Monday, July 22, 2024
HomeराजनीतिPKMKB ट्वीट शेयर किया शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने: घेरने चली थीं शिंदे सरकार...

PKMKB ट्वीट शेयर किया शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने: घेरने चली थीं शिंदे सरकार को, लोगों ने लिए मजे

कॉमन सेंस को कोने में डाल कर... जो समझ में आए-ना आए... ट्वीट कर दो। शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने यही किया। वरना पाकिस्तान को गाली देने वाले PKMKB हैंडल का ट्वीट एक महिला सांसद भला क्यों शेयर करेगी?

पूर्व कॉन्ग्रेस नेता और फिलहाल शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) ने महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) सरकार पर हमला करने के चक्कर में अपनी ही किरकिरी करा ली। बुधवार (5 अक्टूबर 2022) को उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर पीकेएमकेबी (PKMKB) का स्क्रीनशॉट साझा किया है, जिसमें शिंदे सरकार की प्रशंसा की गई है।

महाराष्ट्र में शिवसेना (Shiv Sena) नेतृत्व के खिलाफ बगावत कर एकनाथ शिंदे ने राकांपा-शिवसेना-कॉन्ग्रेस की महाआघाड़ी सरकार को गिरा दिया था। ऐसे में प्रियंका चतुर्वेदी ने शिंदे सरकार पर हमला करने के लिए उनकी प्रशंसा करने वाले ‘पीकेएमकेबी’ (@OfficialPKMKB) के ट्वीट का सहारा लिया। मतलब कॉमन सेंस को कोने में डाल दिया, जो समझ में आए-ना आए… ट्वीट कर दिया।

प्रियंका चतुर्वेदी का PKMKB वाला ट्वीट

इस ट्वीट पर किस-किस तरह के रिएक्शन आए हैं, जरा उनको भी देखा जाए:

अब बात करते हैं ‘पीकेएमकेबी’ हैंडल की। दरअसल, यह एक पैरोडी अकाउंट है। इन दिनों ट्विटर पर पैरोडी अकाउंट्स को काफी पसंद किया जा रहा है। मजाकिया लहजे में खबरें परोसने वाले इन अकाउंट्स में यूजर्स कई बार असली और नकली का फर्क करने में गच्चा खा जाते हैं और फेक न्यूज को असली मानकर शेयर किया जाने लगता है।

पैरोडी अकाउंट्स के ट्वीट को सही समझने की यही गलती शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने भी की। हालाँकि, उनका ध्यान ट्विटर हैंडल के बायो पर नहीं गया होगा, ऐसी उम्मीद कर सकते हैं आप। अगर गया होता तो वह आसानी से समझ सकतीं कि यह एक ट्रोल अकाउंट है और इसका स्क्रीनशॉट साझा नहीं करतीं।

ध्यान देने लायक बात यह भी है कि ‘पीकेएमकेबी’ हैंडल का स्थान कराची, पाकिस्तान की बजाए कराची, भारत लिखा हुआ है। यह तो हर कोई जानता है कि कराची अभी पाकिस्तान का हिस्सा है न कि भारत का। लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि पीकेएमकेबी वास्तव में भारतीयों द्वारा पाकिस्तानियों का मजाक उड़ाने के लिए बनाया गया पैरोडी अकाउंट है।

14 फरवरी 2019 को पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान बलिदान हो गए थे। इसके बाद सीमा पार आतंकी शिविरों को नष्ट करने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी। तब से भारतीय ट्विटर यूजर्स अक्सर ‘पीकेएमकेबी’ का इस्तेमाल यहाँ पाकिस्तान से जुड़ी खबरों को मजाकिया लहजे में शेयर करने के लिए करते हैं, जैसे पाकिस्तान की हार हो, या फिर क्रिकेट मैच हो या फिर कोई और खबर।

पैरोडी अकाउंट और रियल अकाउंट में फर्क न कर पाना प्रियंका चतुर्वेदी के सामान्य ज्ञान पर प्रश्न उठाता है कि वह देश में चल रही गतिविधियों से कितनी अंजान हैं।

प्रियंका चतुर्वेदी और उनका गणित

इससे पहले भी प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने खराब गणित का परिचय देते हुए मोदी सरकार पर हमला किया था। कोरोना वायरस के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान उन्होंने झूठा दावा किया था कि मोदी सरकार ने प्रवासी श्रमिकों के लिए विशेष ट्रेनें चलाकर भारी मुनाफा कमाया है। तब शिवसेना नेता ‘अर्जित राजस्व’ और ‘लाभ’ के बीच के अंतर को समझने में विफल रही थीं।

उस समय प्रियंका चतुर्वेदी के दावों भारतीय रेलवे ने भारी मुनाफा कमाया है, के विपरीत रेलवे ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने पर 2142 करोड़ रुपए खर्च किए थे। लेकिन सिर्फ 429 करोड़ रुपए का राजस्व कमाया था और कोई लाभ नहीं हुआ था। वास्तव में, मोदी सरकार को श्रमिक ट्रेनें चलाने के बाद लगभग 1700 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था।

इससे पहले 2014 की शुरुआत में, उन्हें संख्याओं को गलत तरीके से पढ़ते हुए और मोदी सरकार पर हमला करते हुए भी देखा गया था।

प्रियंका चतुर्वेदी का 2014 वाला ट्वीट

उस समय प्रियंका चतुर्वेदी ने लिखा था कि उपभोक्ता वस्तुओं के लिए औद्योगिक उत्पादन का सूचकांक जून 2014 में 23.4 से जुलाई 2014 में 20.9 हो गया, जो वास्तव में सूचकांक में वृद्धि है। प्रियंका ने इसके जरिए मोदी सरकार पर कटाक्ष करने की कोशिश की थी। जब गलती समझ में आई तो उन्होंने यह ट्वीट डिलीट कर दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -