Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिबांग्लादेश में PM मोदी के भाषण पर ट्वीट कर फँसे कॉन्ग्रेस के MP शशि...

बांग्लादेश में PM मोदी के भाषण पर ट्वीट कर फँसे कॉन्ग्रेस के MP शशि थरूर, कहना पड़ा ‘सॉरी’

"जब मैं गलत होता हूँ तो उसे स्वीकार करने में मुझे बुरा नहीं लगता। कल, त्वरित खबरों की हेडलाइंस और ट्वीट्स के आधार पर मैंने ट्वीट किया था कि हर कोई जानता है कि बांग्लादेश को किसने आजादी दिलाई थी। इसका अर्थ यह था कि नरेंद्र मोदी ने इंदिरा गाँधी के योगदान को स्वीकार नहीं किया था। लेकिन, उन्होंने इसका जिक्र किया था। सॉरी!"

कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर ने अपने एक ट्वीट को लेकर माफी माँग ली है। यह ट्वीट उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बांग्लादेश दौरे के दौरान दिए गए एक भाषण को लेकर किया था। ट्वीट में उन्होंने आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री मोदी ने बांग्लादेश की स्वतंत्रता में पूर्व पीएम इंदिरा गाँधी के योगदान को स्वीकार नहीं किया।

गलत सूचना फैलाने को लेकर हुई छीछालेदर के बाद थरूर ने एक और ट्वीट कर अपनी गलती मानी। उन्होंने लिखा, “जब मैं गलत होता हूँ तो उसे स्वीकार करने में मुझे बुरा नहीं लगता। कल, त्वरित खबरों की हेडलाइंस और ट्वीट्स के आधार पर मैंने ट्वीट किया था कि हर कोई जानता है कि बांग्लादेश को किसने आजादी दिलाई थी। इसका अर्थ यह था कि नरेंद्र मोदी ने इंदिरा गाँधी के योगदान को स्वीकार नहीं किया था। लेकिन, उन्होंने इसका जिक्र किया था। सॉरी!”


थरूर ने अपने ट्वीट में एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए पीएम नरेंद्र मोदी को कोट किया, जिसमें बांग्लादेश की स्वतंत्रता में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी की भूमिका की उन्होंने सराहना की थी। इससे पहले शुक्रवार को थरूर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण पर टिप्पणी करते हुए ट्वीट किया था, “अंतरराष्ट्रीय ज्ञान: हमारे प्रधानमंत्री बांग्लादेश को भारतीय ‘फर्जी खबर’ का स्वाद चखा रहे हैं। हर कोई जानता है कि बांग्लादेश को किसने आजाद कराया।”


थरूर ने गलत सूचनाएँ फैलाने और प्रोपेगेंडा के सरताज NDTV का हवाला देते हुए आरोप लगाया था कि पीएम मोदी ने बांग्लादेश के लिए स्वतंत्रता संग्राम में पूर्व पीएम इंदिरा गाँधी के योगदान को स्वीकार नहीं किया था।

प्रधानमंत्री ने भाषण में क्या कहा था

ढाका के नेशनल परेड ग्राउंड में आयोजित समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश की मुक्ति युद्ध के नायकों को नमन करते हुए अपनी बात रखी थी। बांग्लादेश की आजादी को लेकर भारतीयों की भूमिका का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा था, “मेरी उम्र 20-22 साल रही होगी जब मैंने और मेरे कई साथियों ने बांग्लादेश के लोगों की आजादी के लिए सत्याग्रह किया था। बांग्लादेश की आजादी के लिए संघर्ष में शामिल होना, मेरे जीवन के भी पहले आंदोलनों में से एक था।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि आज बंगबंधु के योगदान को याद करने का दिन है। बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम के लिए भारत के कोने-कोने से समाज के हर वर्ग ने समर्थन दिया था। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी के प्रयास और उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को पूरी दुनिया जानती है। उसी दौर में छह दिसंबर 1971 को अटल बिहारी वाजपेयी जी ने कहा था कि हम इतिहास को नई दिशा देने की कोशिश कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe