Wednesday, May 22, 2024
Homeराजनीतिजिन्ना के बाद 'चिलमजीवी' कहने पर घिरे अखिलेश यादव, आक्रोशित संत समाज ने दी...

जिन्ना के बाद ‘चिलमजीवी’ कहने पर घिरे अखिलेश यादव, आक्रोशित संत समाज ने दी चेतावनी, कहा- ओछी राजनीति में हमें न घसीटें

"अखिलेश यादव के इस अनर्गल बयान से आक्रोशित देशभर के सभी संतों ने एक स्वर में भगवा व संतों और सनातन धर्म के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले नेताओं से अपनी ओछी राजनीति में संतों को नहीं घसीटने की अपील की है।"

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आता जा रहा है, वैसे-वैसे नेता अपने शब्दों की मर्यादाओं को तार-तार करते जा रहे हैं। समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव लगातार इस तरह के बयान दे रहे हैं। वो कभी जिन्ना का समर्थन करते हैं तो कभी संतों का अपमान करते हैं। इस बार उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधने के चक्कर में भगवाधारियों को चिलमजीवी कहकर विवाद खड़ा कर दिया है।

उनके इस बयान पर संत समाज ने कड़ी आपत्ति जताते हुए उन्हें परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। इस मामले में अखिल भारतीय संत समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जितेन्द्रानंद सरस्वती ने अखिलेश यादव से माफी माँगने की माँग की है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा, “अखिलेश यादव के इस अनर्गल बयान से आक्रोशित देशभर के सभी संतों ने एक स्वर में भगवा व संतों और सनातन धर्म के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले नेताओं से अपनी ओछी राजनीति में संतों को नहीं घसीटने की अपील की है।”

स्वामी जितेन्द्रानंद ने अखिलेश यादव को माफी नहीं माँगने पर गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। उन्होंने तल्ख लहजे में कहा है कि संत समाज देश भर में घर-घर जाकर ऐसे छद्म समाजवादी और कॉन्ग्रेस के नेताओं के खिलाफ जनजागरण का काम करेगी। सनातन परंपरा के आधार पर ही सीएम योगी आदित्यनाथ विश्वभर में पूजनीय मठ के पीठाधीश्वर हैं।

संत के मुताबिक, भारत में धर्म सत्ता सदा राज सत्ता से ऊँची रही है। संविधान के द्वारा मिले अधिकार के तहत सीएम बनने से किसी को भी इस बात का अधिकार नहीं मिल जाता है के वो उन्हें अपनी ओछी राजनीति में घसीटें।

क्या कहा था अखिलेश यादव ने

सपा प्रमुख अखिलेश यादव बुधवार को गाजीपुर के दौरे पर थे। यहाँ वह विजयरथ यात्रा के चौथे चरण की शुरुआत करने के लिए आए थे। जैसे ही उनका विजय रथ पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर चढ़ा तो उन्होंने भगवाधारी सीएम योगी आदित्यनाथ पर करार हमला किया। उन्होंने भीड़ की ओर इशारा करते हुए कहा कि यहाँ लाल, पीला, हरा और नीला हर तरह के रंग दिख रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक रंग वाले चिलमजीवी लोगों के जीवन में खुशहाली नहीं ला सकते। हम समाजवादी सभी रंगों से परिपूर्ण हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -