँ, घरों में पूजा-अर्चना करें: रामनगरी के साधु-संतों का फैसला, नहीं लगेगा मेला

CM योगी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से अयोध्या के संतों से विकास भवन में वार्ता की। वार्ता के बाद संत समाज ने राम भक्तों से अपील की है कि...

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

सोशल मीडिया पर नागा साधुओं का मजाक उड़ाने पर फँसी सिमी ग्रेवाल, यूजर्स ने उनकी बिकनी फोटो शेयर कर दिया जवाब

सिमी ग्रेवाल नागा साधुओं की फोटो शेयर करने के बाद से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। उन्होंने कुंभ मेले में स्नान करने गए नागा साधुओं का...

’47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार सिर्फ मेरे क्षेत्र में’- पूर्व कॉन्ग्रेसी नेता और वर्तमान MLA ने कबूली केरल की दुर्दशा

केरल के पुंजर से विधायक पीसी जॉर्ज ने कहा कि अकेले उनके निर्वाचन क्षेत्र में 47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार हुईं हैं।

ऑडियो- ‘लाशों पर राजनीति, CRPF को धमकी, डिटेंशन कैंप का डर’: ममता बनर्जी का एक और ‘खौफनाक’ चेहरा

कथित ऑडियो क्लिप में ममता बनर्जी को यह कहते सुना जा सकता है कि वो (भाजपा) एनपीआर लागू करने और डिटेन्शन कैंप बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

रोजा-सहरी के नाम पर ‘पुलिसवाली’ ने ही आतंकियों को नहीं खोजने दिया, सुरक्षाबलों को धमकाया: लगा UAPA, गई नौकरी

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले की एक विशेष पुलिस अधिकारी को ‘आतंकवाद का महिमामंडन करने’ और सरकारी अधिकारियों को...

जहाँ इस्लाम का जन्म हुआ, उस सऊदी अरब में पढ़ाया जा रहा है रामायण-महाभारत

इस्लामिक राष्ट्र सऊदी अरब ने बदलते वैश्विक परिदृश्य के बीच खुद को उसमें ढालना शुरू कर दिया है। मुस्लिम देश ने शैक्षणिक क्षेत्र में...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,232FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe