Monday, August 15, 2022
Homeराजनीतिजिस तारापीठ का नाम लेकर TMC सांसद महुआ मोइत्रा ने माँ काली पर की...

जिस तारापीठ का नाम लेकर TMC सांसद महुआ मोइत्रा ने माँ काली पर की टिप्पणी, वहीं के पुजारी ने किया खंडन: कहा – शास्त्रों में कहीं नहीं लिखा मांस-शराब लेती हैं देवी

"तारामंदिर पीठ के सचिव तारामय मुखर्जी ने टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा माँ काली के अप्रिय चरित्र चित्रण की खिंचाई की है। शास्त्रों के ज्ञान के बिना मंदिर के पुजारी ने उनकी आलोचना की है।"

माँ काली को लेकर टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा की ओछी टिप्पणी पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच बीजेपी और विश्व हिन्दू परिषद ने शनिवार (9 जुलाई 2022) को पश्चिम बंगाल के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन किया। इसके साथ ही बीजेपी ने राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से पूछा है कि आखिर कब तक वो हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करने वाली महुआ मोइत्रा का बचाव आखिर कब तक करेंगी।

इसके साथ ही पार्टी तारापीठ मंदिर के सचिव तारामय मुखर्जी का एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें उन्होंने माँ काली पर महुआ मोइत्रा की टिप्पणी की आलोचना की है। इसी क्रम में बंगाल बीजेपी ने एक पोस्ट शेयर किया, “तारामंदिर पीठ के सचिव तारामय मुखर्जी ने टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा माँ काली के अप्रिय चरित्र चित्रण की खिंचाई की है। शास्त्रों के ज्ञान के बिना मंदिर के पुजारी ने उनकी आलोचना की है।”

तारामय मुखर्जी के मुताबिक, शास्त्रों में ऐसा कहीं नहीं लिखा है कि देवी मांस और शराब का सेवन करती हैं। शास्त्रों में इस तरह से कहने की कोई इजाजत नहीं है। करोक सुधा नाम का एक पेय देवी को अर्पित किया जाता है। लेकिन, ये पेय भी तांत्रिक मंत्रों के उच्चारण और शुद्धिकरण के बाद ही अर्पित किया जाता।

क्या कहा था महुआ मोइत्रा

गौरतलब है कि मंगलवार (5 जुलाई 2022) को डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘काली’ के पोस्टर को लेकर जारी विवाद के बीच कहा था कि काली के कई रूप हैं। उनके लिए काली का मतलब मांस और शराब स्वीकार करने वाली देवी हैं। हालाँकि टीएमसी ने इस बयान से दूरी बना ली थी और इसकी निंदा की थी। पार्टी ने कहा था कि महुआ मोइत्रा द्वारा दिए गए बयान और माँ काली को लेकर उनके द्वारा अभिव्यक्त किए गए विचार उनके निजी हैं और पार्टी किसी भी सूरत में या किसी भी रूप में इसका समर्थन नहीं करती।

लेकिन महुआ इतने पर नहीं रुकी उन्होंने कहा था, “मैं ऐसे भारत में नहीं रहना चाहती, जहाँ सिर्फ भाजपा का पितृसत्तात्मक ब्राह्मणवादी दृष्टिकोण हावी रहेगा और बाकी लोग धर्म के ईर्द-गिर्द घूमते रहेंगे। मैं मरते दम तक अपने बयान का बचाव करती रहूँगी। तुम जितना चाहे FIR दर्ज करवा लो, मैं हर बार इसका कोर्ट में सामना करूँगी।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वो हिंदुस्तानी जो अभी भी नहीं हैं आजाद: PoJK के लोग देख रहे आशाभरी नजरों से भारत की ओर, हिंदू-सिखों का यहाँ हुआ था...

विभाजन की विभीषिका को भी भुलाया नहीं जा सकता। स्वतंत्रता-प्राप्ति का मूल्य समझकर और स्वतन्त्रता का मूल्य चुकाकर ही हम अपनी स्वतंत्रता को सुरक्षित और संरक्षित कर सकते हैं।

वे नहीं रहे… क्योंकि वे हिन्दू थे: अपनी नवजात बेटी को भी नहीं देख पाए गौ प्रेमी किशन भरवाड

27 वर्षीय हिंदू युवक किशन भरवाड़ को कट्टरपंथी मुस्लिमों ने 25 जनवरी 2022 को केवल हिंदू होने के कारण मार डाला था। वजह वही क्योंकि वे हिन्दू थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,977FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe