Monday, September 27, 2021
HomeराजनीतिTMC नेता ने फेसबुक CEO जुकरबर्ग को लिखा पत्र, बंगाल चुनाव से पहले लगाया...

TMC नेता ने फेसबुक CEO जुकरबर्ग को लिखा पत्र, बंगाल चुनाव से पहले लगाया BJP से जुड़े होने का आरोप

उन्होंने फेसबुक से साल 2014 और 2019 में हुए लोकसभा चुनावों की भूमिका पर जानकारी माँगी है। बीबीसी, WSJ व अन्य में प्रकाशित लेखों का हवाला देते हुए कहा है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का झुकाव बीजेपी की ओर है। उन्होंने कंपनी के उच्च प्रबंधन के ख़िलाफ़ लगे इल्जामों के जाँच की माँग भी उठाई है।

कॉन्ग्रेस के बाद अब टीएमसी ने फेसबुक और भाजपा के बीच गठजोड़ को लेकर सवाल उठाए हैं। तृणमूल कॉन्ग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन (Derek O’Brien) ने फेसबुक सीईओ मार्क जुकरबर्ग को पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंने बंगाल में होने वाले चुनावों के मद्देनजर प्लेटफॉर्म की अखंडता को बनाए रखने का अनुरोध किया है। साथ ही राज्य सभा सांसद ने इसमें फेसबुक पर बंगाल के कई पेज और अकॉउंट्स ब्लॉक करने का इल्जाम लगाया है।

इसके अलावा उन्होंने फेसबुक से साल 2014 और 2019 में हुए लोकसभा चुनावों की भूमिका पर जानकारी माँगी है। बीबीसी, WSJ व अन्य में प्रकाशित लेखों का हवाला देते हुए कहा है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का झुकाव बीजेपी की ओर है। उन्होंने कंपनी के उच्च प्रबंधन के ख़िलाफ़ लगे इल्जामों के जाँच की माँग भी उठाई है।

उल्लेखनीय है कि यह पत्र केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के पत्र के बाद लिखा गया है। इससे पहले कानून मंत्री ने कल मार्क जुकरबर्ग को पत्र लिखा था। उन्होंने उस पत्र में साल 2019 के लोकसभा चुनाव का जिक्र किया और गौर करवाया कि इलेक्शन से पहले फेसबुक इंडिया मैनेजमेंट ने दक्षिणपंथी विचारधारा के समर्थकों के पेज डिलीट कर दिए थे या फिर उनकी पहुँच कम कर दी। जबकि फेसबुक को संतुलित और निष्पक्ष होना चाहिए था। उन्होंने आरोप लगाया कि फेसबुक इंडिया टीम में कई वरिष्ठ अधिकारी एक विशेष राजनीतिक विचारधारा के समर्थक हैं।

टीएमसी से पहले याद दिला दें वॉल स्ट्रीट जर्नल ने अपने एक लेख में फेसबुक कंपनी की उच्च अधिकारी अंखी दास पर भाजपा समर्थक होने का आरोप लगाया था। उनकी निष्पक्षता पर केवल इसलिए सवाल उठे थे क्योंकि निजी तौर पर भाजपा व मोदी सरकार की समर्थक थी। इस मामले के गर्माने के बाद भाजपा के आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने भी कॉन्ग्रेस के फेसबुक के साथ संबंधों का खुलासा किया था। साथ ही बताया था कि कॉन्ग्रेस नेता प्रोपगेंडा फैलाने के लिए यूएसए की ल़ॉबी हायर कर रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

एक 'आंगनबाड़ी सेविका' का बेटा वातानुकूलित सुख ले! इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं भला। लेकिन सुख लेने के चक्कर में कन्हैया कुमार ने AC ही उखाड़ लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,789FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe