Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिअल्पसंख्यक समुदाय के छात्रों को सिविल सेवा परीक्षा के लिए मिलेगी मुफ्त कोचिंग और...

अल्पसंख्यक समुदाय के छात्रों को सिविल सेवा परीक्षा के लिए मिलेगी मुफ्त कोचिंग और वजीफा: तेलंगाना सरकार का फैसला

राज्य सरकार उनकी फीस का भुगतान करेगी और उन्हें वजीफा भी प्रदान करेगी। यह योजना उन उम्मीदवारों के लिए उपलब्ध है जिनके माता-पिता की वार्षिक आय 2 लाख से अधिक नहीं है।

तेलंगाना के अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने 8 अक्टूबर को राज्य में अल्पसंख्यक समुदायों के युवाओं को सिविल सेवा परीक्षा को पास करने के लिए एक योजना की घोषणा की। अल्पसंख्यकों के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को सहायता प्रदान करने के लिए सरकार ने घोषणा की है कि वह चयनित उम्मीदवारों को सिविल सेवा परीक्षा के लिए मुफ्त कोचिंग कक्षाएँ प्रदान करेगी।

योजना के तहत, राज्य के 100 अल्पसंख्यक उम्मीदवारों का चयन एक प्रवेश परीक्षा के माध्यम से किया जाएगा, जिन्हें इंस्टीट्यूट में सिविल सेवाओं के लिए कोचिंग कक्षाएँ लेने के लिए भेजा जाएगा। तेलंगाना अल्पसंख्यक आवासीय शैक्षणिक संस्थान सोसायटी (TMREIS) के अध्यक्ष एके खान ने कहा कि चुने गए उम्मीदवार सूचीबद्ध इंस्टीट्यूट में से अपना मनपसंद कोचिंग संस्थान चुन सकेंगे। राज्य सरकार उनकी फीस का भुगतान करेगी और उन्हें वजीफा भी प्रदान करेगी। यह योजना उन उम्मीदवारों के लिए उपलब्ध है जिनके माता-पिता की वार्षिक आय 2 लाख से अधिक नहीं है।

खान ने बताया कि अल्पसंख्यक कल्याण विभाग एक लिखित प्रवेश परीक्षा आयोजित करेगा, जिसके लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। उन्होंने कहा कि चयनित सौ उम्मीदवारों को पूरे साल उचित मार्गदर्शन और प्रोत्साहन प्रदान किया जाएगा। खान ने कहा, “इंशाल्लाह, हमारे पास एक योजना है, जो उन्हें हैदराबाद में सर्वश्रेष्ठ कोचिंग केंद्रों में सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए तैयार है।” उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक उम्मीदवारों के लिए यह एक सुनहरा अवसर है और उन्हें इसका सर्वोत्तम उपयोग करना चाहिए।

पिछले महीने खबर आई थी कि तेलंगाना सरकार वक्फ बोर्ड की न्यायिक शक्तियों का विस्तार करने पर विचार करेंगे। राज्य के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री कोप्पुला ईश्वर ने कहा था कि मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव जल्द ही वक्फ बोर्ड को न्यायिक दर्जा देने के मुद्दे पर विचार करेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe