Sunday, April 14, 2024
Homeराजनीति'दारू इतनी फैला दो कि सब पीएँ और पड़े रहें' - दिग्विजय ने शेयर...

‘दारू इतनी फैला दो कि सब पीएँ और पड़े रहें’ – दिग्विजय ने शेयर किया CM चौहान का एडिटेड वीडियो, FIR दर्ज

शिवराज चौहान ने 12 जनवरी 2020 को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से वीडियो डाल कर दारू फैलाने की बात की थी। - यह दिग्विजय सिंह का कहना है। जबकि भाजपा का कहना है कि ये वीडियो 2 मिनट 19 सेकंड का है, जिसके साथ छेड़छाड़ कर के इसे 9 सेकंड का बना दिया गया और दिग्विजय सिंह ने इसे ट्विटर पर डाल कर जनता को गुमराह किया।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ भोपाल में शिकायत दर्ज कराई गई है। आरोप है कि उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का छेड़छाड़ किया हुआ वीडियो शेयर कर के उनके मुँह में जबरदस्ती वो शब्द डालने की कोशिश की, जो उन्होंने कहा ही नहीं है। बकौल दिग्विजय, शिवराज ने कहा था कि दारू इतनी फैला दो कि सब पीएँ और पड़े रहें। भाजपा का कहना है कि ये वीडियो एडिटेड है।

बता दें कि मध्य प्रदेश में उपचुनाव होने वाले हैं, इसीलिए राजनीतिक माहौल काफ़ी गर्म है। 24 सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव में शिवराज सरकार का भविष्य भी जुड़ा हुआ है। ऐसे में इस तरह की राजनीति होना नई बात नहीं है। भाजपा नेताओं ने रविवार (जून 14, 2020) की रात भोपाल पुलिस क्राइम ब्रांच के समक्ष शिकायत दर्ज कराई। बताया गया कि ये वीडियो उसी दिन दोपहर 2:50 में डाला गया।

दिग्विजय सिंह के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर डाले गए वीडियो और मीम्स के अनुसार, शिवराज सिंह चौहान ने जनवरी 12, 2020 को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से वीडियो डाल कर दारू फैलाने की बात की थी। जबकि भाजपा का कहना है कि ये वीडियो 2 मिनट 19 सेकंड का है, जिसके साथ छेड़छाड़ कर के इसे 9 सेकंड का बना दिया गया और दिग्विजय सिंह ने इसे ट्विटर हैंडल पर डाल कर जनता को गुमराह किया।

एडिशनल एसपी क्राइम ब्रांच निश्चल झारिया ने जानकारी दी कि रविवार की रात को पूर्व मंत्री व विधायक विश्वास सारंग, पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, विधायक कृष्णा गौर, रामेश्वर शर्मा सहित अन्य नेताओं ने लिखित शिकायत दर्ज कराई। वीडियो की कॉपी को भी सबूत के रूप में पेन ड्राइव में डाल कर पुलिस को सौंप दिया गया है। शिकायत में कहा गया है कि कॉन्ग्रेस नेता कमलनाथ की आबकारी नीति में गाँव-गाँव में शराब की दुकानें फैलाने की योजना बनाई जा रही थी।

इसी पर किसी पत्रकार ने जनवरी में शिवराज सिंह चौहान से सवाल पूछे थे। इसी पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने जो कहा, उसे काट-छाँट कर पेश करते हुए वीडियो को अपलोड कर दिया गया। शिवराज सिंह चौहान ने समाज हित की चर्चा करते हुए कॉन्ग्रेस सरकार की आबकारी नीति का कड़ा विरोध किया था। एएसपी झारिया ने कहा कि इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ मामला संज्ञान में लेकर जाँच की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। 

वहीं भोपाल DIG इरशाद वली ने बताया कि सीएम शिवराज सिंह चौहान के पुराने वीडियो को एडिट कर छवि खराब करने के उद्देश्य से सोशल मीडिया पर वायरल करने के मामले को गंभीरता से लिया गया है। उन्होंने कहा कि इस वीडियो को शेयर करने वालों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। दिग्विजय के साथ-साथ इस वीडियो को रीट्वीट करने वाले 11 लोगों के ख़िलाफ़ भी मामला दर्ज किया गया है। 

‘दिग्गी राजा’ पर झूठ फैलाने का आरोप, शिकायत दर्ज

राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि झूठ, फरेब व चरित्र हनन की राजनीति करना कॉन्ग्रेस की आदत है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान का शराब माफियाओं के खिलाफ दिया गया बयान जिस तरह से तोड़ मरोड़ कर वायरल किया गया है, वह उसी की एक कड़ी है। मिश्रा ने बताया कि उन्होंने पुलिस अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए हैं कि जल्दी ही दोषियों पर विधिसम्मत कठोर कार्रवाई की जाए। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP की तीसरी बार ‘पूर्ण बहुमत की सरकार’: ‘राम मंदिर और मोदी की गारंटी’ सबसे बड़ा फैक्टर, पीएम का आभामंडल बरकार, सर्वे में कहीं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी तीसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाती दिख रही है। नए सर्वे में भी कुछ ऐसे ही आँकड़े निकलकर सामने आए हैं।

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe