आजम खान ने एक-एक इंच जमीन खरीदी है तो दिखाएँ कागज वरना गिरफ्तार हों: अब्दुल सलाम

जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष अब्दुल सलाम ने किसानों की जमीन कब्जाने के आरोप में सांसद आजम खां और पूर्व सीओ आलेहसन को गिरफ्तार किए जाने की माँग की है।

समाजवादी पार्टी से रामपुर के सांसद आजम खान और पूर्व सीओ आलेहसन पर किसानों की जमीन कब्जाने के आरोप में पुलिस ने बुधवार (जुलाई 17, 2019) को एक साथ 8 मामले दर्ज किए। जानकारी के मुताबिक अभी तक जमीन हड़पने के मामले में इन दोनों पर कुल 13 मामले दर्ज हो चुके हैं।

दरअसल, ये मामला मझरा आलियागंज ग्राम का है। यहाँ गाँव वालों ने अजीमनगर थाने में शिकायत दर्ज करवाते हुए आजम खान पर आरोप लगाया है कि उन्होंने समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान जमीन का बैनामा कराने का उन पर दबाव बनाया और जब गाँव वालों ने ऐसा नहीं किया तो तत्कालीन सीओ आलेहसन ने उन्हें अजीमनगर थाने में बंद कर दिया। इतना ही नहीं गाँव वालों को स्मैक रखने के केस में जेल भेजने की धमकी भी दी गई।

बाद में उनकी जमीनों को जौहर यूनिवर्सिटी में मिला लिया गया और इसकी चार दिवारी करवा दी गई। गाँव वालों ने जब अपनी जमीने वापस माँगने का प्रयास किया तो उन्हें डरा धमका कर भगा दिया गया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जमीन मिलने की आस न दिखने पर ग्रामीणों ने मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करने की माँग की। अमर उजाला की खबर के मुताबिक पुलिस ने हनीफ, मतलूब, नब्बू, जुम्मा, नासिर, नाजिम, मुस्तकीम, शरीफ की तहरीर के आधार सांसद आजम खान और पूर्व सीओ आलेहसन के खिलाफ आईपीसी की धारा 342, 384, 447, 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। और फिलहाल अभी पुलिस अपनी जाँच में जुटी है। पुलिस अधीक्षक अजय पाल शर्मा की मानें तो इस संबंध में पुलिस जाँच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

आजतक के मुताबिक पुलिस अधीक्षक ने इस मामले में जानकारी देते हुए बताया कि रामपुर के थाना अजीम नगर में आजम खान और उनके सहयोगी आलेहसन के खिलाफ जमीन हड़पने के आरोपों में किसानों की तहरीरों के आधार पर अब तक कुल 13 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। जिनमें किसानों के साथ मारपीट और जबरन धमकाने जैसे गंभीर आरोप लगाए गए हैं।

खबर के अनुसार पुलिस अधीक्षक का कहना है कि आजम खान और आलेहसन ने किसानों की जमीन को अवैध तरीके से लिया और उन पर कई हजार हेक्टेयर जमीन हासिल करने के लिए जाली कागजात पर साइन करने का दबाव डाला। जब किसानों से ऐसा करने से इनकार किया तो जमीन पर जबरन कब्जा कर लिया। फिलहाल पुलिस टीम आरोपों की जाँच कर रही है, जिसके बाद इसमें अग्रिम कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि इस मामले पर जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष अब्दुल सलाम ने भी किसानों की जमीन कब्जाने के आरोप में सांसद आजम खां और पूर्व सीओ आलेहसन को गिरफ्तार किए जाने की माँग की है। उन्होंने मंगलवार (जुलाई 16, 2019) को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि आजम खान की ओर से दावा किया जाता है कि उन्होंने यूनिवर्सिटी की एक-एक इंच जमीन खरीदी है तो इसकी रजिस्ट्री क्यों नहीं दिखा रहे हैं। सलाम का कहना है कि आजम सरकार और जिला प्रशासन को वह रजिस्ट्री के कागजात दिखाएँ और अगर रजिस्ट्री नहीं है तो जमीन पर से कब्जा छोड़ें।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सबरीमाला मंदिर
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के अवाला जस्टिस खानविलकर और जस्टिस इंदू मल्होत्रा ने इस मामले को बड़ी बेंच के पास भेजने के पक्ष में अपना मत सुनाया। जबकि पीठ में मौजूद जस्टिस चंद्रचूड़ और जस्टिस नरीमन ने सबरीमाला समीक्षा याचिका पर असंतोष व्यक्त किया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,578फैंसलाइक करें
22,402फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: